Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजइस 26 जनवरी से दुरुस्त होगा इतिहास: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का बिहार...

इस 26 जनवरी से दुरुस्त होगा इतिहास: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का बिहार में बड़ा ऐलान, कहा- नई किताबों में बच्चों को देंगे सही ज्ञान

बता दें कि साल 2020 में केंद्र की मोदी सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 (NEP) को मंजूरी दी थी। इसके तहत कई महत्वपूर्ण बदलाव किए जा रहे हैं। इसी के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया था।

इस वसंत पंचमी (सरस्वती पूजा) से नई शिक्षा नीति के तहत देश भर में छात्र अब भारतीय इतिहास का सही संस्करण पढ़ेंगे। इसकी घोषणा केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बिहार में की है। धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि 26 जनवरी 2023 से देश भर के छात्रों को भारतीय इतिहास का सही संस्करण पढ़ाया जाएगा। इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है।

प्रधान मंगलवार (27 दिसंबर 2022) को बिहार के सासाराम जिले के जमुहार में स्थित गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय (GNSU) में आयोजित भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान परिषद (ICHR) और अखिल भारतीय इतिहास संकल्प योजना के अधिवेशन एवं राष्ट्रीय संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे।

अपने संबोधन के दौरान शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि पुस्तकों को सही तथ्यों के साथ फिर से प्रकाशित किया जा रहा है। नई पुस्तकें दुनिया को भारतीय इतिहास के बारे में स्पष्टता प्रदान करेंगी। उन्होंने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति देश के सही इतिहास, भाषा और संस्कृति को समझने का मौका देगी।

देश भर के छात्रों को वसंत पंचमी के अवसर पर 26 जनवरी 2023 से राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत भारतीय इतिहास का सही संस्करण पढ़ाया जाएगा। प्रधान ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में मातृभाषा को प्राथमिकता दी गई है। नई तथ्यों के साथ पुस्तकें प्रकाशित की जा रही हैं। नई किताबें डिजिटल मोड में भी उपलब्ध होंगी।

अपने संबोधन के दौरान प्रधान ने भारत द्वारा जी-20 की अध्यक्षता सँभाले जाने का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा, “हमें G-20 को भारत का उत्सव बनाना होगा।” उन्होंने यह भी कहा कि G-20 भारत की समृद्ध विरासत को दुनिया के सामने रखने का सुनहरा अवसर है।

आपको बता दें कि साल 2020 में केंद्र की मोदी सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 (NEP) को मंजूरी दी थी। इसके तहत कई महत्वपूर्ण बदलाव किए जा रहे हैं। इसी के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -