Monday, November 28, 2022
Homeदेश-समाज...अब शिवमंदिर में तोड़-फोड़: वसीम, सराफत, नासिर, राशिद ने चलाया फावड़ा, शिवलिंग भी क्षतिग्रस्त

…अब शिवमंदिर में तोड़-फोड़: वसीम, सराफत, नासिर, राशिद ने चलाया फावड़ा, शिवलिंग भी क्षतिग्रस्त

सूघर सिंह ने शिव मंदिर में 2 महीने पहले ही प्लास्टर करवाया था। नासिर खान और शराफत खान इसी शिव मंदिर की ओर नाली खोदने लगे, जिस पर...

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर से खबर आई है कि वहाँ फरधान थाना क्षेत्र के गौरिया गाँव में इस्लामी भीड़ ने शिव मंदिर पर हमला किया है। गली के बीच से नाली निकालने को लेकर यह विवाद हुआ बताया जा रहा है, जिस पर हिंदू संगठनों द्वारा काफ़ी नाराज़गी जताई है। हालाँकि पुलिस के अनुसार मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है, लेकिन स्थानीय हिन्दुओं में असंतोष बरकरार है।

मंदिर के सामने निकाली नाली

मिल रही जानकारी के अनुसार शनिवार (जुलाई 6, 2019) को मंदिर के पड़ोस में रहने वाले नासिर खान और शराफत खान गाँव के शिव मंदिर की ओर नाली खोदने लगे, जिस पर सूघर सिंह ने विरोध किया। सूघर सिंह ने शिव मंदिर पर दो महीने पहले ही प्लास्टर करवाया था। पत्रिका की खबर के अनुसार मामले को बिगड़ता देख नासिर खान और शराफत खान ने इसे सम्प्रदायिक रूप दे दिया, जिसके बाद समुदाय विशेष के लोग वहाँ फावड़ा लेकर आ गए और मंदिर पर हमला करने लगे। वहीं, सुदर्शन न्यूज के मुताबिक वसीम, शराफत और नासिर नामक हमलावरों ने मंदिर को न केवल क्षतिग्रस्त किया बल्कि मंदिर के शिवलिंग को भी बाहर फेंक दिया।

इसके अलावा सुदर्शन न्यूज द्वारा पोस्ट किए गए वीडियो में सूघर सिंह ये बताते हुए दिख रहे हैं कि घटनास्थल पर वसीम खान नाम का एक शख्स आया था। सूघर सिंह के मुताबिक वसीम ने बोला, “मंदिर तोड़ दो। न ये झंझट (मंदिर) रहेगा और यहाँ का झंझट (नाली का) भी चला जाएगा।” इसके बाद ही समुदाय विशेष के लोगों ने मंदिर पर फावड़ा चलाया, और मंदिर का एक छज्जा टूट गया। सुदर्शन न्यूज़ को एक स्थानीय निवासी ने बताया कि पुलिस के पहुँचने पर उन लोगों ने जगह की लीपा-पोती कर दी, लेकिन जब मीडिया पहुँची तो वहाँ वही क्षतिग्रस्त हालत थी।

सुदर्शन न्यूज़ के इस वीडियो में एक और स्थानीय निवासी इस घटना की जानकारी देते हुए बता रहे हैं कि मंदिर पर इससे पहले भी बहुत बार हमले हो चुके हैं, जिनके बाद पुलिस आई भी, और उसने नाली के विवाद को सुलझाते हुए पानी के निकास की व्यवस्था भी करवाई। लेकिन वसीम नामक शख्स (जिसे आपराधिक प्रवृत्ति का भी बताया जा रहा है) ने समुदाय विशेष के लोगों को इकट्ठा करके मंदिर पर पुनः हमला करवा दिया। आरोप के अनुसार, वसीम ने कहा, ” इस मंदिर को जड़ से उखाड़ दो, जब मंदिर ही नहीं बचेगा तो विवाद खत्म हो जाएगा।” उस पर यह भी आरोप है कि उसने वहाँ बचे-खुचे एक-दो घरों में बसे हिंदुओं को भी भगा देने और घर पर कब्जा कर लेने की भी ललकार लगाई।

पुलिस कार्रवाई से लोग असंतुष्ट

खेड़ी पुलिस ने मामले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बताया है कि मामले से संबंधित शिकायत के आधार पर वे अभियोग पंजीकृत करके विधिक कार्यवाही कर रहे हैं।

लेकिन फिर भी लोगों में घटना के बाद बहुत गुस्सा और निराशा है। क्षुब्ध लोग पुलिस और प्रशासन पर अपना गुस्सा निकाल रहे हैं।

हिन्दू युवा वाहिनी के एक स्थानीय कार्यकर्ता ने भी ट्विटर पर मामले को लेकर क्षोभ जताया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चीन के कई शहरों में फैला प्रदर्शन, सड़कों पर उतरे छात्र: शी जिनपिंग के खिलाफ नारेबाजी, पत्रकार को पुलिस ने पीटा

चीन में शी जिनपिंग के खिलाफ होता विरोध प्रदर्शन देश के कई शहरों में फैल गया है। लोग उस इलाके तक आ गए हैं जहाँ सबसे ज्यादा एबेंसी हैं।

‘बच्चों की हत्यारी सरकार’: हिजाब विरोधी प्रदर्शन के बीच ईरान ने अपने सर्वोच्च नेता की भांजी को ही गिरफ्तार किया, UN को भी सुनाई...

ईरान में चल रहे हिजाब विरोधी प्रदर्शन के बीच पुलिस ने सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई की भांजी फरीद मोरादखानी को गिरफ्तार किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,794FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe