Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजपति जैसा दिखता था 4 साल का बेटा, इसलिए सूचना सेठ ने मार डाला?...

पति जैसा दिखता था 4 साल का बेटा, इसलिए सूचना सेठ ने मार डाला? जिस कैब ड्राइवर के कारण पकड़ी गई उसने किए कई चौंकाने वाले खुलासे

गोवा के एक होटल में अपने 4 वर्षीय बच्चे की हत्या करने की आरोपित एक टेक कंपनी की CEO सूचना सेठ के बारे में नए खुलासे हुए हैं। पूछताछ में यह सामने आया है कि सूचना सेठ ने अपने पति से ₹2.5 लाख गुजारा भत्ता के तौर पर माँगे थे। उसने पुलिस को यह भी बताया कि बच्चे में उसके पिता का चेहरा नजर आता था। इस बात से वह खुश नहीं थी।

गोवा के एक होटल में अपने 4 वर्षीय बच्चे की हत्या करने की आरोपित एक टेक कंपनी की CEO सूचना सेठ के बारे में नए खुलासे हुए हैं। पूछताछ में यह सामने आया है कि सूचना सेठ ने अपने पति से ₹2.5 लाख गुजारा भत्ता के तौर पर माँगे थे। वहीं, एक रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई है कि बच्चे में उसके पिता का चेहरा नजर आता था, जो उसके बिगड़े रिश्ते की याद दिलाता था।

घटना के 48 घंटे बाद कर्नाटक से गिरफ्तार सूचना सेठ के चेहरे पर उसकी करतूत का कोई पछतावा नहीं दिखा। पुलिस को आशंका है कि सूचना ने आत्महत्या की भी कोशिश की थी। उसकी कलाई पर चोट के निशान और कमरे से कफ सिरफ के दो खाली बोतल मिले हैं। हालाँकि, वो बता नहीं पाई कि ये चोट कैसे लगे। पुलिस कड़ियों को जोड़ने के लिए मनोचिकित्सकों की भी सहायता लेगी।

पति पर कराया था घरेलू हिंसा का मुकदमा

सूचना सेठ की वेंकट रमन से नवम्बर 2010 में कोलकाता में शादी हुई थी। सूचना ने अपने जिस बेटे चिन्मय की हत्या की, उसका जन्म 14 अगस्त 2019 को हुआ था। कोरोना के दौरान पति-पत्नी के रिश्ते बिगड़ गए थे। इसके बाद दोनों ने तलाक के लिए कोर्ट में अर्जी डाला था। सूचना ने अगस्त 2022 में वेंकट रमण के खिलाफ घरेलू हिंसा का भी मुकदमा दायर किया था।

सूचना ने आरोप लगाया था कि वेंकट उसके साथ और उसके बेटे के साथ मारपीट करता है। उसने यह भी बताया कि उसके पति की महीने की कमाई ₹9 लाख से अधिक है, इसलिए उसे गुजारा भत्ता के रूप में महीने के ₹2.5 लाख चाहिए। यह बात अलग है कि सूचना खुद एक कम्पनी की सीईओ है और काफी अच्छा पैसा कमाती है।

सूचना और वेंकट के मुकदमे की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने आदेश दिया था कि बेटा सूचना सेठ के साथ रहेगा। साथ ही कोर्ट ने वेंकट को बच्चे से फ़ोन पर बात करने या सूचना के घर जाने पर भी रोक लगा दी थी। कोर्ट ने वेंकट को हर रविवार को बच्चे से मिलने की इजाजत दी थी। इससे सूचना काफी नाखुश थी। सूचना नहीं चाहती थी कि एक भी दिन वेंकट अपने बेटे से मिल पाए।

बच्चे में दिखता था पिता का चेहरा, पुलिस को कर रही गुमराह

एक रिपोर्ट में बताया गया है कि सूचना ने अपने सम्बन्धियों और करीबियों से बताया था कि उसे अपने बेटे में वेंकट का चेहरा दिखता है और दोनों के कड़वाहट भरे रिश्ते की याद आती है। यह भी सामने आया है कि बच्चे की हत्या से पहले उसके पिता ने सूचना को फ़ोन करके उससे मिलने की गुहार लगाई थी। तब सूचना ने कहा था कि वह किसी सार्वजनिक स्थान पर मिलवाने के लिए बच्चे को लाएगी।

हालाँकि, जिस जगह बच्चे से वेंकट को मिलना था, उस दिन वेंकट वहाँ पहुँचा भी था, लेकिन सूचना बच्चे को लेकर नहीं आई और वह गोवा चली गई। वहीं, वेंकट इंडोनेशिया चला गया। इसके बाद सूचना बच्चे को लेकर गोवा के एक होटल में गई और वहाँ बच्चे की हत्या करने के बाद उसकी लाश लेकर कर्नाटक की तरफ चली गई।

पुलिस का मानना है कि सूचना जाँच में सहयोग नहीं कर रही है और गुमराह करने की कोशिश कर रही है। पुलिस को सूचना ने बताया है कि जब वह सोई थी, तब उसका बेटा जीवित था, लेकिन जब वह सुबह उठी तो वह मृत मिला। हालाँकि, पुलिस को इस थ्योरी पर विश्वास नहीं है। पुलिस ने उसकी मानसिक स्थिति का पता लगाने के लिए जाँच करवाने का भी निर्णय लिया है।

ड्राईवर ने दिखाई होशियारी, नहीं होने दी पुलिस तक पहुँचने की भनक

इस पूरे कांड में सूचना के पकड़े जाने में उस टैक्सी ड्राईवर का अहमद रोल है, जिसकी गाड़ी में बैठकर वह गोवा से बेंगलुरु जा रही थी। इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उस टैक्सी के ड्राइवर रॉयजॉन डिसूजा ने बताया है कि वह 8 जनवरी 2024 की रात साढ़े 12 बजे सूचना को गोवा से बेंगलुरु के लिए लेकर निकला था। सूचना होटल में उससे जल्दी की रट लगा रही थी।

हालाँकि, गोवा और कर्नाटक बॉर्डर पर पहुँचने पर ड्राइवर को जाम मिला। इस पर ड्राइवर ने सूचना को एयरपोर्ट छोड़ने की सलाह दी। सूचना इसके लिए राजी नहीं हुई। ड्राइवर को पुलिस ने होटल के कमरे में खून के धब्बे देख कर फ़ोन किया था। ड्राइवर ने बताया इसके बाद पुलिस ने कहा कि वह सूचना से बात करवाए। सूचना ने पुलिस को अपने बेटे के बारे में गलत जानकारी दी थी।

इसके बाद पुलिस ने ड्राइवर डिसूजा को कहीं आसपास के थाने में जाने को कहा। इसके बाद ड्राइवर डिसूजा एक रेस्टोरेंट पर बहाना बनाकर उतरा और वहाँ के गार्ड से आसपास के पुलिस थाने के बारे में पूछा। गार्ड ने डिसूजा को बताया कि 500 मीटर दूर ही एक पुलिस थाना है। इसके बाद वह ऐमन्गला पुलिस थाने पहुँचा। वहाँ सूचना के बैग की तलाशी ली गई तो उसमें उसके बेटे की लाश बरामद हुई।

इस मामले में यह बात भी सामने आई है कि सूचना सेठ होटल के जिस कमरे में रुकी थी, वहाँ कफ सिरप मिली है। माना जा रहा है कि उसने बेटे की हत्या काफ सिरप पिलाने के बाद किए से नाक-मुँह दबाकर किया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी यह बात सामने आई है कि बच्चे की हत्या किसी चीज से दबाकर की गई है।

क्या था पूरा मामला?

बता दें कि 39 वर्षीय सूचना सेठ एक टेक स्टार्टअप फाउंडर और माइंडफुल नाम की कम्पनी की CEO है। वह 6 जनवरी 2024 की शाम को अपने 4 साल के बेटे को साथ लेकर गोवा गई थी और वहाँ के एक होटल में ठहरी थी। उसने 7 जनवरी 2024 को जल्दी-जल्दी में अपना होटल छोड़ दिया। जब वह वापस निकली तो उसके साथ उसका बेटा नहीं था।

उसने होटल की रिसेप्शनिस्ट से कहा था कि उसे बेंगलुरु के लिए एक निजी टैक्सी चाहिए। होटल के कर्मचारियों ने कहा कि सूचना को फ्लाइट लेना चाहिए, लेकिन वह टैक्सी लेने पर अड़ी रही। इसके बाद जब उसे टैक्सी मिली तो वह वहाँ से एक बैग के साथ निकल गई। इस दौरान उसका बेटा नहीं दिखा। इस पर होटल के कर्मचारियों ने पूछा तो सूचना बोली कि उसे पहले ही घर भेज चुकी है।

सूचना सेठ के कमरा छोड़ने के बाद होटल के सफाई कर्मचारी उस कमरे की साफ-सफाई के लिए गए, जिसमें वह ठहरी हुई थी। सफाईकर्मियों ने कमरे में इधर-उधर खून बिखरा हुआ देखा। इसके बाद सफाई कर्मी ने होटल के प्रबन्धन को सूचित किया। होटल प्रबंधन ने इसके बारे में पुलिस को जानकारी दी। उन्होंने पुलिस को बताया कि महिला के उसका बेटा साथ में वापस जाता नहीं दिखा था।

पुलिस ने जब सूचना को फ़ोन किया तो उसने बताया कि उसका बेटा गोवा के फट्रोडा में है। वहाँ उसके दोस्त हैं। पुलिस ने जब इसकी जाँच की तो उसे शक हुआ। पुलिस ने सूचना को लेकर जा रही टैक्सी के ड्राइवर का नंबर निकाला और उसे फोन करके नजदीकी पुलिस थाने मेें जाने को कहा। ड्राइवर उस समय कर्नाटक के चित्रदुर्ग में था। थाने में बैग की जाँच में उसके 4 वर्षीय बेटे की लाश मिली।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -