Friday, June 18, 2021
Home देश-समाज सुप्रीम कोर्ट ने एक झटके में राम मंदिर मुद्दे को 30 साल पीछे ढकेल...

सुप्रीम कोर्ट ने एक झटके में राम मंदिर मुद्दे को 30 साल पीछे ढकेल दिया

कुल मिलाकर, जब भी अयोध्या के मुद्दे को वार्ता या मध्यस्थता से सुलझाने की कोशिश की गई नतीजा कोई खास उत्साहवर्धक नहीं रहा।

अयोध्या में राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट का पिछले दिनों एक बड़ा फैसला आया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अयोध्या मसले का समाधान मध्यस्थता से निकाला जाए। मध्यस्थता के लिए पूर्व जस्टिस कलीफुल्ला की अध्यक्षता में एक पैनल बनाया जाएगा। इस पैनल में श्री श्री रविशंकर, वरिष्ठ वकील श्रीराम पांचू होंगे। मध्यस्थता की प्रक्रिया फैज़ाबाद में होगी और यह पूरी तरह से गोपनीय होगी।

इस फैसले के क्या परिणाम होंगे? कुछ कहा नहीं जा सकता। अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। हालाँकि, अयोध्या मामले के इतिहास पर नज़र डाले तो सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला घड़ी को उल्टी दिशा में घुमाकर 30 साल पीछे ले जाता दिखता है। क्योंकि, इससे पहले ऐसी ही कोशिश 1990 में की गई थी। अंतर बस इतना है कि उस समय यह पहल केंद्र सरकार ने की थी और इस बार इसे सुप्रीम कोर्ट द्वारा आगे बढ़ाया जा रहा है।

सबसे पहले इस तरह की मध्यस्थता और बातचीत के पहल की शुरुआत 1986 में हुई थी। उस समय के काँची के शंकराचार्य और आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रेसिडेंट मौलाना अबुल हसन नदवी ने नेगोशिएशन की शुरुआत की थी। पर मामला बन नहीं पाया।

इसके बाद एक बार फिर, 1990 में तब के प्रधानमंत्री वी पी सिंह ने कोर्ट के बाहर कुछ अधिकारियों के साथ मिलकर इस मामले को सुलझाने का प्रयास किया था। इससे पहले कि वो कुछ कर पाते, उनकी सरकार गिर गई और चंद्रशेखर प्रधानमंत्री बने।

1991 में चंद्रशेखर ने भी, चंद्रास्वामी को मध्यस्थ बनाकर ऐसा ही प्रयास किया। उस समय चंद्रास्वामी ने दोनों पक्षों के साथ कई मीटिंग की, पर नतीजा शून्य रहा। उसके बाद गृह राज्य मंत्री सुबोध कान्त सहाय ने तीन मुख्यमंत्रियों मुलायम सिंह यादव, शरद पवार, भैरों सिंह शेखावत के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया। लेकिन यह समिति इससे पहले कि अपना कोई प्रभाव छोड़ पाती उससे पहले ही संसद भंग हो गई।

कालांतर में, 1992 में पी वी नरसिम्हा राव ने फिर बात आगे बढाई। चंद्रास्वामी को फिर से कमान सौपी गई। इससे पहले कि बातचीत पटरी पर आती। विश्व हिन्दू परिषद् ने कार सेवा की अपील कर दी, जिसकी परिणति बाबरी विध्वंश के रूप में हुई। इसके बाद तो लम्बे समय तक दोनों पक्ष अपने-अपने दावों पर डटे रहें।

लम्बे अंतराल के बाद, एक बार फिर 2000-02 के बीच अटल बिहारी बाजपेयी ने पीएमओ में अलग से अयोध्या सेल बनाकर बात आगे बढ़ाई। विश्व हिन्दू परिषद् और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के बीच कई दौर की बातचीत चली। इस बातचीत को आगे बढ़ने में एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी कुणाल किशोर की बड़ी भूमिका थी। लेकिन यह प्रयास भी विफल रहा।  

इसके बाद आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को फिर से बातचीत के लिए 2002-2003 में अप्रोच किया काँची कामकोटी पीठ के नए शंकराचार्य ने। काँची के शंकराचार्य अपने प्रस्ताव के साथ लखनऊ में दारुल उलूम के साथ कई दौर की बातचीत की पहल की। प्रस्ताव के कई पॉइंट्स AIMPLB ने ख़ारिज कर दिए, फलस्वरूप वार्ता एक बार फिर बेपटरी हो गई।

इसके बाद मनमोहन सिंह सरकार अयोध्या के मामले में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई गई। हालाँकि इलाहाबाद हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज पुलक बसु ने 2010 में एक सिग्नेचर अभियान चलाया और अंततः इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि मध्यस्थता अयोध्या के स्थानीय लोगों पर छोड़ देनी चाहिए।

तो कुल मिलाकर, जब भी अयोध्या के मुद्दे को वार्ता या मध्यस्थता से सुलझाने की कोशिश की गई नतीजा कोई खास उत्साहवर्धक नहीं रहा। खैर, इस बार मध्यस्थता की कमान ख़ुद सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में संभाली गई है। अब देखना यह है कि इस मध्यस्थता के क्या परिणाम सामने आते हैं?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गंगा किनारे शवों को दफनाने के खिलाफ दर्ज PIL रद्द, HC ने कहा – ‘लोगों के रीति-रिवाजों पर रिसर्च कीजिए, फिर आइए’

"आप हमें बताइए कि जनहित में आपका योगदान क्या है? आपने जिस मुद्दे को उठाया है, उसके हिसाब से आपने जमीन खोद कर कितने शवों को निकाला और उनका अंतिम संस्कार किया?"

‘रेप और हत्या करती है भारतीय सेना, भारत ने जबरन कब्जाया कश्मीर’: TISS की थीसिस में आतंकियों को बताया ‘स्वतंत्रता सेनानी’

राजा हरि सिंह को निरंकुश बताते हुए अनन्या कुंडू ने पाकिस्तान की मदद से जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की कोशिश करने वालों को 'स्वतंत्रता सेनानी' बताया है। इस थीसिस की नजर में भारत की सेना 'Patriarchal' है।

चुनाव के बाद हिंसा, पलायन की जाँच राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग करे: कोलकाता हाई कोर्ट का आदेश

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हुई विभिन्न प्रकार की हिंसा की घटनाओं की जाँच के लिए केंद्र सरकार की ओर से कमिटी बनाई गई थी।

1 लाख कोरोना वॉरियर्स की तैयारी: ट्रेनिंग शुरू, 26 राज्यों के 111 केंद्रों में एक साथ PM मोदी ने किया लॉन्च

फ्रंटलाइन वर्करों के प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत निःशुल्क ट्रेनिंग, स्किल इंडिया का सर्टिफिकेट, खाने-रहने की सुविधा के साथ स्टाइपेंड भी।

‘टिकरी सीमा पर किसानों ने मुझे लगाई आग’: मृतक का वीडियो आया सामने, किसान संगठनों ने अस्पष्ट वीडियो जारी कर बताया आत्महत्या

बलात्कार, छेड़छाड़ और अब एक व्यक्ति को जिंदा जलाए जाने के लिए कड़ी आलोचना के बाद अब 'किसान आंदोलन' के संगठनों ने एक अस्पष्ट वीडियो जारी कर अपना बचाव किया।

‘हम सर्टिफाइड गुंडे हैं, जो शिवसेना भवन पर हमला करने आया उसे प्रसाद मिला’: संजय राउत ने BJP वालों को चेताया

'सामना' ले एग्जीक्यूटिव एडिटर संजय राउत ने दावा किया कि शिवसैनिक ये 'गुंडागिरी' मराठी लोगों के लिए करते हैं। राउत ने इस दौरान भाजपा युवा मोर्चा को चेताया भी।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,667FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe