Sunday, July 5, 2020
Home देश-समाज श्रमिक ट्रेनों में 31 नवजात शिशुओं की गूँजी किलकारियाँ: यात्रा के साथ चल रहा...

श्रमिक ट्रेनों में 31 नवजात शिशुओं की गूँजी किलकारियाँ: यात्रा के साथ चल रहा है जीवन चक्र

कोरोना संकट के दौरान जब हम श्रमिक ट्रेनों में नवजातों के जीवनचक्र पर बात करते हैं, तो इस विवाद को भी नकार नहीं सकते कि श्रमिक ट्रेनों में कई मौतें भी हुई। लेकिन कुछ स्वार्थी लोगों ने सोशल मीडिया पर लापरवाही और भूख-प्यास से मौतें होने का दावा कर इसे गलत तरीके से पेश किया।

ये भी पढ़ें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए लॉकडाउन के बाद लाखों प्रवासी मजदूरों को उनके गृहराज्य भेजने की समस्या सरकार के सामने एक चुनौती बनकर उभरी। इसके समाधान हेतु सरकार ने श्रमिक ट्रेनें शुरू की, ताकि गरीब मजदूरों को उनके घर भेजा जा सके। इन ट्रेनों के चलने के बाद खट्टी-मीठी कुछ ऐसी कहानियाँ सामने आई, जिन्हें मजदूरों ने घर पहुँचने के बाद नहीं, बल्कि सफर के बीच अनुभव किया।

ऑपइंडिया को प्राप्त सूचना के अनुसार, श्रमिक ट्रेनों में गृहराज्य जाने के रास्ते में 31 नवजात शिशुओं ने जन्म लिया। सबसे शुरुआती मामला 10 मई 2020 का है। इस दिन केतकी सिंह नाम की महिला सूरत से प्रयागराज लौट रही थीं। सफर के दौरान बीच रास्ते में ही उन्हें प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। उन्होंने सतना में आरपीएफ की देखरेख में बच्चे को जन्म दिया। 

यात्रा के दौरान माँ ने दिया नवजात को जन्म

इसी प्रकार, 18 मई को 21 वर्षीय एक महिला ने कटिहार में मेडिकल टीम और रेलवे प्रशासन की देखरेख में अपने बच्चे को जन्म दिया और फिर अपने स्वस्थ बालक के साथ घर रवाना हुई।

इसी दिन नीतू देवी ने उत्तर प्रदेश लौटते हुए अपनी बेटी को जन्म दिया। जब मेडिकल टीम ने जच्चा-बच्चा दोनों की जाँच की तो दोनों स्वस्थ पाए गए। इसके बाद महिला को भी उसके घर लौटने की अनुमति दे दी गई।

ऐसे ही अनेकों मामले आए, जब बच्चे को जन्म देते ही प्रसूति ने अपने आगे के सफर को जारी रखने के लिए जोर दिया और अपनी व अपने बच्चे की देखरेख अपने गृहराज्य में करने की बात कही।

अब चूँकि, किसी भी प्रसूति के लिए नवजात के साथ एक सफर तय करना मुश्किल काम है। इसलिए इन माताओं को प्रशासन की ओर से पर्याप्त सुविधाएँ प्रदान की गईं।

नवजात के साथ माता-पिता

इस यात्रा के बीच एक ओर जहाँ कई महिलाओं ने स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया और खुशी के साथ घर की ओर आगे बढ़ीं। वहीं, कुछ गर्भवती महिलाओं को अपूरणीय क्षति भी हुई।

मसलन 17 मई को एक महिला ने गोरखपुर जाते हुए अपने जुड़वा बच्चों को खो दिया। जानकारी के मुताबिक, महिला ने समय से पहले (प्रीमैच्योर) दो बच्चों को जन्म दिया। इनमें से एक तो पहले ही निश्चेष्ट था और दूसरे ने जन्म के बाद आखिरी साँस ली।

एक अन्य दिल दहलाने वाली कहानी में जयपुर से गोरखपुर की ओर यात्रा कर रही महिला के साथ हुआ। उसने जयपुर में ही एक मृत बच्चे को जन्म दिया और फिर उसी बच्चे को लेकर गोरखपुर तक सफर किया। बाद में गोरखपुर पहुँचकर उसे प्रशासन द्वारा अस्पताल भेज दिया गया।

25 मई को एक महिला ने बिहार जाते हुए दो जुड़वा बच्चों को जन्म दिया। मगर, स्वास्थ्य सुविधा मिलने के बाद जब बच्चों को और माँ को सागर जिले के अस्पताल में भर्ती किया गया, तो दोनों शिशुओं ने वहाँ दम तोड़ दिया।

श्रमिक ट्रेन में होने वाली मौतें और फैलाए जा रहे झूठ

कोरोना संकट के दौरान जब हम श्रमिक ट्रेनों में नवजातों के जीवनचक्र पर बात करते हैं, तो इस विवाद को भी नकार नहीं सकते कि श्रमिक ट्रेनों में कई मौतें भी हुई। लेकिन कुछ स्वार्थी लोगों ने सोशल मीडिया पर लापरवाही और भूख-प्यास से मौतें होने का दावा कर इसे गलत तरीके से पेश किया।

मसलन, राणा अयूब ने एक वीडियो शेयर की। इसमें मुजफ्फरपुर स्टेशन पर एक महिला ने अपनी आखिरी साँस ली। अयूब ने दावा किया कि मौत भूख के कारण हुई। मगर, जब ऑपइंडिया ने इसकी पड़ताल की, तो मालूम चला कि महिला काफी समय से बीमार थी और ट्रेन में सफर के दौरान उसकी मृत्यु हो गई।

इस मामले में रेलवे सुरक्षा बल के प्रभारी निरीक्षक और डिप्टी एसपी मुख्यालय जीआरपी मुजफ्फरपुर, श्री रमाकांत उपाध्याय को ट्रेन में महिला की मृत्यु के बारे में सूचित किया गया था। स्टेशन प्रभारी से अनुमति मिलने के बाद, मृतक के शव को मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन पर छोड़ दिया गया था और बाद में मुजफ्फरपुर रेलवे डिवीजन के डॉक्टर द्वारा उसकी जाँच की गई थी।

इसके बाद एक और फर्जी खबर, जो कि 4 साल के बच्चे की मृत्यु को लेकर फैलाई गई। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट में बताया या कि 4 साल के मोहम्मद इरशाद, जो मुजफ्फरपुर से बेतिया के लिए ट्रेन में सवार हुआ था, उसकी मौत रेलवे की ओर से लापरवाही बरतने के कारण हुई।

जबकि रेलवे ने अपने स्पष्टीकरण में ये बताया कि बच्चा पहले से बीमार था और दिल्ली से इलाज के बाद लौटा था। इसलिए बच्चे की मृत्यु का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही सामने आएगा।

इसी प्रकार 27 मई 2020 को जागरण ने एक रिपोर्ट छापी। इस रिपोर्ट में दावा किया गया कि श्रमिक ट्रेन में रेलवे की लापरवाही के कारण 4 लोगों की मौत हो गई। इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया कि प्रवासी मजदूरों को श्रमिक एक्सप्रेस में भोजन व पानी नहीं मिला।

बाद में कारवाँ इंडिया ने भी इसी तरह का झूठ फैलाया। अपनी रिपोर्ट में द कारवाँ ने आरोप लगाया कि 10 प्रवासी मजदूरों की मौत श्रमिक ट्रेन में भूख से तड़पकर हुई। जिसके कारण द कारवाँ को तथ्यों के साथ फटकार भी लगाई गई।

बता दें, फिलहाल, भारतीय रेलवे का भ्रामक रिपोर्टों पर यही कहना है कि श्रमिक एक्सप्रेस में बीमारियों के कारण लोगों की मौतें हुई हैं। उन्होंने फर्जी और बेबुनियादी खबरें फैलाने वालों के ख़िलाफ़ ट्विटर पर ट्वीट करके खबर दी है।

रेलवे ने स्पष्ट किया कि हर जरूरतमंद पैसेंजर को आपातकाल की स्थिति में आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध करवाई जा रही हैं। मगर, इनमें से खाना और पानी सभी यात्रियों के लिए है।

उल्लेखनीय है कि जब हम इस तरह की घटनाओं को अलग से साझा करते हैं, उस समय गलत धारणा बनना निश्चित होता है। यात्रा के दौरान जन्म और मृत्यु उन लोगों के लिए एक सामान्य घटना है, जो प्रतिदिन भारत में ट्रेनों में सफर करते हैं।

आमतौर पर माना जाता है कि लगभग 1 करोड़ लोग प्रतिदिन लंबी दूरी की यात्रा करते हैं। लंबी दूरी की ट्रेन यात्रा के औसत समय और 7.234% की राष्ट्रीय मृत्यु दर के हिसाब के बाद परंपरागत ढंग से भारत में प्रतिदिन यात्रा के दौरान दो दर्जन से अधिक लोग अंतिम साँस लेते हैं।

जब ऑपइंडिया ने रेल मंत्रालय से अपने इन अनुमानों के बारे में बात की, तो उन्होंने हमारे अनुमानों की पुष्टि की और बताया कि यह सटीक है। उन्होंने कहा कि ऐसी मौतें दुर्भाग्यपूर्ण हैं, लेकिन इस मामले में रेलवे भी बहुत ज्यादा नहीं कर सकता, क्योंकि यह संभावना और जीवन चक्र का मामला है।

इसलिए, हमें ये समझने की जरूरत है कि इस मुश्किल घड़ी में जितना दुखदाई उन मौतों की संख्या है, उतनी ही दुखदाई ये बात भी है कि इन मौतें के नाम पर एजेंडा चलाने के लिए पूरे मामले को स्पिन करके रेलवे पर ‘लापरवाही’ पर आरोप मढ़ा जा रहा है। वास्तविकता ये है कि मृत्यु की जगह किसी की लापरवाही को उजागर नहीं करती, खासकर तब जब एक वर्ग केवल माहौल भड़काने के लिए इस बिंदु पर अपना एजेंडा चला रहा है।

नोट: ऑपइंडिया अंग्रेजी की संपादक नुपुर शर्मा का यह मूल लेख अंग्रेजी में यहॉं पढ़ा जा सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

ख़ास ख़बरें

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

नक्सलियों की तरह DSP का काटा सर-पाँव, सभी 8 लाशों को चौराहे पर जलाने का था प्लान: विकास दुबे की दरिंदगी

विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने माओवादियों की तरह पुलिस पर हमला किया था। लगभग 60 लोग थे। जिस तरह से उन लोगों ने...

बकरीद के पहले बकरे से प्यार वाले पोस्टर पर बवाल: मौलवियों की आपत्ति, लखनऊ में हटाना पड़ा पोस्टर

"मैं जीव हूँ मांस नहीं, मेरे प्रति नज़रिया बदलें, वीगन बनें" - इस्लामी कट्टरपंथियों को अब पोस्टर से भी दिक्कत। जबकि इसमें कहीं भी बकरीद या...

उनकी ही संतानें थी कौरव और पांडव: जानिए कौन हैं कृष्ण द्वैपायन, जिनका जन्मदिन बन गया ‘गुरु पूर्णिमा’

वो कौरवों और पांडवों के पितामह थे। महाभारत में उनकी ही संतानों ने युद्ध किया। वो भीष्म के भाई थे। कृष्ण द्वैपायन ने ही वेदों का विभाजन किया। जानिए कौन थे वो?

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

5.5 लाख रुपए, नेताओं-सरकारी बाबूओं की लिस्ट और सोशल मीडिया: विकास दुबे को ऐसे घेर रही UP पुलिस

आपराधिक नेटवर्क को जड़ से ख़त्म करने के लिए यूपी पुलिस द्वारा विकास दुबे को संरक्षण और समर्थन देने वालों की सूची बनाई जा रही, जिसने उसकी मदद की।

प्रचलित ख़बरें

जातिवाद के लिए मनुस्मृति को दोष देना, हिरोशिमा बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

काफिरों को देश से निकालेंगे, हिन्दुओं की लड़कियों को उठा कर ले जाएँगे: दिल्ली दंगों की चार्ज शीट में चश्मदीद

भीड़ में शामिल सभी सभी दंगाई हिंदुओं के खिलाफ नारे लगा रहे और कह रहे थे कि इन काफिरों को देश से निकाल देंगे, मारेंगे और हिंदुओं की लड़कियों को.......

इजरायल ने बर्बाद किया ईरानी परमाणु ठिकाना: घातक F-35 विमानों ने मिसाइल अड्डे पर ग‍िराए बम

इजरायल ने जोरदार साइबर हमला करके ईरान के परमाणु ठिकानों में दो विस्‍फोट करा दिए। इनमें से एक यूरेनियम संवर्धन केंद्र है और दूसरा मिसाइल निर्माण केंद्र।

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

उस रात विकास दुबे के घर दबिश देने गई पुलिस के साथ क्या-क्या हुआ: घायल SO ने सब कुछ बताया

बताया जा रहा है कि विकास दुबे भेष बदलने में माहिर है और अपने पास मोबाइल फोन नहीं रखता। राजस्थान के एक नेता के साथ उसके बेहद अच्छे संबंध की भी बात कही जा रही है।

अपने रुख पर कायम प्रचंड, जनता भी आक्रोशित: भारत विरोधी एजेंडे से फँसे नेपाल के चीनपरस्त PM ओली

नेपाल के PM ओली ने चीन के इशारे पर नाचते हुए भारत-विरोधी बयान तो दे दिया लेकिन अब उनके साथी नेताओं के कारण उनकी अपनी कुर्सी जाने ही वाली है।

काली नागिन के काटने से जैसे मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे: TMC सांसद कल्याण बनर्जी

टीएमसी नेता कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को लेकर विवादित बयान दिया है। उनकी तुलना 'काली नागिन' से की है।

‘अल्लाह ने अपने बच्चों को तनहा नहीं छोड़ा’: श्रीकृष्ण मंदिर में मालिक ने की तोड़फोड़, ‘हीरो’ बता रहे पाकिस्तानी

पाकिस्तान के स्थानीय मुसलमानों ने इस्लामाबाद में बन रहे श्रीकृष्ण मंदिर में तोड़फोड़ मचाने वाले मलिक को एक 'नायक' के रूप में पेश किया है।

रोती-बिलखती रही अम्मी, आतंकी बेटे ने नहीं किया सरेंडर, सुरक्षा बलों पर करता रहा फायरिंग, मारा गया

कुलगाम में ढेर किए गए आतंकी से उसकी अम्मी सरेंडर करने की गुहार लगाती रही, लेकिन वह तैयार नहीं हुआ।

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

पाकिस्तानी घोटाले से जुड़े हैं हुर्रियत से गिलानी के इस्तीफे के तार, अलगाववादी संगठन में अंदरुनी कलह हुई उजागर

सैयद अली शाह गिलानी के इस्तीफ को पाकिस्तान के मेडिकल कॉलेज में एडमिशन को लेकर गड़बड़ियों से जोड़कर देखा जा रहा है।

सुरक्षाबलों ने ओडिशा के कंधमाल में 4 नक्सलियों को किया ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

ओडिशा के कंधमाल जिले में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में चार नक्सलियों के मारे जाने की खबर है।

मूवी माफियाओं के पसंदीदा बने रहने के लिए बॉलीवुड में बाहर से आए भी करते हैं चापलूसी: कंगना ने तापसी को घेरा

कंगना रनौत एक बार फिर सुर्ख़ियों में। उन्होंने बॉलीवुड पर हावी नेपोटिज्म के खिलाफ इस बार तापसी पन्नू को आड़े हाथो लेते हुए कहा कि...

भारतीय क्रिकेटर Pak से माफी माँगते रहते थे, हमने ठीक-ठाक मारा है उन्हें: शाहिद अफरीदी ने फिर उगला जहर

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने कहा कि उनकी टीम भारत को इतना हराती थी कि भारतीय क्रिकेटर पाकिस्तान से माफ़ी माँगा करते थे।

हमसे जुड़ें

234,622FansLike
63,120FollowersFollow
269,000SubscribersSubscribe