Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजमुहर्रम पर जुलूस निकालने की माँग खारिज, सुप्रीम कोर्ट ने कहा - 'अनुमति दी...

मुहर्रम पर जुलूस निकालने की माँग खारिज, सुप्रीम कोर्ट ने कहा – ‘अनुमति दी तो फैलेगी अराजकता’

"अगर हम जुलूस निकालने की अनुमति दे देंगे तो इससे आराजकता फैलेगी और फिर एक समुदाय विशेष को कोरोना फैलाने के नाम पर लक्षित किया जाएगा, जो सुप्रीम कोर्ट नहीं चाहेगा।" अदालत ने यह भी कहा कि वह ऐसा कोई आदेश नहीं देंगे जिससे...

सुप्रीम कोर्ट ने मुहर्रम जुलूस निकालने की माँग वाली याचिका को आज (अगस्त 27, 2020) सुनवाई के दौरान खारिज कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर मुहर्रम जुलूस निकालने की इजाजत देंगे तो इससे अराजकता फैलेगी।

कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा, “अगर हम जुलूस निकालने की अनुमति दे देंगे तो इससे आराजकता फैलेगी और फिर एक समुदाय विशेष को कोरोना फैलाने के नाम पर लक्षित किया जाएगा, जो सुप्रीम कोर्ट नहीं चाहेगा।” अदालत ने यह भी कहा कि वह ऐसा कोई आदेश नहीं देंगे जिससे लोगों के स्वास्थ्य को खतरा हो।

पीठ ने वकील द्वारा शिया धर्मगुरु कल्बे जव्वाद के उस तर्क को भी खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने बताया था कि जगन्नाथ पुरी मंदिर में रथ यात्रा की अनुमति दी गई थी।

पीठ ने पुरी यात्रा को लेकर कहा कि वह यात्रा एक जगह पर होती है और याचिकाकर्ता पूरे देश के लिए इजाजत माँग रहे हैं। अगर किसी एक जगह की बात होती, तो खतरे का आँकलन करके आदेश दिया जा सकता था।

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबड़े की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि मुहर्रम के जुलूस के लिए कोई निश्चित स्थान नहीं होता है, जहाँ प्रतिबंध और सावधानी बरती जा सकती है। बेंच ने कहा कि आप एक समुदाय के लिए पूरे देश के लिए अस्पष्ट निर्देश माँग रहे हैं।

बता दें कि मुहर्रम जुलूस निकालने के लिए शिया धर्म गुरु कल्बे जव्वाद ने याचिका दाखिल की थी। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह पूरे देश पर लागू होने वाला कोई आदेश नहीं दे सकते। याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में कोर्ट से अपील की थी कि हमें कम से कम लखनऊ में जुलूस की इजाज़त दी जाए। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने उनसे इलाहाबाद हाईकोर्ट जाने को कहा।

गौरतलब है कि पूरे देश में मुहर्रम का त्योहार 29 अगस्त को मनाया जाना है। ऐसे में कोर्ट ने इस याचिका को भी खारिज कर दिया जिसमें मुहर्रम जुलूस में केवल 5 लोगों को ही शामिल होने की इजाजत माँग थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,101FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe