Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजराहुल पटेल बन मोहम्मद मलिक ने हिंदू युवती को फँसाया, रेप किया, हकीकत सामने...

राहुल पटेल बन मोहम्मद मलिक ने हिंदू युवती को फँसाया, रेप किया, हकीकत सामने आई तो लड़की पर धर्मान्तरण का दबाव डाल नमाज पढ़वाई

पूछताछ में राहुल बने मोहम्मद मलिक ने पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल कर लिया। उसने ये भी बताया कि उसकी माँ हिंदू है और पिता मुस्लिम। इसलिए वो और उसके सभी भाई-बहन भी इस्लाम को मानते हैं।

गुजरात के सूरत जिले से एक बार फिर लव जिहाद का मामला सामने आया है। यहाँ मोहम्मद मलिक नाम के मुस्लिम व्यक्ति ने राहुल पटेल बनकर एक हिंदू युवती को झूठे प्रेम के जाल में फँसाया और फिर करजण के एक फॉर्महाउस में ले जाकर उसका रेप किया। इसके बाद जब युवती को आरोपित की असली पहचान का पता चला तो उसने पीड़िता पर धर्म परिवर्तन का दबाव डालते हुए उससे जबरन नमाज पढ़वाया।

रिपोर्ट के मुताबिक, घटना सूरत के पुणागाम इलाके की है। पुणागाम भैयानगर के पास स्थित नारायण नगर के रहने वाले मोहम्मद मलिक (21) ने 17 वर्षीय हिंदू युवती को हिंदू बन पहले अपने जाल में फँसा लिया। इस बीच बीते रविवार को मौका मिलते ही आरोपित युवती को अपने साथ भगा ले गया। उसके बाद करजण स्थित एक फॉर्महाउस पर उसका रेप किया। इधर लड़की के घरवालों ने पुणागाम पुलिस स्टेशन में मामले की शिकायत की।

अंतरधार्मिक मामला देख पुलिस ने तेजी से कार्रवाई की और आरोपित को ढूँढ निकाला और युवती को उसके चंगुल से बचाने के साथ ही आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ आईपीसी के साथ ही लव जिहाद कानून के तहत भी कार्रवाई की है। इस बीच पूछताछ में राहुल बने मोहम्मद मलिक ने पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल कर लिया। उसने ये भी बताया कि उसकी माँ हिंदू है और पिता मुस्लिम। इसलिए वो और उसके सभी भाई-बहन भी इस्लाम को मानते हैं। केस की जाँच का जिम्मा एसीपी सी डिवीजन बीएम बसावा को सौंपी गई है।

वहीं बचाए जाने के बाद पीड़िता ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि मोहम्मद मलिक ने जब उससे दोस्ती की थी तो उसने अपना नाम राहुल बताया था। इसके अलावा उसने अपने हाथ पर राहुल नाम का टैटू भी बनवा रखा है। युवती का कहना है कि इसी कारण वो उसके झाँसे में आ गई। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि आरोपित ने उसकी पहचान का खुलासा होने के बाद उस पर धर्मान्तरण का दबाव डाला, साथ ही नमाज भी पढ़वाई।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe