Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाज'आवश्यक वस्तु' के नाम पर बेची जा रही थी मीट: 6 क्विंटल मीट के...

‘आवश्यक वस्तु’ के नाम पर बेची जा रही थी मीट: 6 क्विंटल मीट के साथ सईद बसीर दामाद सहित गिरफ़्तार, 8 महिलाएँ भी शिकंजे में

पुलिस को यहाँ से भी एक लोडर में मुर्गे का मीट बरामद हुआ। कुल मिलाकर पुलिस ने 6 क्विंटल मीट को बरामद किया। साथ ही तत्काल बीपीएफ ट्रेडर्स के मुख्यालय को सील कर दिया गया, जबकि ट्रेडर्स के मालिक सईद बसीर, उसके दामाद कानपुर के विधनू निवासी सैय्यद कफील अहमद, सुपरवाइजर निमहालुद्दीन उर्फ निहाल, मो. शाहिद और बूचड़ इरशाद रजा को गिरफ्तार कर लिया।

देश में जारी लॉकडाउन के बीच पुलिस-प्रशासन की लाख कोशिशों के बाद भी समुदाय विशेष के लोग अपनी गंदी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। इस बार लखनऊ पुलिस ने सात ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया है, जो पिछले कई दिनों से आवश्यक वस्तु आपूर्ति का पोस्टर लगाकर दुकानों पर मीट सप्लाई कर रहे है। दूसरी ओर लखनऊ पुलिस ने आठ ऐसी महिलाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जो एक मिनी बस में बैठकर मीट फैक्ट्री में काम करने के लिए जा रही थीं।

अमर उजाला की खबर के मुताबिक डीसीपी उत्तरी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने बताया कि इंदिरानगर थाने की टीम सोमवार सुबह छह बजे खुर्रमनगर चौराहे पर गश्त कर रही थी। इस बीच निकले लोडर को पुलिस ने जाँच के लिए रोका। जाँच के बाद पता चला कि लोडर के अंदर मुर्गे का मीट लदा हुआ था। इसके बाद तत्काल पुलिस ने चालक मोहम्मद अकील और परिचालक मोहम्मद अस्जद गाजी को पकड़ पूछताछ शुरू कर दी।

पूछताछ के बाद पुलिस ने बीपीएफ ट्रेडर्स खुर्रमनगर में छापा मारा। पुलिस को यहाँ से भी एक लोडर में मुर्गे का मीट बरामद हुआ। कुल मिलाकर पुलिस ने 6 क्विंटल मीट को बरामद किया। साथ ही तत्काल बीपीएफ ट्रेडर्स के मुख्यालय को सील कर दिया गया, जबकि ट्रेडर्स के मालिक सईद बसीर, उसके दामाद कानपुर के विधनू निवासी सैय्यद कफील अहमद, सुपरवाइजर निमहालुद्दीन उर्फ निहाल, मो. शाहिद और बूचड़ इरशाद रजा को गिरफ्तार कर लिया।

इसके बाद पुलिस ने सभी सातों आरोपितों को जेल भेज दिया। प्रभारी निरीक्षक इंदिरानगर धनंजय पांडेय के मुताबिक मीट की निर्बाध आपूर्ति के लिए कारोबारी सईद बसीर ने फर्जी पास का इंतजाम कर लिया था, जो कि लॉकडाउन के बाद से ही मीट की फर्जी तरीके से आपूर्ति कर रहा था।

वहीं बाराबंकी की एक मीट फैक्ट्री में काम करने जा रही समुदाय विशेष की आठ महिलाओं को लखनऊ पुलिस ने दबोच लिया। इंस्पेक्टर मडियांव विपिन कुमार सिंह के मुताबिक रविवार देर रात पुलिस की एक टीम दरोगा बृजेश कुमार के साथ रोड़ पर गश्त कर रही थी। इस दौरान पुलिस टीम ने एक मिनी बस में समुदाय विशेष की महिलाओं को चढ़ते हुए देखा।

इसके बाद पुलिस ने पूछताछ की तो पता चला कि ये सभी महिलाएँ बाराबंकी की एक मीट फैक्ट्री में काम करने के लिए जा रही थीं। इसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए बस चालक और मीट फैक्ट्री के मैनेजर सहित खदरा निवासी आफरीन, नौबस्ता मडियांव निवासी आयशा, हिना, फातिमा, मेसरजहाँ, अजीजनगर निवासी अमीना, डालीगंज निवासी रूही और प्रीति नदर मडियांव निवासी अमीना के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -