Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाज'इस्लाम खतरे में है, जितने हिंदुओं को मारना पड़े मारेंगे, घरों में आग लगाएँगे':...

‘इस्लाम खतरे में है, जितने हिंदुओं को मारना पड़े मारेंगे, घरों में आग लगाएँगे’: मोदी सरकार को घुटनों पर लाने का उमर खालिद-ताहिर हुसैन का प्लान

रिपोर्ट के अनुसार, ताहिर हुसैन ने बताया कि वह United Against Hate ग्रुप का हिस्सा है और इसी के जरिए वह खालिद सैफी व उमर खालिद से जुड़ा। उसके कबूलनामे के मुताबिक वह इन लोगों के भाषण सुनता था। खालिद ने उससे कहा था, "CAA में बड़ा दंगा करेंगे। जिससे सरकार हिल जाएगी। बस मैं इलाके में लड़के तैयार रखूँ।"

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए हिंदू विरोधी दंगों में आरोपित बनाए गए आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। उसके कबूलनामे का जिक्र दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में है। इसमें उसने बताया है कि कैसे उमर खालिद और खालिद सैफी के संपर्क में आकर उसने दंगों की तैयारी की।

इंडिया टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, ताहिर हुसैन ने बताया कि वह United Against Hate ग्रुप का हिस्सा है और इसी के जरिए वह खालिद सैफी व उमर खालिद से जुड़ा। उसके कबूलनामे के मुताबिक वह इन लोगों के भाषण सुनता था। खालिद ने उससे कहा था, “CAA में बड़ा दंगा करेंगे। जिससे सरकार हिल जाएगी। बस मैं इलाके में लड़के तैयार रखूँ।”

ताहिर ने बताया कि 8 जनवरी को खालिद सैफी ने उसकी मुलाकात उमर खालिद से करवाई। उमर ने कहा, “जब तक कुछ बड़ा धमाका नहीं करेंगे तब तक केंद्र सरकार नहीं हिलेगी। 370 और राम मंदिर पर हम चुप रहे, पर CAA वापस करवा कर रहेंगे। तब तक सरकार घुटनों पर नहीं आएगी, जब तक हम बड़ा धमाका नहीं करेंगे। इसके लिए देश में चाहे जितनी आग लगानी पड़े। विदेशों में सरकार की बदनामी हो इसके लिए जितने घरों में आग लगानी पड़ी, जितने हिंदुओं को मारना हो मारेंगे।”

बता दें कि उमर खालिद भी इससे पूर्व कबूलनामे में दंगों में अपनी भूमिका का खुलासा कर चुका है। उसने 16 और 17 फरवरी 2020 को हुई मीटिंग को लेकर बताया था, “हमने 16 और 17 फरवरी की शाम एक मीटिंग में तय किया कि दंगा ही एकमात्र तरीका है जिससे भारत सरकार पर दबाव बनाया जा सकता है। फिर मैंने ही लोगों से कहा कि वे अपने पास पत्थर, तेजाब, पेट्रोल और हथियारों को इकट्ठा करके रखें और जब जरूरत पड़े इसका इस्तेमाल करें।”

उसने कहा, “मैं अमरावती और महाराष्ट्र भी प्रदर्शन में शामिल होने गया था। जहाँ मैंने कहा कि हम सब डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान 24 फरवरी को सड़कों पर आकर भारत सरकार पर दबाव बनाएँगे और हमारे लोगों ने अपनी योजना के मुताबिक डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा के दौरान ही 24 तारीख को दिल्ली के अलग-अलग इलाको में चक्का जाम दंगे करवाना शुरू कर दिए। देखते ही देखते उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाको में दंगे फैल गए।”

यहाँ याद दिला दें कि ताहिर हुसैन ने बताया था कि उसे उमर खालिद ने ही कहा था कि पैसों की चिंता करने की जरूरत नहीं है। दिल्ली में बैठे दोस्त और पीएफआई पैसों का इंतजाम कर रहे हैं। ताहिर के अनुसार उमर खालिद ने उससे कहा था, “आप सिर्फ़ दंगों की तैयारी करो। दंगों के लिए लोगों को इकट्ठा करो। सामान खरीदो और पैसों की चिंता बिलकुल मत करो। खालिद आपको पैसे दिलवाएगा।”

बता दें कि ताहिर हुसैन ने गुलफाम के साथ हुए पैसों के लेन-देन पर भी बताया और कहा कि उसी ने पैसों से बंदूक के लिए कारतूस और अन्य सामग्री खरीदी। खालिद ने ही ताहिर को उमर के हवाले से ये भी कहा कि ‘इस माह’ दंगे होंगे। उसने उमर का हवाला देकर कहा कि इस्लाम खतरे में है। सैफी के कबूलनामे से साफ पता चलता है कि उन्हें पहले से खबर थी कि चक्का जाम करने से दंगे भड़क सकते हैं।

उसके मुताबिक ट्रंप के दौरे के दौरान सड़कें जाम की गई और लोगों को जब परेशानी हुई तो दंगे शुरू हो गए। 24 फरवरी को जब सैफी ने ताहिर हुसैन से बात की तो उसे जानकारी दी गई कि सब कुछ प्लान के मुताबिक हो रहा है। हिंदुओं के घरों को आग लगाई जा चुकी है।

गौरतलब है कि दिल्ली दंगों में आरोपित बनाए गए इन सभी कट्टरपंथियों के कबूलनामे दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में उल्लेख किया है। ये चार्जशीट कोर्ट में दायर की जा चुकी है। कड़कड़डूमा कोर्ट इस पर संज्ञान ले रहा है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नई पार्टी बनाएँगे पूर्व CM अमरिंदर सिंह, BJP के साथ हो सकता है गठबंधन, ‘किसान आंदोलन’ का समाधान भी जल्द: रिपोर्ट

कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने घोषणा की है कि वो एक नई पार्टी बनाएँगे। उनकी पार्टी भाजपा, अकालियों के एक गुट व अन्य छोटे दलों के साथ गठबंधन करेगी।

पाकिस्तान हारे भी न और टीम इंडिया गँवा दे 2 अंक: खुद को ‘देशभक्त’ साबित करने में लगे नेता, भूले यह विश्व कप है-द्विपक्षीय...

सृजिकल स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले और मंच से 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' का नारा लगवाने वाले भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच रद्द कराने की माँग कर 'देशभक्त' बन जाएँगे?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,026FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe