Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाज'भेदभाव नहीं करतीं तृप्ता त्यागी, बच्चों की फीस भी करती हैं माफ़': वीडियो वायरल...

‘भेदभाव नहीं करतीं तृप्ता त्यागी, बच्चों की फीस भी करती हैं माफ़’: वीडियो वायरल होने के बाद गाँव के ही मुस्लिम ने बताया – मैं भी उनसे पढ़ा हूँ, अब मेरी बेटी पढ़ती है

उन्होंने खुद बचपन में तृप्ता त्यागी से ट्यूशन पढ़ा। तृप्ता ने आरिब को अंग्रेजी पढ़ाई थी। आरिब का दावा है कि तृप्ता ने उनके साथ कभी भी हिन्दू या मुस्लिम समझ कर भेदभाव नहीं किया।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है। इस वीडियो के आधार पर एक स्कूल की शिक्षिका पर छात्र को अन्य बच्चों से पिटवाने का आरोप लगा था। मोहम्मद जुबैर, संजय सिंह, सदफ अमीन जैसे कइयों ने अपने सोशल मीडिया हैंडलों के जरिए इस मामले को सांप्रदायिक एंगल देने का प्रयास किया। इस्लामी मुल्क क़तर के मीडिया संस्थान ‘अल जजीरा’ ने भी विदेश से बैठ कर इस मामले में हिन्दू-मुस्लिम की हवा देनी शुरू की।

हालाँकि, पहले पुलिस और बाद में खुद छात्र के अब्बा ने मामले में किसी भी सांप्रदायिक एंगल से इनकार कर दिया। अब उसी स्कूल में अपने बच्चे को पढ़ाने वाले एक अन्य मुस्लिम व्यक्ति ने ऑपइंडिया से बात करते हुए स्कूल की शिक्षिका को सांप्रदायिक बताने वालों की आलोचना की है।

यह घटना मुजफ्फरनगर जिले के थाना क्षेत्र मंसूरपुर की है। यहाँ के गाँव खुब्बापुर में ‘नेहा पब्लिक स्कूल’ है। तृप्ता त्यागी नाम की महिला टीचर का वीडियो वायरल होने के बाद ऑपइंडिया ने खुब्बापुर गाँव के ही मुस्लिम ग्रामीण आरिब से बात की। आरिफ ने इस घटना को सांप्रदायिक एंगल दे रहे लोगों से नाराजगी जताई। उन्होंने बताया कि न सिर्फ उनकी बेटी बल्कि 2 भांजे भी ‘नेहा पब्लिक स्कूल’ में पढ़ते हैं और आज तक कभी भी उनके बच्चों के साथ मजहब के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया गया।

ऑपइंडिया से बात करते हुए 32 वर्षीय आरिब ने कहा कि पहले उन्होंने खुद बचपन में तृप्ता त्यागी से ट्यूशन पढ़ा। तृप्ता ने आरिब को अंग्रेजी पढ़ाई थी। आरिब का दावा है कि तृप्ता ने उनके साथ कभी भी हिन्दू या मुस्लिम समझ कर भेदभाव नहीं किया। हमसे बात करते हुए अरिब ने आगे बताया कि अब उनकी एक 2 साल की बेटी है जिसे वो ‘नेहा पब्लिक स्कूल’ में पढ़ा रहे हैं। उन्होंने यह भी दावा किया कि उनकी बच्ची बहुत अच्छे से स्कूल में पढ़ रही है और कभी भी उनके साथ कोई मजहब के आधार पर भेदभाव नहीं हुआ।

बकौल आरिब, स्कूल में अच्छी और बिना भेदभाव की पढ़ाई के चलते ही उन्होंने अपने 2 भाँजों का भी एडमिशन नेहा पब्लिक स्कूल में करवाया है। अब आरिब के दोनों भाँजे भी उसी स्कूल में आराम से बिना किसी समस्या के पढ़ रहे हैं। आरिब ने हमसे बातचीत के दौरान साल 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों की याद दिलाई। उन्होंने कहा कि उतने तनावपूर्ण हालात में भी खुब्बापुर में कोई सांप्रदायिक घटना नहीं हुई। आरिब ने यह भी बताया कि जिस परिवार ने महिला टीचर पर आरोप लगाए हैं वो मूल रूप से उनके गाँव के नहीं हैं और कहीं बाहर से आ कर रिश्तेदारी में बसे हैं।

हमसे बातचीत के दौरान मोहम्मद आरिब ने यह भी कहा कि जिन मैडन तृप्ता त्यागी को इतना बदनाम किया जा रहा है कई बार वो बच्चों को बिना पैसे के पढ़ाती हैं। उन्होंने कहा कि वो खुद टीचर त्यागी की दरियादिली के गवाह हैं। साथ ही आरिब ने दावा किया कि जिस वीडियो को वायरल किया जा रहा उसमें तमाम काट-छाँट है जबकि असल वीडियो में टीचर में एक भी बात गलत नहीं बोली है।

ऑपइंडिया ने तृप्ता त्यागी के परिजनों से भी बात की। उन्होंने बताया कि स्कूल क्लास 1 से 5 तक है। कुल छात्रों की सँख्या लगभग 55 है। इन 55 छात्रों-छात्राओं में उन्होंने मुस्लिम समुदाय के लगभग 25 छात्र बताए। साथ ही उन्होंने कहा कि आज तक कभी भी ऐसा मामला सामने नहीं आया था और न ही उनकी सोच किसी मजहब आदि के खिलाफ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -