Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाजखगड़िया में सरस्वती पूजा विसर्जन में शामिल नाबालिग की हत्या, DJ बंद न करने...

खगड़िया में सरस्वती पूजा विसर्जन में शामिल नाबालिग की हत्या, DJ बंद न करने पर बदमाशों ने चलाई गोली: बेगूसराय में एक घायल

रोहियार गाँव में एक गुट मूर्ति को विसर्जित करने के लिए उसे कोसी नदी घाट की तरफ लेकर जा रहे थे। तभी हुआ विवाद।

बिहार (Bihar) के खगड़िया और बेगूसराय जिले से सरस्वती पूजा विसर्जन (Saraswati Puja Immersion) के दौरान हिंसक झड़प की खबरें सामने आई हैं। बताया जा रहा है कि रविवार (6 फरवरी, 2022) को खगड़िया में मानसी थाना क्षेत्र के रोहियार गाँव में मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प हो गई, जिसमें गोली लगने से एक 14 वर्षीय युवक की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, बेगूसराय में नाच के दौरान हर्ष फायरिंग में एक युवक गोली लगने से जख्मी हो गया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, रोहियार गाँव में एक गुट मूर्ति को विसर्जित करने के लिए उसे कोसी नदी घाट की तरफ लेकर जा रहे थे। इसी दौरान रोहियार गाँव का ही निवासी रजंन यादव और उसके समर्थक बीच में आ गए और विसर्जन के दौरान बज रहे डीजे को बंद करने को कहा। देखते ही देखते दोनों गुटों का यह विवाद हाथापाई में बदल गया। हिंसक झड़प में लाठी-डंडे चलने के साथ दो राउंड फायरिंग भी हुई थी।

आरोप है कि इस दौरान रजंन यादव नाम के शख्स ने गोली चला दी, जो विसर्जन में आए संस्कार कुमार नाम के युवक को लग गई। संस्कार रोहियार निवासी शंकर यादव का बेटा है। बताया जा रहा है कि हत्यारोपी रंजन यादव पेशेवर अपराधी है। हाल ही में वह जेल से बाहर आया था। इससे पहले उस पर मानसी पुलिस एवं एसटीएफ पुलिस पर गोली चलाने का आरोप लग चुका है। पुलिस ने बताया कि आरोपित ने जब गोली चलाई, उस वक्त वह नशे में धुत था। अब गाँव में हालात सामान्य है।

बता दें कि झारखंड के हजारीबाग में भी सरस्वती मूर्ति विसर्जन के दौरान इस तरह की घटना सामने आई थी। हजारीबाग के बरही थाना में नईटांड गाँव में लखना दूलमाहा इमामबाड़ा के पास मुस्लिम युवकों की विसर्जन करने जा रहे लोगों से कहासुनी हो गई थी। कहासुनी के दौरान उन्होंने 17 साल के रूपेश कुमार (पिता सिकन्दर पांडेय) के साथ मारपीट की, जिससे वह बेहोश हो गया। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -