Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजअहमदाबाद के शाहपुर में पुलिस पर पथराव, रेड जोन में रमजान के दौरान सड़क...

अहमदाबाद के शाहपुर में पुलिस पर पथराव, रेड जोन में रमजान के दौरान सड़क पर जमा हो गए थे लोग

शाहपुर अल्पसंख्यक बहुल इलाका है। काफी कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आने के बाद इसे रेड जोन घोषित कर दिया गया है। इसके बावजूद शुक्रवार शाम लोग अपने घरों से बाहर निकल गए। पुलिस ने लोगों से लॉकडाउन का पालन करने को कहा। लोग नहीं माने और पथराव करने लगे।

गुजरात के अहमदाबाद का शाहपुर रेड जोन है। यहॉं रमजान के दौरान सड़क पर लोग जमा हो गए। पुलिस ने लॉकडाउन का हवाला दे रोकने की कोशिश की तो पथराव किया।

घटना शुक्रवार (मई 8, 2020) की है। बेकाबू भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज और आँसू गैस का सहारा लेना पड़ा।

शाहपुर अड्डा इलाके में पथराव के बाद घटनास्थल पर वरिष्ठ अधिकारी भी पहुँचे। इलाके में अनियंत्रित भीड़ के पथराव से पुलिसकर्मियों की जान पर बन आई थी। इस घटना में पाँच पुलिसकर्मी घायल हो गए।

बता दें कि शाहपुर अल्पसंख्यक बहुल इलाका है और यहाँ से काफी सारे कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आने के बाद इसे रेड जोन घोषित कर दिया गया है। इसके बावजूद शुक्रवार को नागोरीवाड क्षेत्र के लोग शाम में रमजान के लिए अपने घरों से बाहर निकलने लगे। ड्यूटी पर मौजूद पुलिस ने लोगों से लॉकडाउन का पालन करने को कहा। लोग नहीं माने और पुलिस पर पथराव करने लगे।

सिटी पुलिस कमिश्नर आशीष भाटिया ने रॉयटर्स से कहा कि पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने जब लोगों ने लॉकडाउन का पालन करने के लिए कहा तो लोग काफी आक्रोशित हो गए और फोर्स पर पथराव करना शुरू कर दिया।

पुलिस उपायुक्त विजय पटेल ने भी घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि 15 लोगों को हिरासत में ले लिया गया है। अब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है।

शाहपुर पुलिस स्टेशन प्रभारी आरके अमीन ने कहा कि हिरासत में लिए गए लोगों के खिलाफ लॉकडाउन के उल्लंघन के लिए धारा 188 और महामारी रोग अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। पथराव में आरके अमीन भी जख्मी हुए हैं।

गौरतलब है कि अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने 15 मई तक दूध और दवा की दुकानों को छोड़कर सभी दुकानों को बंद करने का आदेश दिया है। यहाँ तक कि सब्जी, फल और किराने की दुकानों को भी बंद रखने का आदेश दिया गया है। शहर में लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराया जाए, इसके लिए इलाके में पैरामिलिट्री फोर्स की भी तैनाती की गई है।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों जब वडोदरा के नगरवाड़ा इलाके में कसम आला मस्जिद (Kasam Aala mosque) के नजदीक लॉकडाउन का पालन कराने गई थी, तो 50 लोगों ने पुलिस टीम पर हमला किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिल्पकार के नाम से प्रसिद्ध दुनिया का ‘इकलौता’ मंदिर, पानी में तैरने वाले पत्थरों से निर्माण: तेलंगाना का रामप्पा मंदिर

UNESCO के विरासत स्थलों में शामिल है तेलंगाना के वारंगल स्थित काकतीय रुद्रेश्वर या रामप्पा मंदिर। 12वीं शताब्दी में निर्मित मंदिर कुछ विशेष कारणों से है अद्वितीय।

कारगिल के 22 साल: ‘फर्ज पूरा होने से पहले मौत आई तो प्रण लेता हूँ मैं मौत को मार डालूँगा’

भारतीय सैनिकों के ऊपर 60-70 मशीनगन लगातार फायरिंग कर रही थी। गोले बरस रहे थे। फिर भी कैप्टन मनोज पांडे टुकड़ी के साथ आगे बढ़ रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe