Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजSC में अब वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, CJI ने कहा- वकीलों को कोर्ट...

SC में अब वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, CJI ने कहा- वकीलों को कोर्ट आने की जरूरत नहीं

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते अब सुप्रीम कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही मामलों की सुनवाई होगी। इसके जरिए भी केवल जरूरी मामलों की सुनवाई की जाएगी। वकील घर से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बहस कर सकेंगे।

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते अब सुप्रीम कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही मामलों की सुनवाई होगी। इसके जरिए भी केवल जरूरी मामलों की सुनवाई की जाएगी। वकील घर से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बहस कर सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने परिसर में वकीलों के चेंबर बंद करने के आदेश दिए हैं।

इसके लिए वकीलों को मंगलवार (मार्च 24, 2020) शाम पाँच बजे तक का वक्त दिया गया है और उन्हें फाइल और अपना सामान निकाल लेने के लिए कहा है। सभी वकीलों के चैंबरों को मंगलवार शाम को सील कर दिया जाएगा। उसके बाद किसी को भी सुप्रीम कोर्ट परिसर में आने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

सीजेआई बोबडे ने कहा कि अब अदालत कोर्ट रूम में नहीं लगेंगी। इसलिए वकीलों को भी आने की जरूरत नहीं। उन्होंने कहा कि हफ्ते भर बाद फिर से समीक्षा की जाएगी। उसके बाद निर्णय लिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट अगले आदेश तक केवल बेहद जरूरी मामलों की ही सुनवाई करेगा। वकीलों को लिंक मुहैया कराया जाएगा, जिससे वे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर पाएँगे।

इस दौरान वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट से चार हफ्तों में खत्म होने वाले केसों की तारीख चार हफ्ते तक बढ़ाने की अपील की। हालाँकि कोर्ट ने कहा कि जरूरी सुनवाई होगी, लेकिन पर्सन हियरिंग नहीं होगी। अर्जेंट हियरिंग के दौरान भी जस्टिस कोर्ट नहीं आएँगे और मामले की सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही होगी।

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के 30 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमित लोगों की संख्या सोमवार को बढ़कर 415 हो गई। इन आँकड़ों में 41 विदेशी नागरिक और अब तक हुई सात मौत शामिल है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि गुजरात, बिहार और महाराष्ट्र में रविवार को एक-एक मौत हुई जबकि पहले चार अन्य मौत कर्नाटक, दिल्ली, महाराष्ट्र और पंजाब में हुई थीं। वहीं, देश की राजधानी दिल्ली सहित कई राज्यों में 31 मार्च तक के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -