Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजटैटू बनाते समय यौन शोषण... अब स्पेन से महिला ने सुजीश के खिलाफ पुलिस...

टैटू बनाते समय यौन शोषण… अब स्पेन से महिला ने सुजीश के खिलाफ पुलिस को भेजी शिकायत… पहले से ही दर्ज हैं 5 केस

सुजीश पर रेप और यौन शोषण का सबसे पहला आरोप योनि का टैटू बनवाने गई 18 वर्षीया लड़की ने लगाया था। इन आरोपों के बाद अब स्वयं को पीड़िता बता रहीं 7 अन्य लड़कियाँ भी सामने आई हैं।

टैटू शॉप की आड़ में लड़कियों का यौन शोषण करने वाले केरल में कोच्चि के सुजीश पर अब एक और आरोप लगा है। यह आरोप स्पेन की एक महिला ने लगाया है। महिला ने अपनी शिकायत कोच्चि पुलिस को ई मेल भेजकर की है। शिकायत के मुताबिक, यह घटना उसके कोच्चि दौरे के समय की है। पुलिस ने और अधिक जानकारी के लिए आरोप लगाने वाली महिला से सम्पर्क करने का प्रयास किया है।

बताया जा रहा है कि आरोप लगाने वाली महिला ने सुजीश के खिलाफ चल रहे MeToo अभियान को देखकर अपनी शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में उसने सुजीश के स्टूडियो में बिताए गए समय को भयावह बताया और यौन शोषण की बता कही है। सुजीश पर पहले से ही 5 केस दर्ज हैं। उनकी गिरफ्तारी लगभग एक हफ्ते पहले हो जा चुकी है।

गौरतलब है कि सुजीश के टैटू स्टूडियो का नाम इंकफेक्टेड (Inkfected) है। इस टैटू आर्टिस्ट की क्लाइंट सूची में मलयालम फिल्मों की बड़ी-बड़ी हस्तियाँ शामिल हैं। सुजीश पर रेप और यौन शोषण का सबसे पहला आरोप योनि का टैटू बनवाने गई 18 वर्षीया लड़की ने लगाया था। इन आरोपों के बाद अब स्वयं को पीड़िता बता रहीं 7 अन्य लड़कियाँ भी सामने आई हैं। इन सबने भी अपने साथ सुजीश द्वारा यौन शोषण किए जाने की बात कबूल की है।

सभी पीड़ित लड़कियों/महिलाओं ने मिलकर सुजीश के खिलाफ पुलिस में शिकायत करने का फैसला किया था। सुजीश पर IPC की धारा 354 और 376 के तहत कार्रवाई की गई है। इसके अलावा कुछ अन्य महिलाओं ने भी सुजीश द्वारा अपने साथ किए गए यौन शोषण की चर्चा सोशल मीडिया में की है। हालाँकि, कुछ ही पीड़िताओं ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -