Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजतीस्ता सीतलवाड़ का ठिकाना अब अहमदाबाद, बोलीं - 'मजिस्ट्रेट के आगे दूँगी बयान': मुंबई...

तीस्ता सीतलवाड़ का ठिकाना अब अहमदाबाद, बोलीं – ‘मजिस्ट्रेट के आगे दूँगी बयान’: मुंबई से ले गई गुजरात ATS, क्राइम ब्रान्च को सौंपा

इस केस की जाँच अहमदाबाद क्राइम ब्रान्च कर रही है। पुलिस अधिक से अधिक समय तक रिमांड लेने का प्रयास करेगी। सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद रिमांड की पूरी संभावना जताई जा रही है।

तीस्ता सीतलवाड़ (Teesta Setalvad) को लेकर गुजरात ATS मुंबई से अहमदाबाद पहुँच चुकी है। रास्ते में सुरक्षा के चाक-चौबंद प्रबंध किए गए थे। वहीं तीस्ता सीतलवाड़ ने अपना बयान अहमदाबाद कोर्ट में मजिस्ट्रेट के आगे देना बताया है। 25 जून 2022 (शनिवार) शाम को पुलिस तीस्ता को शांताक्रूज पुलिस स्टेशन से अहमदाबाद ले कर निकली थी।

टाइम्स नाउ नवभारत की रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात ATS कोर्ट से तीस्ता सीतलवाड़ का रिमांड माँगेगी। तीस्ता के साथ गिरफ्तार हुए पूर्व IPS श्रीकुमार और पूर्व IPS संजीव भट्ट को भी आज कोर्ट में पेश किया जाएगा। संजीव भट्ट को जेल से लाया गया है।

इस केस की जाँच अहमदाबाद क्राइम ब्रान्च कर रही है। पुलिस इन सभी का अधिक से अधिक समय तक रिमांड लेने का प्रयास करेगी। सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद तीनों के रिमांड की पूरी संभावना जताई जा रही है।

अहमदाबाद में पत्रकारों के सवाल पर तीस्ता ने कहा, “मैं कोर्ट सँख्या 11 में मजिस्ट्रेट के आगे अपना पूरा स्टेटमेंट दूँगी।”

गौरतलब है कि तीस्ता सीतलवाड़ पर NGO में आए पैसे के दुरुपोग के साथ अदालत में गलत जानकारी पेश करने का आरोप है। जाकिया जाफरी केस में सुप्रीम कोर्ट की तल्ख़ टिप्पणी के बाद उन पर कार्रवाई तय मानी जा रही थी। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी तीस्ता सीतलवाड़ का नाम जकिया जाफरी के पीछे छिपे चेहरे के तौर पर लिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -