Sunday, January 17, 2021
Home देश-समाज शशि थरूर ने एक ट्वीट से करोड़ों हिन्दू श्रद्धालुओं को 'नंगा' और 'पापी' कहा,...

शशि थरूर ने एक ट्वीट से करोड़ों हिन्दू श्रद्धालुओं को ‘नंगा’ और ‘पापी’ कहा, लेकिन नंगा हुआ कौन?

कॉन्ग्रेस, राहुल गाँधी के जनेऊ पहनने और डिस्कवरी ऑफ़ गोत्र करने से पहले, हिन्दुओं को 'काशी का अस्सी' की भाषा में वहाँ रखा करती थी जो लिखा नहीं जा सकता। इसलिए कभी नदियों को साफ नहीं किया गया क्योंकि न तो नदियाँ वोट देती हैं, न ही नदी में नहाने वाले इनको वोट देते हैं।

शशि थरूर एक अच्छे वक्ता, बेहतर लेखक, बढ़िया डिप्लोमैट और हमारे दौर के खूबसूरत विचारक हुआ करते थे। फिर इनको एक दिन कुत्ते ने काटा और कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए। उसके बाद से पारिवारिक उद्यम और उसके कूड़ेदानों को सँभालने में इनकी अंतड़ियाँ निकल गईं और स्थिति यह है कि पढ़ा-लिखा आदमी गंगास्नान को ‘हमाम में नंगे’ होने से तौल रहा है।

एक ट्वीट आया है। बड़े आदमी हैं तो ट्वीट कर देते हैं, और फिर नीचे जो सवाल आते हैं उसका जवाब नहीं देते। ट्वीट में इन्होंने बड़ी ही संजीदगी से लिखा है, “गंगा भी स्वच्छ रखनी है और पाप भी यहीं धोने हैं। इस संगम में सब नंगे हैं! जय गंगा मैया की!”

‘जय गंगा मैया’ तो बोलना ज़रूरी है ही क्योंकि सुनंदा पुष्कर की आत्मा की शांति के लिए शशि ब्रो हरिद्वार के गंगा तट पर ही गए थे। संतों के स्नान से तो शरीर का मैल ही शायद गंगा माँ में मिले, लेकिन आपके मन का मैल, सुनंदा पुष्कर की अस्थियों और राख के साथ जो गंगा में मिला, उससे गंगा कितनी मैली हुई, ये कभी सोचा है?

जब शशि थरूर अपनी तृतीय पत्नी सुनंदा पुष्कर की राख हरिद्वार में प्रवाहित करने गए थे

धूर्त आदमी कम शब्दों में बहुत कुछ कह देता है। शब्दों की समझ हो तो आप दो तरह की बात, कन्विन्सिंग तरीके से रख सकते हैं। यहाँ शशि थरूर ने ‘नमामि गंगे योजना’, ‘कुम्भ मेला’, ‘हिन्दुओं की नदी को लेकर आस्था’, ‘संतों समाज को पापी’ कहते हुए, सिर्फ़ एक ट्वीट में सब लपेटकर सरकार की नीतियों और हिन्दुओं के तमाम प्रतीकों पर बहुत कम शब्दों में हमला किया है।

हो न हो, कल तक इनका यह ट्वीट भी आ जाए कि ‘मेरा वो मतलब नहीं था’, क्योंकि इनके एक्सिडेंटल हिन्दू के परनाती मालिक साल भर में जनेऊ पहनने से लेकर अवतार पुरुष बनकर पोस्टरों पर अवतरित हो रहे हैं। राष्ट्रीय किसान की धर्मपत्नी और कॉन्ग्रेस की अंतिम आस, प्रियंका भी ‘गंगा की बेटी’ बनकर कुम्भ में चार फ़रवरी को आ ही रही हैं। देखना यह है कि शब्दों से लैस थरूर जी ये न ट्वीट कर दें – ‘नंगे संतों के पाप से गंदी गंगा को गंगापुत्री प्रियंका ने छूकर किया निर्मल’।

गंगा की बेटी बनकर थरूर के पार्टी की प्रियंका गाँधी कुम्भ नहाने (यानी पाप धोने) आ सकती हैं

शशि थरूर जी, आपका जो भी मतलब है, वो जनता तय कर देगी। जनता तो नेहरू की ‘कुम्भ में डुबकी’ का सच भी निकाल चुकी है, और आपके अस्थि विसर्जन की तस्वीर भी। बाक़ी का काम सुब्रह्मण्यम स्वामी कर ही रहे हैं, इसलिए पाप और पुण्य की बातें आप तो मत ही कीजिए। 

ट्वीट पर ग़ौर किया जाए तो आप देखेंगे कि एक कॉन्ग्रेसी अनजाने में ही ‘नमामि गंगे’ की सफलता को स्वीकार रहा है। लेकिन ये स्वीकार्यता ऐसे ही नहीं आई है, क्योंकि सामने का पानी निर्मल है, और वो दिख रहा है। इस निर्मल पानी के पीछे साढ़े चार साल की वो मेहनत है, जो सीधे तौर पर कभी दिखी नहीं। पानी को गंदा करने वाले स्रोतों (गंदे, बड़े नाले) को रोकने, उसके कचरे को ट्रीटमेंट प्लांट में ट्रीट करने, रीसायकल्ड और रीचार्ज्ड पानी को गंगा में बहाने तक की प्रक्रिया में काफ़ी समय लगा। 

समय लगा, पर उसका फल सीधा दिख रहा है। जब फल दिख रहा हो, तो ‘मुझे माँ गंगा ने बुलाया है’ वाले मीम बनाने से लेकर ‘राम तेरी गंगा मैली’ का रट लगानेवालों के पास इसपर अटैक करने के लिए कुछ बचा ही नहीं है। अब वो यह नहीं कह सकते कि संतों को गंदगी में नहाना पड़ा रहा है, क्योंकि वो कॉन्ग्रेस के दौर में हुआ करता था।

वो इसलिए हुआ करता था क्योंकि कॉन्ग्रेस, राहुल गाँधी के जनेऊ पहनने और डिस्कवरी ऑफ़ गोत्र करने से पहले, हिन्दुओं को ‘काशी का अस्सी’ की भाषा में वहाँ रखा करती थी जो लिखा नहीं जा सकता। इसलिए कभी नदियों को साफ नहीं किया गया क्योंकि न तो नदियाँ वोट देती हैं, न ही नदी में नहाने वाले इनको वोट देते हैं। कम से कम, गंगा की उपेक्षा से तो यही लगता है कि इन्होंने तय तरीके से यमुना की तरह गंगा को भी मृतप्राय बनाने की पूरी कोशिश की थी। 

इसलिए थरूर साहब ने नैरेटिव बदल दिया है। ये मान लिया है कि गंगा साफ़ हो रही है, और वो नहाने से गंदी हो जाएगी। थरूर ब्रो, ऐसा है कि ‘जा की रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखहिं तिन तैसी’। ये दोहा लैटिन में है, और आपको ज़रूर समझ में आएगा। इसका अंग्रेज़ी इक्वीवेलेंट लाने की कोशिश करें तो एक सकारात्मक कहावत याद आती है कि ‘ब्यूटी लाइज़ इन द आईज़ ऑफ़ बिहोल्डर’। आप तो पढ़े-लिखे आदमी है, इसका नकारात्मक भाव तो मन में समझ ही जाएँगे! 

गंगा पापनाशिनी ज़रूर है, लेकिन ऐसा भी नहीं कि संतों के उतरने से वो गंदी हो जाती है। संत पापी नहीं होते, आप और हम (मैं आप से थोड़ा कम) पापी हैं। जो पापी हैं, चाहे बाबा हों या नेता, वो भुगत रहे हैं, आप भी भुगतेंगे। दूसरी बात, गंगा पापों को हरती है, वो गंदी नहीं होती। कॉन्सेप्ट आपके थोड़े हिले हुए हैं, उसको पेंचकश से ठीक करा लीजिए। गंगा में पाप धोने से हम साफ़ होते हैं, गंगा गंदी नहीं होती।

आगे आपने कुम्भ और संगम को निशाना बनाते हुए लिखा है कि ‘इस संगम में सब नंगे हैं’। क्यूट टाइप की स्माइल वाली प्रोफाइल पिक लगाकर ऊर्दू के मुहावरे में हिन्दू प्रतीक घुसा देने से आपका ज्ञान नहीं, आपकी धूर्तता सामने आती है। संगम में सब नंगे नहीं हैं, संगम साफ़ है, और वहाँ गंगा निर्बाध, अविरल रूप से बह रही है। वो हम्माम नहीं है जहाँ आप राहुल के शरीर का मैल अपने ऊपर लिए मुस्कुरा रहे हैं कि ‘राहुल जी, थोड़ा और छुड़ा कर इधर फेंकिए ना!‘ 

संगम में जाना सौभाग्य है। संगम का तो स्मरण करने भर से व्यक्ति के पाप धुल जाते हैं। लेकिन आपको वो सुविधा नहीं मिलेगी क्योंकि पाप धुलवाने की भी पात्रता होती है। काशी में आने भर से मोक्ष प्राप्त हो जाता है, लेकिन सबको नहीं, उसी को जो उस लायक है। इसलिए, आप लम्बी डींगे मार लीजिए, आपको स्वामी जी समेट लेंगे, और न्यायिक व्यवस्था समेट लेगी। अगर व्यवस्था को आपने मैनेज कर लिया, तो भी हरिद्वार की गंगा आपके पापों का बदला ज़रूर लेगी। 

जब गंगा साफ़ दिख रही है तो हिन्दुओं की आस्था पर आक्रमण किया जा रहा है। अब संत में पाप दिख रहा है। संत जिस धर्म के प्रतीक हैं, उसे ‘नंगा’ कहा जा रहा है। क्योंकि यही धर्म है जहाँ यह कहने और सुनने की गुंजाइश है। वरना मज़हब तो ऐसे भी हैं जो झंडे पर नाम लिखकर, अपनी बातों के अलग कुछ भी कहने, लिखने या बनाने पर तलवार, बम और बंदूक लेकर उतर जाते हैं।

शशि जी ख़ैर मनाइए कि आपने संगम जैसे तीर्थ और हिन्दू धर्म जैसे धर्म के संतों का अपमान किया है। यहाँ यह सब कहने की भी छूट है, ये बात अलग है कि वो हिसाब आपसे ऊपर लिया जाएगा, न कि एके सैंतालीस लेकर यहीं ले लिया जाए, जैसा कि कुछ रिलिजन में प्रैस्क्राइब्ड है! 

अपना इतिहास खँगालिए, अपनी पार्टी का इतिहास खँगालिए। अपने नेताओं के नंगे देह देखिए जब वो गंगा में उतर रहे हों। जब नेता यह सब करते हैं, तब आप पाप की बात करें तो चलता भी है क्योंकि वो आपकी प्रजाति के हैं, तो शायद आप उन्हें बेहतर जानते होंगे। 

पिता की राख प्रवाहित करने के बाद जवाहरलाल नेहरू गंगा से बाहर आते हुए

लेकिन, संतों को, और उनके नाम पर करोड़ों श्रद्धालुओं को आपने ‘नंगा’ और ‘पापी’ कहा है। शब्द की समझ तो आपको है ही, इसलिए आप जान-बूझकर, सोच-समझकर ट्वीट करते होंगे कि कम कहकर कैसे माखौल किया जाए। आपने बहुत कुछ कहने की कोशिश की है जो कि आपकी बेकार मानसिकता, टार से भरे दिमाग और कुत्सित सोच का परिचायक है। 

यही ‘नंगे’ और ‘पापी’ लोग आपकी पार्टी को, आपकी निजी ज़िंदगी को और आपको डिफ़ेंड करनेवालों को जवाब देंगे। ट्विटर पर अंग्रेज़ी लिखकर आप ज्ञान नहीं दे रहे, आप बस दूसरों को नंगा कहते हुए अपना ही नाड़ा कटवा रहे हैं। बाक़ी, ‘गंगा मैया की जय’ कहने से भी आपके पाप तो नहीं धुलनेवाले। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फहद अहमद अब बना ‘किसान नेता’, पहले था CAA विरोधी छात्र नेता: स्वरा-मंडली संग करता है काम, AMU में मिली थी ‘ट्रेनिंग’

मुंबई के TISS में Ph.D कर रहा एक छात्र नेता है फहद अहमद, जो CAA विरोधी प्रदर्शनकारी हुआ करता था, अब वो 'किसान नेता' बन गया है।

‘उलेमाओं की बात मानें और गड़बड़ कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ, नॉर्वे में 30 लोग मर गए’: सपा सांसद शफीकुर्रहमान

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कोरोना के टीके पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने अपने समर्थकों से अपील की है कि वो कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ।

भारत के खिलाफ विद्रोह, खालिस्तान से जुड़े मामले में ‘किसान नेता’ को समन, जवाब मिला – ‘नहीं आऊँगा, मेरे घर में शादी है’

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने 'लोक भलाई इंसाफ वेलफेयर सोसाइटी (LBWS)' के 'किसान नेता' बलदेव सिंह सिरसा को पेश होने के लिए समन भेजा है।

नॉर्वे में वैक्सीन लेने वाले 25000 में से 29 की मौत, भारत में पहले ही दिन टीका लगवाने वाले 2 लाख लोग एकदम स्वस्थ

नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। ये सभी 75 वर्ष के थे, जिनके शरीर में पहले से कई बीमारियाँ थीं।

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

प्रचलित ख़बरें

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

फहद अहमद अब बना ‘किसान नेता’, पहले था CAA विरोधी छात्र नेता: स्वरा-मंडली संग करता है काम, AMU में मिली थी ‘ट्रेनिंग’

मुंबई के TISS में Ph.D कर रहा एक छात्र नेता है फहद अहमद, जो CAA विरोधी प्रदर्शनकारी हुआ करता था, अब वो 'किसान नेता' बन गया है।

प्राइवेट वीडियो, किसी और से शादी तक नहीं करने दी… सदमे से माँ की मौत: महाराष्ट्र के मंत्री पर गंभीर आरोप

“धनंजय मुंडे की वजह से मेरी ज़िंदगी और करियर दोनों बर्बाद हो गए। उसने मुझे किसी और से शादी तक नहीं करने दी। जब मेरी माँ को..."

‘उलेमाओं की बात मानें और गड़बड़ कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ, नॉर्वे में 30 लोग मर गए’: सपा सांसद शफीकुर्रहमान

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कोरोना के टीके पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने अपने समर्थकों से अपील की है कि वो कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ।

भारत के खिलाफ विद्रोह, खालिस्तान से जुड़े मामले में ‘किसान नेता’ को समन, जवाब मिला – ‘नहीं आऊँगा, मेरे घर में शादी है’

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने 'लोक भलाई इंसाफ वेलफेयर सोसाइटी (LBWS)' के 'किसान नेता' बलदेव सिंह सिरसा को पेश होने के लिए समन भेजा है।

नॉर्वे में वैक्सीन लेने वाले 25000 में से 29 की मौत, भारत में पहले ही दिन टीका लगवाने वाले 2 लाख लोग एकदम स्वस्थ

नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। ये सभी 75 वर्ष के थे, जिनके शरीर में पहले से कई बीमारियाँ थीं।

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

रक्षा विशेषज्ञ के तिब्बत पर दिए सुझाव से बौखलाया चीन: सिक्किम और कश्मीर के मुद्दे पर दी भारत को ‘गीदड़भभकी’

अगर भारत ने तिब्बत को लेकर अपनी यथास्थिति में बदलाव किया, तो चीन सिक्किम को भारत का हिस्सा मानने से इंकार कर देगा। इसके अलावा चीन कश्मीर के मुद्दे पर भी अपना कथित तटस्थ रवैया बरकरार नहीं रखेगा।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
381,000SubscribersSubscribe