Sunday, January 24, 2021
Home देश-समाज श्रमिक ट्रेनों में 31 नवजात शिशुओं की गूँजी किलकारियाँ: यात्रा के साथ चल रहा...

श्रमिक ट्रेनों में 31 नवजात शिशुओं की गूँजी किलकारियाँ: यात्रा के साथ चल रहा है जीवन चक्र

कोरोना संकट के दौरान जब हम श्रमिक ट्रेनों में नवजातों के जीवनचक्र पर बात करते हैं, तो इस विवाद को भी नकार नहीं सकते कि श्रमिक ट्रेनों में कई मौतें भी हुई। लेकिन कुछ स्वार्थी लोगों ने सोशल मीडिया पर लापरवाही और भूख-प्यास से मौतें होने का दावा कर इसे गलत तरीके से पेश किया।

कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए लॉकडाउन के बाद लाखों प्रवासी मजदूरों को उनके गृहराज्य भेजने की समस्या सरकार के सामने एक चुनौती बनकर उभरी। इसके समाधान हेतु सरकार ने श्रमिक ट्रेनें शुरू की, ताकि गरीब मजदूरों को उनके घर भेजा जा सके। इन ट्रेनों के चलने के बाद खट्टी-मीठी कुछ ऐसी कहानियाँ सामने आई, जिन्हें मजदूरों ने घर पहुँचने के बाद नहीं, बल्कि सफर के बीच अनुभव किया।

ऑपइंडिया को प्राप्त सूचना के अनुसार, श्रमिक ट्रेनों में गृहराज्य जाने के रास्ते में 31 नवजात शिशुओं ने जन्म लिया। सबसे शुरुआती मामला 10 मई 2020 का है। इस दिन केतकी सिंह नाम की महिला सूरत से प्रयागराज लौट रही थीं। सफर के दौरान बीच रास्ते में ही उन्हें प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। उन्होंने सतना में आरपीएफ की देखरेख में बच्चे को जन्म दिया। 

यात्रा के दौरान माँ ने दिया नवजात को जन्म

इसी प्रकार, 18 मई को 21 वर्षीय एक महिला ने कटिहार में मेडिकल टीम और रेलवे प्रशासन की देखरेख में अपने बच्चे को जन्म दिया और फिर अपने स्वस्थ बालक के साथ घर रवाना हुई।

इसी दिन नीतू देवी ने उत्तर प्रदेश लौटते हुए अपनी बेटी को जन्म दिया। जब मेडिकल टीम ने जच्चा-बच्चा दोनों की जाँच की तो दोनों स्वस्थ पाए गए। इसके बाद महिला को भी उसके घर लौटने की अनुमति दे दी गई।

ऐसे ही अनेकों मामले आए, जब बच्चे को जन्म देते ही प्रसूति ने अपने आगे के सफर को जारी रखने के लिए जोर दिया और अपनी व अपने बच्चे की देखरेख अपने गृहराज्य में करने की बात कही।

अब चूँकि, किसी भी प्रसूति के लिए नवजात के साथ एक सफर तय करना मुश्किल काम है। इसलिए इन माताओं को प्रशासन की ओर से पर्याप्त सुविधाएँ प्रदान की गईं।

नवजात के साथ माता-पिता

इस यात्रा के बीच एक ओर जहाँ कई महिलाओं ने स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया और खुशी के साथ घर की ओर आगे बढ़ीं। वहीं, कुछ गर्भवती महिलाओं को अपूरणीय क्षति भी हुई।

मसलन 17 मई को एक महिला ने गोरखपुर जाते हुए अपने जुड़वा बच्चों को खो दिया। जानकारी के मुताबिक, महिला ने समय से पहले (प्रीमैच्योर) दो बच्चों को जन्म दिया। इनमें से एक तो पहले ही निश्चेष्ट था और दूसरे ने जन्म के बाद आखिरी साँस ली।

एक अन्य दिल दहलाने वाली कहानी में जयपुर से गोरखपुर की ओर यात्रा कर रही महिला के साथ हुआ। उसने जयपुर में ही एक मृत बच्चे को जन्म दिया और फिर उसी बच्चे को लेकर गोरखपुर तक सफर किया। बाद में गोरखपुर पहुँचकर उसे प्रशासन द्वारा अस्पताल भेज दिया गया।

25 मई को एक महिला ने बिहार जाते हुए दो जुड़वा बच्चों को जन्म दिया। मगर, स्वास्थ्य सुविधा मिलने के बाद जब बच्चों को और माँ को सागर जिले के अस्पताल में भर्ती किया गया, तो दोनों शिशुओं ने वहाँ दम तोड़ दिया।

श्रमिक ट्रेन में होने वाली मौतें और फैलाए जा रहे झूठ

कोरोना संकट के दौरान जब हम श्रमिक ट्रेनों में नवजातों के जीवनचक्र पर बात करते हैं, तो इस विवाद को भी नकार नहीं सकते कि श्रमिक ट्रेनों में कई मौतें भी हुई। लेकिन कुछ स्वार्थी लोगों ने सोशल मीडिया पर लापरवाही और भूख-प्यास से मौतें होने का दावा कर इसे गलत तरीके से पेश किया।

मसलन, राणा अयूब ने एक वीडियो शेयर की। इसमें मुजफ्फरपुर स्टेशन पर एक महिला ने अपनी आखिरी साँस ली। अयूब ने दावा किया कि मौत भूख के कारण हुई। मगर, जब ऑपइंडिया ने इसकी पड़ताल की, तो मालूम चला कि महिला काफी समय से बीमार थी और ट्रेन में सफर के दौरान उसकी मृत्यु हो गई।

इस मामले में रेलवे सुरक्षा बल के प्रभारी निरीक्षक और डिप्टी एसपी मुख्यालय जीआरपी मुजफ्फरपुर, श्री रमाकांत उपाध्याय को ट्रेन में महिला की मृत्यु के बारे में सूचित किया गया था। स्टेशन प्रभारी से अनुमति मिलने के बाद, मृतक के शव को मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन पर छोड़ दिया गया था और बाद में मुजफ्फरपुर रेलवे डिवीजन के डॉक्टर द्वारा उसकी जाँच की गई थी।

इसके बाद एक और फर्जी खबर, जो कि 4 साल के बच्चे की मृत्यु को लेकर फैलाई गई। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट में बताया या कि 4 साल के मोहम्मद इरशाद, जो मुजफ्फरपुर से बेतिया के लिए ट्रेन में सवार हुआ था, उसकी मौत रेलवे की ओर से लापरवाही बरतने के कारण हुई।

जबकि रेलवे ने अपने स्पष्टीकरण में ये बताया कि बच्चा पहले से बीमार था और दिल्ली से इलाज के बाद लौटा था। इसलिए बच्चे की मृत्यु का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही सामने आएगा।

इसी प्रकार 27 मई 2020 को जागरण ने एक रिपोर्ट छापी। इस रिपोर्ट में दावा किया गया कि श्रमिक ट्रेन में रेलवे की लापरवाही के कारण 4 लोगों की मौत हो गई। इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया कि प्रवासी मजदूरों को श्रमिक एक्सप्रेस में भोजन व पानी नहीं मिला।

बाद में कारवाँ इंडिया ने भी इसी तरह का झूठ फैलाया। अपनी रिपोर्ट में द कारवाँ ने आरोप लगाया कि 10 प्रवासी मजदूरों की मौत श्रमिक ट्रेन में भूख से तड़पकर हुई। जिसके कारण द कारवाँ को तथ्यों के साथ फटकार भी लगाई गई।

बता दें, फिलहाल, भारतीय रेलवे का भ्रामक रिपोर्टों पर यही कहना है कि श्रमिक एक्सप्रेस में बीमारियों के कारण लोगों की मौतें हुई हैं। उन्होंने फर्जी और बेबुनियादी खबरें फैलाने वालों के ख़िलाफ़ ट्विटर पर ट्वीट करके खबर दी है।

रेलवे ने स्पष्ट किया कि हर जरूरतमंद पैसेंजर को आपातकाल की स्थिति में आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध करवाई जा रही हैं। मगर, इनमें से खाना और पानी सभी यात्रियों के लिए है।

उल्लेखनीय है कि जब हम इस तरह की घटनाओं को अलग से साझा करते हैं, उस समय गलत धारणा बनना निश्चित होता है। यात्रा के दौरान जन्म और मृत्यु उन लोगों के लिए एक सामान्य घटना है, जो प्रतिदिन भारत में ट्रेनों में सफर करते हैं।

आमतौर पर माना जाता है कि लगभग 1 करोड़ लोग प्रतिदिन लंबी दूरी की यात्रा करते हैं। लंबी दूरी की ट्रेन यात्रा के औसत समय और 7.234% की राष्ट्रीय मृत्यु दर के हिसाब के बाद परंपरागत ढंग से भारत में प्रतिदिन यात्रा के दौरान दो दर्जन से अधिक लोग अंतिम साँस लेते हैं।

जब ऑपइंडिया ने रेल मंत्रालय से अपने इन अनुमानों के बारे में बात की, तो उन्होंने हमारे अनुमानों की पुष्टि की और बताया कि यह सटीक है। उन्होंने कहा कि ऐसी मौतें दुर्भाग्यपूर्ण हैं, लेकिन इस मामले में रेलवे भी बहुत ज्यादा नहीं कर सकता, क्योंकि यह संभावना और जीवन चक्र का मामला है।

इसलिए, हमें ये समझने की जरूरत है कि इस मुश्किल घड़ी में जितना दुखदाई उन मौतों की संख्या है, उतनी ही दुखदाई ये बात भी है कि इन मौतें के नाम पर एजेंडा चलाने के लिए पूरे मामले को स्पिन करके रेलवे पर ‘लापरवाही’ पर आरोप मढ़ा जा रहा है। वास्तविकता ये है कि मृत्यु की जगह किसी की लापरवाही को उजागर नहीं करती, खासकर तब जब एक वर्ग केवल माहौल भड़काने के लिए इस बिंदु पर अपना एजेंडा चला रहा है।

नोट: ऑपइंडिया अंग्रेजी की संपादक नुपुर शर्मा का यह मूल लेख अंग्रेजी में यहॉं पढ़ा जा सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

मुनव्वर फारूकी ने कोई ‘जोक क्रैक’ नहीं किया तो जैनब सच-सच बतलाना कमलेश तिवारी क्यों रेता गया

कितनी विचित्र विडंबना है, धार्मिक भावनाएँ आहत होती हैं और उनका विरोध होता है तो साम्प्रदायिकता! लेकिन मज़हबी जज़्बात आहत होते हैं तो...।

‘किसान’ नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए ‘नकाबपोश’ योगेश के मोबाइल में डाली 4 तस्वीरें

जिस नकाबपोश को शूटर बता किसान नेताओं ने देर रात मीडिया के सामने पेश किया था उसने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

सेना राष्ट्रवादी क्यों, सरकार से लड़ती क्यों नहीं: AAP वाले रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने ‘द प्रिंट’ में छोड़ा नया शिगूफा

लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) HS पनाग पनाग चाहते हैं कि सेना को लेकर जम कर राजनीति हो, उसे बदनाम किया जाए, दुष्प्रचार हो, लेकिन सेना को इसका जवाब देने का हक़ नहीं हो क्योंकि ये राजनीतिक हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

नकाब हटा तो ‘शूटर’ ने खोले राज, बताया- किसान नेताओं ने टॉर्चर किया, फिर हत्या वाली बात कहवाई: देखें Video

"मेरी पिटाई की गई। मेरी पैंट उतार कर मुझे पीटा गया। उलटा लटका कर मारा गया। उन्होंने दबाव बनाया कि मुझे उनका कहा बोलना पड़ेगा। मैंने हामी भर दी।"

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

‘नकाब के पीछे योगेंद्र यादव’: किसान नेताओं को ‘शूट करने’ आए नकाबपोश की कहानी में लोचा कई

किसान नेताओं ने एक नकाबपोश को मीडिया के सामने पेश किया, जिसने दावा किया कि उसे किसान नेताओं को गोली मारने के लिए रुपए मिले थे।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।
- विज्ञापन -

 

अमित शाह ने किया ‘आयुष्मान CAPF’ का शुभारंभ: 28 लाख से अधिक जवान देश में कहीं भी करा पाएँगे इलाज

आयुष्मान CAPF योजना के तहत CAPF के लगभग 10 लाख जवान और अधिकारी और 50 लाख के आसपास उनके परिवार और परिजन देश के अंदर 24 हज़ार अस्पतालों में सिर्फ कार्ड लेकर उसे स्वैप करके इलाज करा सकते हैं।

बहन को फुफेरे भाई कासिम से था इश्क, निक़ाह के एक दिन पहले बड़े भाई फिरोज ने की हत्या: अश्लील फोटो बनी वजह

इस्लामुद्दीन की 19 वर्षीय बेटी फिरदौस के निक़ाह की तैयारियों में पूरा परिवार जुटा हुआ था। तभी शनिवार की सुबह घर में टूथपेस्ट कर रही फिरदौस को अचानक उसके बड़े भाई फिरोज ने तमंचे से गोली मार दी।

योगेंद्र यादव का दावा- गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली की मिली अनुमति, दिल्ली पुलिस ने किया इनकार

“बैरिकेड्स हटाए जाएँगे और हम दिल्ली में प्रवेश करेंगे। किसानों के ट्रैक्टर परेड से गणतंत्र दिवस के परेड या सुरक्षा इंतजाम पर किसी तरह का कोई असर नहीं पड़ेगा। किसानों का ट्रैक्टर परेड ऐतिहासिक होगा।”

कॉन्ग्रेस ने योगी सरकार को घेरने के लिए शेयर किया महिला का वीडियो, यूपी पुलिस पर लगाए झूठे आरोप: जानें क्या है सच

जिस भ्रामक दावे के साथ कॉन्ग्रेस पार्टी ने उत्तरप्रदेश सरकार को बदनाम करने के लिए चित्रित करने का प्रयास किया वह असल में उनकी सोच के बिल्कुल विपरीत निकला।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

गणतंत्र दिवस के पहले नोएडा, गाजियाबाद सहित इन 6 जगहों पर बम रखे जाने की अफवाह: यूपी पुलिस अलर्ट

गणतंत्र दिवस से पहले उत्तर प्रदेश में भय और आतंक का माहौल है। उत्तर प्रदेश के नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर और इलाहाबाद में इस सप्ताह 6 फर्जी बम रखे जाने की अफवाह के बाद पुलिस सतर्क हो गई है।

किसानों के समर्थन में कॉन्ग्रेस का राजभवन मार्च: दिग्विजय समेत 20 नेता गिरफ्तार, उत्तराखंड में भी हाथापाई पर उतरे कॉन्ग्रेसी

देहरादून में भी कृषि विरोधी प्रदर्शनकारियों ने राजभवन पहुँचने के लिए पुलिस बैरिकेट्स तोड़ने की कोशिश की। जब पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारी पुलिस अधिकारियों के साथ हाथापाई पर उतर गए।

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe