Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजनिकाह में घूमर देख भड़के मौलाना, रशीद के परिवार को 11 महीने के लिए...

निकाह में घूमर देख भड़के मौलाना, रशीद के परिवार को 11 महीने के लिए समाज से किया बेदखल: ठोंका ₹1 लाख जुर्माना, प्रशासन के सामने पलटे

बॉयकॉट का ये फरमान स्थानीय मौलानाओं ने सुनाया है। पीड़ित परिवार की गलती बस इतनी है कि उनके एक निकाह समारोह में डांसर ने नाच दिया था। बहिष्कार का ऐलान करने वालों ने इसे मज़हबी तौर-तरीकों के खिलाफ बताया है।

मध्य प्रदेश के हरदा जिले में एक मुस्लिम परिवार सामाजिक बहिष्कार का दंश झेल रहा है। बॉयकॉट का ये फरमान स्थानीय मौलानाओं ने सुनाया है। पीड़ित परिवार की गलती बस इतनी है कि उनके एक निकाह समारोह में डांसर ने नाच दिया था। बहिष्कार का ऐलान करने वालों ने इसे मज़हबी तौर-तरीकों के खिलाफ बताया है। परिवार के समाज से निष्कासन की अवधि फिलहाल 11 महीने रखी गई है। इसी के साथ परिवार पर 1 लाख रुपए का जुर्माना भी ठोंका गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला हरदा के छीपानेर रोड का है। यहाँ रशीद अपने परिवार के साथ रहते हैं। रशीद के घर 28 जनवरी को एक सदस्य का निकाह हुआ था। निकाह में दूल्हा मोहीन और दुल्हन चाँदनी थीं। 2 दिनों के बाद 30 जनवरी को इसी निकाह की ख़ुशी में रशीद ने दावत रखी थी। इस दावत में रशीद के रिश्तेदारों और दोस्तों के अलावा आसपास के तमाम लोगों ने शिरकत की थी। इसी निकाह में रशीद ने राजस्थानी कलाकारों को बुलाया था। इन कलाकारों में एक महिला डांसर ने घूमर डांस किया था। डांस का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

वायरल वीडियो में एक महिला डांसर राजस्थानी परिधान में कई लोगों के आगे स्टेज पर नाच रही थी। मंच पर एक पुरुष में राजस्थान के पारम्परिक वेश में दिख रहा है। कार्यक्रम खत्म हो जाने के बाद रशीद के इलाके के कुछ मौलानाओं और मुस्लिम समाज के अन्य लोगों ने मीटिंग की। मीटिंग में सर्वसम्मति से यह घोषणा की गई कि निकाह में महिलाओं का डांस कायदों के खिलाफ है। इसी दौरान सभा के पंचों ने रसीद और उनके परिवार को नियम तोड़ने वाला घोषित कर दिया।

रशीद ने हरदा के जिलाधिकारी (DM) को शिकायती पत्र दे कर न्याय की गुहार लगाई है। उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके परिवार को 11 महीने के लिए किसी भी शादी-ब्याह में न बुलाने का फरमान सुनाया गया है। बताया यह भी जा रहा है कि पीड़ित परिवार पर 1 लाख रुपए का जुर्माना भी ठोंका गया है। रशीद की बुजुर्ग अम्मी ने इस फरमान को गलत बताया है। पीड़ित परिवार इस फैसले के खिलाफ पुलिस में गया। आरोप है कि पुलिस ने बॉयकॉट करने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं की।

आखिरकार रशीद ने हरदा के जिलाधिकारी से शिकायत की है। जिलाधिकारी ने फ़ौरन ही जाँच के लिए एक टीम रशीद के घर और पास-पड़ोस में पहुँची। रशीद के पड़ोसियों ने बहिष्कार जैसे आरोपों को झूठ बताया है। पड़ोसियों ने बताया कि रशीद का बहिष्कार नहीं किया गया है बल्कि उनको जाजम के खाने से बाहर कर दिया गया है। प्रशासन मामले की जाँच करवा रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -