Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजपशुओं के अवशेष, गोहत्या का आरोप: UP के बागपत से शाहरुख़, इनाम, कल्लू गिरफ़्तार

पशुओं के अवशेष, गोहत्या का आरोप: UP के बागपत से शाहरुख़, इनाम, कल्लू गिरफ़्तार

खालों और हड्डियों के सैंपल लैब में भेज दिए गए हैं। एक बछड़े का सिर भी बरामद हुआ है। लैब रिपोर्ट से ही इस बात की पुष्टि हो पाएगी कि इनमें गाय के अवशेष हैं या नहीं।

उत्तर प्रदेश के बागपत में एक बार फिर से गोहत्या के आरोप का मामला सामने आया है। पुलिस ने इस मामले में शाहरुख़, इनाम, और कल्लू नाम के 3 आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इन तीनों को सोमवार (जून 3, 2019) को बागपत जिले के सिटी कोतवाली थाना अंतर्गत पुराण कस्बा इलाके से गिरफ्तार किया गया। इलाके में गोहत्या के शक और पशुओं के अवशेष मिलने की खबर से तनाव का माहौल पैदा हो गया है।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को पुराना कस्बा इलाके के 3 घरों में पशुओंं के अवशेष रखने की खबर मिली थी, जिसके बाद पुलिस वहाँ पहुँची। यहाँ इन तीनों घरों में ताला लगा हुआ था। जब पुलिस इन घरों के ताले तोड़कर अंदर गई तो वहाँ से 40 पशुओं की खाल, हड्डियाँ और अवशेष बरामद हुए। ये तीनों घर इनाम, शाहरुख और कल्लू के थे। तीनों के घरों से पशुओं के अवशेष मिलने की वजह से इनको हिरासत में लिया गया है। तीनों आरोपितों का कहना है कि वो लोग पशुओं के ये अवशेष मेरठ के बूचड़खानों से लेकर आए हैं और ज्यादा कीमत पर बेचने के लिए स्टोर करके रखा था।

फिलहाल, पुलिस ने इन आरोपितों के ऊपर गोहत्या और पशुओं के साथ क्रूरता से संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया है। सर्किल ऑफिसर ओमपाल सिंह ने बताया कि इन आरोपितों ने पशुओं की खाल को सुरक्षित रखने के लिए केमिकल का प्रयोग किया था। इसके साथ ही उनका कहना है कि बरामद अवशेषों में से अधिकतर खाल भैंसों की है। बागपत के चीफ वेटनरी ऑफिसर डॉक्टर रवींद्र कुमार का कहना है कि बरामद की गई खालों में 7 नई खालें हैं। फिलहाल खालों और हड्डियों के सैंपल लैब में भेज दिए गए हैं। इसके अलावा एक बछड़े का सिर भी बरामद हुआ है। सर्किल ऑफिसर के अनुसार, लैब रिपोर्ट से ही इस बात की पुष्टि हो पाएगी कि इनमें गाय के अवशेष हैं या नहीं।

इस बारे में जब ओमपाल सिंह ने वहाँ के स्थानीय लोगों से बात की, तो उन्होंने बताया कि पिछली सरकार में यहाँ पर पशुओं की कटाई का काम अवैध रुप से जारी था, लेकिन भाजपा सरकार के आने के बाद गैरकानूनी बूचड़खानों पर रोक लगा दी गई, जिसके बाद से ये काम रुक गया। वहीं, भारतीय जनता युवा मोर्चा और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं का आरोप था कि पशुओं की अवैध रूप से कटाई पुलिस की मिलीभगत से हो रही है। हालाँकि, बागपत के एसपी शैलेश कुमार पांडेय ने आश्वासन देते हुए कहा कि वो इस बात की जाँच करेंगे कि पुलिसवालों को इन गतिविधियों के बारे में जानकारी थी या नहीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,341FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe