Monday, August 15, 2022
Homeदेश-समाजकश्मीर के लाल बाजार इलाके में पुलिस नाके पर आतंकियों ने की फायरिंग: हमले...

कश्मीर के लाल बाजार इलाके में पुलिस नाके पर आतंकियों ने की फायरिंग: हमले में एक जवान बलिदान, दो गंभीर रूप से घायल

इससे पहले पुलवामा में जवानों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया था। इनमें से एक जैश-ए-मोहम्मद का शीर्ष आतंकी कैसर कोका शामिल था। दरअसल, अवंतीपोरा में सुरक्षाबलों ने घेराबंदी की थी। इस दौरान पुलिस को अमेरिका निर्मित एक राइफल, एक पिस्तौल और गोला-बारूद बरामद हुआ था।

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) की राजधानी श्रीनगर (Srinagar) में इस्लामिक आतंकियों ने मंगलवार (12 जुलाई 2022) की शाम को हमला कर दिया, जिसमें एक जवान वीरगति को प्राप्त हो गए। वहीं, इस आतंकी हमले में दो जवान घायल बताए जा रहे हैं।

मृतक जवान की पहचान जम्मू-कश्मीर पुलिस के दारोगा (ASI) मुश्ताक अहमद के रूप में है। वहीं, घायल जवानों को नजदीकी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। घायल जवानों में एक हेड कॉन्स्टेबल और एक एसपीओ अबु बकर बताए जा रहे हैं।

पुलिस ने बताया कि श्रीनगर के लाल बाजार इलाके में एक स्कूल के पास पुलिस की एक नाका पार्टी पर आतंकियों ने फायरिंग की। इस फायरिंग में पुलिस के तीन जवान घायल हो गए और उन्हें उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया। उपचार के दौरान ASI मुश्ताक अहमद ने दम तोड़ दिया। आतंकियों की तलाश में पुलिस, सेना और CRPF की संयुक्त टीम ऑपरेशन कर रही है।

इससे पहले सोमवार (11 जुलाई 2022) को पुलवामा में जवानों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया था। इनमें से एक जैश-ए-मोहम्मद का शीर्ष आतंकी कैसर कोका (Kaisar Koka) शामिल था। दरअसल, अवंतीपोरा में सुरक्षाबलों ने घेराबंदी की थी। इस दौरान पुलिस को अमेरिका निर्मित एक राइफल, एक पिस्तौल और गोला-बारूद बरामद हुआ था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वो हिंदुस्तानी जो अभी भी नहीं हैं आजाद: PoJK के लोग देख रहे आशाभरी नजरों से भारत की ओर, हिंदू-सिखों का यहाँ हुआ था...

विभाजन की विभीषिका को भी भुलाया नहीं जा सकता। स्वतंत्रता-प्राप्ति का मूल्य समझकर और स्वतन्त्रता का मूल्य चुकाकर ही हम अपनी स्वतंत्रता को सुरक्षित और संरक्षित कर सकते हैं।

वे नहीं रहे… क्योंकि वे हिन्दू थे: अपनी नवजात बेटी को भी नहीं देख पाए गौ प्रेमी किशन भरवाड

27 वर्षीय हिंदू युवक किशन भरवाड़ को कट्टरपंथी मुस्लिमों ने 25 जनवरी 2022 को केवल हिंदू होने के कारण मार डाला था। वजह वही क्योंकि वे हिन्दू थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,977FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe