Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजपूजा ने कामरान खान से किया था निकाह, अब मिलती है पूजा-पाठ करने पर...

पूजा ने कामरान खान से किया था निकाह, अब मिलती है पूजा-पाठ करने पर ससुराल वालों की धमकी और प्रताड़ना

पूजा सिंह और कामरान अहमद की शादी हुई 2 जुलाई 2013 को। शादी के समय शपथ पत्र दायर कि वो हिंदू रीति-रिवाज़ को ही मानेगी, उस पर धर्मांतरण का दबाव नहीं बनाया जाएगा। लेकिन...

झारखंड में सिंदरी में एक मुस्लिम द्वारा हिंदू लड़की से शादी कर उसे प्रताड़ित किए जाने का मामला सामने आया है। इस मामले में पति के अलावा ससुर और जेठानी के ख़िलाफ़ जबरन धर्म परिवर्तन और मारपीट का मामला दर्ज कर लिया गया है। कोर्ट में बुधवार (11 सितंबर) को इस मामले की सुनवाई होगी।

दैनिक जागरण के धनबाद संस्करण में प्रकाशित खबर

ख़बर के अनुसार, पीड़िता पूजा सिंह ने अपनी शिक़ायत में आरोप लगाया कि उसने कामरान अहमद के साथ 2 जुलाई, 2013 को शादी की थी। शादी के समय उसने शपथ पत्र दायर किया था कि वो हिंदू रीति-रिवाज़ को मानेगी और उस पर धर्मांतरण के लिए किसी भी तरह का दबाव नहीं बनाया जाएगा। शादी के बाद कामरान दिल्ली चला गया जबकि पूजा खुद सिंदरी में रहने लगी।

इसके बाद, कामरान के पिता अली अहमद खान ने पूजा को ताने देना शुरू कर दिया कि वो अब हिन्दू नहीं है, इसलिए हिंदू रीति-रिवाज़ को न माने। उसकी जेठानी साज़िया ख़ान ने पूजा को प्रताड़ित करते हुए कहा कि वो अपनी नौटंकी (पूजा-पाठ) बंद करे। पूजा के आरोप के अनुसार, 20 जून 2017 को जब वो मंदिर में पूजा करने गई तो उसके ससुर अली अहमद ने उसका सारा सामान फेंक दिया और कहा कि वो अब उनके मजहब की तरह रहे, और हिंदू धर्म को मानने का ड्रामा बंद करे।

पूजा ने इस प्रकरण की सूचना जब अपने पति को दी तो उसने पूजा का साथ न देते हुए कहा कि उससे जैसा कहा जा रहा है, वो चुपचाप वैसा ही करे। पूजा ने जब अपने ससुर और जेठानी की बात नहीं मानी तो उससे उसके जेवरात छीनकर, मारपीट कर उसे घर से बाहर निकाल दिया गया। इसके बाद वो अपने मायके आ गई।

पूजा ने बताया कि रविवार (1 सितंबर, 2019) को वो अपने मायके में थी। वहाँ उसके पति और ससुर आए और उसके साथ गाली-गलौच करने लगे और कहा कि अगर उसे अपना दांपत्य जीवन बिताना है तो वो इस्लाम क़बूल कर ले। इस घटना की शिक़ायत पीड़िता ने थाने जाकर की। इसी संबंध में अब कोर्ट में 11 सितंबर को सुनवाई होगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe