Sunday, March 7, 2021
Home देश-समाज सुप्रीम कोर्ट ने एक झटके में राम मंदिर मुद्दे को 30 साल पीछे ढकेल...

सुप्रीम कोर्ट ने एक झटके में राम मंदिर मुद्दे को 30 साल पीछे ढकेल दिया

कुल मिलाकर, जब भी अयोध्या के मुद्दे को वार्ता या मध्यस्थता से सुलझाने की कोशिश की गई नतीजा कोई खास उत्साहवर्धक नहीं रहा।

अयोध्या में राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट का पिछले दिनों एक बड़ा फैसला आया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अयोध्या मसले का समाधान मध्यस्थता से निकाला जाए। मध्यस्थता के लिए पूर्व जस्टिस कलीफुल्ला की अध्यक्षता में एक पैनल बनाया जाएगा। इस पैनल में श्री श्री रविशंकर, वरिष्ठ वकील श्रीराम पांचू होंगे। मध्यस्थता की प्रक्रिया फैज़ाबाद में होगी और यह पूरी तरह से गोपनीय होगी।

इस फैसले के क्या परिणाम होंगे? कुछ कहा नहीं जा सकता। अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। हालाँकि, अयोध्या मामले के इतिहास पर नज़र डाले तो सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला घड़ी को उल्टी दिशा में घुमाकर 30 साल पीछे ले जाता दिखता है। क्योंकि, इससे पहले ऐसी ही कोशिश 1990 में की गई थी। अंतर बस इतना है कि उस समय यह पहल केंद्र सरकार ने की थी और इस बार इसे सुप्रीम कोर्ट द्वारा आगे बढ़ाया जा रहा है।

सबसे पहले इस तरह की मध्यस्थता और बातचीत के पहल की शुरुआत 1986 में हुई थी। उस समय के काँची के शंकराचार्य और आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रेसिडेंट मौलाना अबुल हसन नदवी ने नेगोशिएशन की शुरुआत की थी। पर मामला बन नहीं पाया।

इसके बाद एक बार फिर, 1990 में तब के प्रधानमंत्री वी पी सिंह ने कोर्ट के बाहर कुछ अधिकारियों के साथ मिलकर इस मामले को सुलझाने का प्रयास किया था। इससे पहले कि वो कुछ कर पाते, उनकी सरकार गिर गई और चंद्रशेखर प्रधानमंत्री बने।

1991 में चंद्रशेखर ने भी, चंद्रास्वामी को मध्यस्थ बनाकर ऐसा ही प्रयास किया। उस समय चंद्रास्वामी ने दोनों पक्षों के साथ कई मीटिंग की, पर नतीजा शून्य रहा। उसके बाद गृह राज्य मंत्री सुबोध कान्त सहाय ने तीन मुख्यमंत्रियों मुलायम सिंह यादव, शरद पवार, भैरों सिंह शेखावत के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया। लेकिन यह समिति इससे पहले कि अपना कोई प्रभाव छोड़ पाती उससे पहले ही संसद भंग हो गई।

कालांतर में, 1992 में पी वी नरसिम्हा राव ने फिर बात आगे बढाई। चंद्रास्वामी को फिर से कमान सौपी गई। इससे पहले कि बातचीत पटरी पर आती। विश्व हिन्दू परिषद् ने कार सेवा की अपील कर दी, जिसकी परिणति बाबरी विध्वंश के रूप में हुई। इसके बाद तो लम्बे समय तक दोनों पक्ष अपने-अपने दावों पर डटे रहें।

लम्बे अंतराल के बाद, एक बार फिर 2000-02 के बीच अटल बिहारी बाजपेयी ने पीएमओ में अलग से अयोध्या सेल बनाकर बात आगे बढ़ाई। विश्व हिन्दू परिषद् और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के बीच कई दौर की बातचीत चली। इस बातचीत को आगे बढ़ने में एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी कुणाल किशोर की बड़ी भूमिका थी। लेकिन यह प्रयास भी विफल रहा।  

इसके बाद आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को फिर से बातचीत के लिए 2002-2003 में अप्रोच किया काँची कामकोटी पीठ के नए शंकराचार्य ने। काँची के शंकराचार्य अपने प्रस्ताव के साथ लखनऊ में दारुल उलूम के साथ कई दौर की बातचीत की पहल की। प्रस्ताव के कई पॉइंट्स AIMPLB ने ख़ारिज कर दिए, फलस्वरूप वार्ता एक बार फिर बेपटरी हो गई।

इसके बाद मनमोहन सिंह सरकार अयोध्या के मामले में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई गई। हालाँकि इलाहाबाद हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज पुलक बसु ने 2010 में एक सिग्नेचर अभियान चलाया और अंततः इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि मध्यस्थता अयोध्या के स्थानीय लोगों पर छोड़ देनी चाहिए।

तो कुल मिलाकर, जब भी अयोध्या के मुद्दे को वार्ता या मध्यस्थता से सुलझाने की कोशिश की गई नतीजा कोई खास उत्साहवर्धक नहीं रहा। खैर, इस बार मध्यस्थता की कमान ख़ुद सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में संभाली गई है। अब देखना यह है कि इस मध्यस्थता के क्या परिणाम सामने आते हैं?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

PM मोदी की रैली में मिथुन चक्रवर्ती का भी होगा संबोधन, शुभेंदु ने कहा- TMC आई तो बंगाल बन जाएगा कश्मीर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में रैली करने वाले हैं। इसमें मिथुन चकवर्ती भी मौजूद रहेंगे।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

CM योगी से मिला किसानों का प्रतिनिधिमंडल, कहा- कृष‍ि कानूनों पर भड़का रहे लोग, आंदोलन से आवागमन बाधित होने की शिकायत

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने किसानों के हितों की रक्षा का भरोसा दिलाते हुए कहा कि नए कृषि कानून उनकी आय दोगुनी करने के उद्देश्य से लागू किए गए हैं और इससे कृषकों की आय में निरंतर वृद्धि होगी।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"

‘फेक न्यूज फैक्ट्री’ कॉन्ग्रेस का पैतरा फेल: असम में BJP को बदनाम करने के लिए शेयर किया झारखंड के मॉकड्रिल का पुराना वीडियो

कॉन्ग्रेस को फेक न्यूज की फैक्ट्री कहते हुए बीजेपी के मंत्री ने लिखा, “वीडियो में 2 मिनट पर देखें, किस तरह से झारखंड के मॉक ड्रिल को असम पुलिस द्वारा शूटिंग बताया जा रहा है।”

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

‘वे पेरिस वाले बँगले की चाभी खोज रहे थे, क्योंकि गर्मी की छुट्टियाँ आने वाली हैं’: IT रेड के बाद तापसी ने कहा- अब...

आयकर छापों पर चुप्पी तोड़ते हुए तापसी पन्नू ने बताया है कि मुख्य रूप से तीन चीजों की खोज की गई।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों का इनकार, कहा- पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक हो, मौत का कारण बताएँ: रिपोर्ट

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों ने इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक किए जाने के बाद ही वे शव लेंगे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,962FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe