Monday, April 22, 2024
Homeदेश-समाजISRO वैज्ञानिक नम्बी नारायणन जासूसी मामले में दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करे CBI,...

ISRO वैज्ञानिक नम्बी नारायणन जासूसी मामले में दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करे CBI, सुप्रीम कोर्ट नहीं करेगा निगरानी

सुप्रीम कोर्ट ने 15 अप्रैल 2021 को केरल के वैज्ञानिक नम्बी नारायणन पर साल 1994 में लगे देशद्रोह के आरोप और उसके बाद हुई उनकी प्रताड़ना के मामले में CBI जाँच के आदेश दिए थे।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) के पूर्व वैज्ञानिक नंबी नारायण मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जाँच की निगरानी करने से अब इनकार कर दिया है। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार (26 जुलाई 2021) को सीबीआई को कहा कि वो इसरो मामले में जाँच पूरी कर कानून के मुताबिक कार्रवाई करें। अदालत ने कहा कि ये जाँच और कानूनी कार्रवाई CBI की एफआईआर और जाँच के आधार पर होनी चाहिए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, आरोपित की ओर से पेश हुए एक वकील ने कोर्ट से अनुरोध किया कि इस मामले में गठित जस्टिस डीके जैन समिति की रिपोर्ट उनके साथ साझा की जाए। इस पर जस्टिस एएम खानविलकर और संजीव खन्ना की पीठ ने कहा, ”रिपोर्ट केवल एक प्रारंभिक जानकारी है। वे (सीबीआई) केवल रिपोर्ट के आधार पर आपके (आरोपित) के खिलाफ आगे नहीं बढ़ सकते हैं। उन्हें जाँच करनी है, तथ्य जुटाने हैं और फिर कानून के अनुसार आगे बढ़ना है। अंतत: इस मामले की जाँच की जाएगी। रिपोर्ट आपके अभियोजन का आधार नहीं हो सकती है।”

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर में रिपोर्ट का सार है। पीठ ने कहा कि रिपोर्ट कहती है कि प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है, लेकिन इसे वेबसाइट पर अपलोड नहीं किया गया है। इस पर मेहता ने कहा कि मामले में दर्ज प्राथमिकी संबंधित अदालत में दायर की गई है और अगर अदालत अनुमति देती है तो इसे वेबसाइट पर अपलोड किया जा सकता है।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 15 अप्रैल 2021 को केरल के वैज्ञानिक नम्बी नारायणन पर साल 1994 में लगे देशद्रोह के आरोप और उसके बाद हुई उनकी प्रताड़ना के मामले में CBI जाँच के आदेश दिए थे। अदालत ने माना था कि वरिष्ठ वैज्ञानिक की प्रतिष्ठा को ठेस पहुँचाया गया और उनके मानवाधिकार का उल्लंघन हुआ है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हिरासत में लिए जाने के बाद उन्हें जिस ‘कुटिल घृणा’ का सामना करना पड़ा, उसके लिए केरल के बड़े पुलिस अधिकारी जिम्मेदार थे। अब इस मामले की जाँच CBI करेगी।

बता दें कि 1996-97 में CBI ने पाया था कि इस मामले की जाँच करने वाले केरल पुलिस के अधिकारियों ने ही सारी गड़बड़ी की है। CBI ने उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए भी केरल सरकार को शिकायती पत्र भी लिखा था। CPI (M) के ईके नायनार तब केरल के मुख्यमंत्री थे। वामपंथी सरकार ने उन अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के इंतजार का बहाना बनाया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिमों के लिए आरक्षण माँग रही हैं माधवी लता’: News24 ने चलाई खबर, BJP प्रत्याशी ने खोली पोल तो डिलीट कर माँगी माफ़ी

"अरब, सैयद और शिया मुस्लिमों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलता है। हम तो सभी मुस्लिमों के लिए रिजर्वेशन माँग रहे हैं।" - माधवी लता का बयान फर्जी, News24 ने डिलीट की फेक खबर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe