Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजनाममात्र के पैसे में ज्यादा काम करे यूपी-बिहार के मजदूर, इसलिए देते हैं ड्रग्स:...

नाममात्र के पैसे में ज्यादा काम करे यूपी-बिहार के मजदूर, इसलिए देते हैं ड्रग्स: पंजाब को चिट्ठी लिख केंद्र ने जताई चिंता

बंधुआ मजदूरों को खेतों में लंबे समय तक काम करवाने के लिए अक्सर ड्रग्स दिया जाता है। इससे उनकी मानसिक और शारीरिक स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार को एक पत्र लिखा है। इसमें राज्य में काम कर रहे उत्तर प्रदेश और बिहार के मजदूरों की स्थिति को लेकर चिंता जताई गई है। पत्र के मुताबिक इन मजदूरों को बंधुआ बनाकर रखा जाता है। ज्यादा काम लेने के लिए उन्हें ड्रग्स दिया जाता है। काम के एवज में उन्हें नाम मात्र का पैसा दिया जाता है।

पत्र के मुताबिक विशेषकर पंजाब के सीमावर्ती गाँवों में इन बंधुआ मजदूरों के साथ अमानवीय व्यवहार किया जा रहा ह। केंद्र ने राज्य सरकार से इस गंभीर समस्या पर विचार करने को कहा है।

हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक 17 मार्च को यह पत्र पंजाब के मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखा गया। इसमें कहा गया है कि अच्छे वेतन के वादे पर यूपी और बिहार के गरीब मजदूर अपने घर से सैकड़ों किलोमीटर दूर पंजाब में काम करने के लिए जाते हैं। लेकिन, वहाँ पहुँचने के बाद उनका शोषण किया जाता है। बंधुआ मजदूरों को खेतों में लंबे समय तक काम करवाने के लिए अक्सर ड्रग्स दिया जाता है। इससे उनकी मानसिक और शारीरिक स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

मंत्रालय पत्र में कहा है, “इस गंभीर समस्या पर ध्यान दें। इसमें मानव तस्करी, बंधुआ मजदूरी और मानवाधिकारों का उल्लंघन शामिल है। आपसे अनुरोध है कि इस मामले के समाधान के लिए उचित कदम उठाएँ।” साथ ही मंत्रालय ने इस मामले में राज्य सरकार से प्राथमिकता के आधार पर कार्रवाई की रिपोर्ट देने के लिए कहा है।

गृह मंत्रालय ने केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय को भी इस मामले पर ध्यान देने को कहा है। सभी राज्यों विशेषकर उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्य प्रदेश और ओडिशा को विभिन्न स्तरों पर जागरूकता पैदा करने के लिए उपयुक्त निर्देश जारी करने को कहा है। साथ ही इन राज्यों को यह भी सुनिश्चित करने को कहा है कि बेहतर रोजगार की संभावनाओं और वेतन का झूठा वादा कर गरीबों और कमजोरों को झॉंसा न दिया जा सके।

बता दें कि साल 2019 और 2020 में पंजाब के गुरदासपुर, अमृतसर, फिरोजपुर और अबोहर के सीमावर्ती गाँवों से बचाए गए लोगों की स्थिति के आधार पर यह पत्र लिखा गया है। सीमा सुरक्षा बल ने इन सीमावर्ती क्षेत्रों से 58 बंधुआ मजदूरों को बचाया था। गृह मंत्रालय के मुताबिक, पूछताछ के दौरान यह सामने आया कि इनमें से ज्यादातर की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साँवरें के रंग में रंगी हरियाणा की तेजतर्रार महिला IPS भारती अरोड़ा, श्रीकृष्‍ण भक्ति के लिए माँगी 10 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने इस खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है।

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe