Wednesday, February 24, 2021
Home देश-समाज 2020 में UPSC परीक्षा का आखिरी अटेम्प्ट गँवा चुके अभ्यर्थी न करें चिंता: मोदी...

2020 में UPSC परीक्षा का आखिरी अटेम्प्ट गँवा चुके अभ्यर्थी न करें चिंता: मोदी सरकार ने दिया एक और अवसर

इस याचिका में कुछ अन्य अभ्यार्थी भी शामिल थे जो संकट/लॉकडाउन आदि के चलते परीक्षा में शामिल नहीं हो सके थे। इनकी ओर से वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने पक्ष रख कर दलीलें दी थीं।

अक्टूबर 2020 में अपना आखिरी अटेम्प्ट देने वाले यूपीएससी सिविल सर्विसेज एग्जाम के अभ्यर्थियों को केंद्र सरकार ने राहत देने का फैसला किया है। सरकार ने अदालत को बताया कि कोविड-19 महामारी के चलते फैसला लिया गया है कि ऐसे अभ्यर्थी एक दफा और यानी 2021 में भी सिविल परीक्षा दे सकते हैं।

इससे पूर्व केंद्र सरकार ने अदालत में कहा था कि वह सिविल सेवा परीक्षा में शामिल नहीं होने से अपना आखिरी मौका गँवा देने वाले अभ्यर्थियों को एक और अवसर देने के पक्ष में नहीं है। केंद्र ने यह भी साफ किया था कि राहत उम्र सीमा से बाहर हो चुके अभ्यर्थियों को नहीं मिलेगी। 

बता दें कि सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रही एक अभ्यार्थी रचना सिंह ने 4 अक्टूबर 2020 को हुई यूपीएससी सिविल सेवा प्रीलिम्स परीक्षा छूट जाने के बाद सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। उन्होंने कोर्ट में सरकार से एक अतिरिक्त मौका दिए जाने की गुहार लगाई थी। 

इस याचिका में कुछ अन्य अभ्यार्थी भी शामिल थे जो संकट/लॉकडाउन आदि के चलते परीक्षा में शामिल नहीं हो सके थे। इनकी ओर से वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने पक्ष रख कर दलीलें दी थीं।

इसके बाद 29 जनवरी को सुनवाई में पीठ ने सरकार की तरफ से पेश हुए एडिशनल सॉलिसिटर जनरल एस.वी. राजू से सवाल किए थे कि सिर्फ इस बार के लिए अतिरिक्त अवसर दिया जाता है तो कितने अभ्यर्थियों को इसका लाभ मिलेगा और यूपीएससी के गठन होने के बाद से अब तक कितनी बार इस तरह की छूट दी गई है?

फिर 1 फरवरी की सुनवाई में शीर्ष अदालत को सॉलिस्टर जनरल ने बताया कि अतिरिक्त अवसर दिए जाने पर कुल 3308 उम्मीदवारों को इसका लाभ मिलेगा। जिस पर पीठ ने कहा कि अधिकतम आयु सीमा में बदलाव किए बिना एक बार छूट देने से 3300 से अधिक उम्मीदवारों को राहत मिलेगी। 

मालूम हो कि 30 सितंबर 2020 को न्यायालय ने कोविड-19 महामारी और देश के कई राज्यों में बाढ़ के चलते 4 अक्टूबर को होने वाली UPSC सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा, 2020 को स्थगित करने से इंकार कर दिया था। जिसके चलते प्रारंभिक परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों में से 100 से ज्यादा अभ्यर्थी ऐसे थे जिनका यह आखिरी अटेम्प्ट था।

इन अभ्यर्थियों ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर कर सिर्फ एक बार की छूट के तौर पर 2021 की सिविल सेवा परीक्षा में अतिरिक्त मौका देने की माँग की थी। कुछ अभ्यर्थियों ने कहा है कि कोविड-19 से जुड़ी ड्यूटी में लगने के कारण उन्हें तैयारी का समय नहीं मिल पाया। जबकि कुछ का कहना था कि दूर-दराज के इलाके में खराब इंटरनेट सुविधा के चलते उन्हें ऑनलाइन अध्ययन सामग्री नहीं मिल सकी। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल: PM मोदी ने जिस मैदान में रैली की, TMC नेताओं ने वहाँ किया गंगाजल छिड़ककर ‘शुद्धिकरण’

PM मोदी ने सोमवार को हुगली के जिस मैदान में जनसभा को संबोधित किया था वहाँ रैली के अगले ही दिन TMC के कार्यकर्ताओं ने जाकर गंगाजल छिड़का और उसका 'शुद्धिकरण' किया।

वोटर समझदार होता है, हमें उनका सम्मान करना चाहिए: राहुल के उत्तर-दक्षिण वाले बयान पर कॉन्ग्रेस नेता कपिल सिब्बल

राहुल गाँधी के बयान पर कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि हमें मतदाताओं का सम्मान करना चाहिए, चाहे वो उत्तर से हो या दक्षिण से, वोटर्स समझदार होते हैं।

कर्नाटक: चलती बस में छात्रा को छेड़ने वाला अरबी स्कूल का शिक्षक मोहम्मद सैफुल्ला गिरफ्तार

कर्नाटक की उप्पिनंगडी पुलिस ने 32 वर्षीय अरबी शिक्षक मोहम्मद सैफुल्ला को बस में एक छात्रा के साथ यौन उत्पीड़न के आरोप में में गिरफ्तार किया है।

बंगाल: फ्री वैक्सीन बाँटने के लिए दीदी ने ‘दंगाबाज’ मोदी से माँगी मदद, भाषण में उगला जहर

ममता ने एक ओर पीएम मोदी से वैक्सीन के लिए मदद माँगी है और दूसरी ओर पीएम मोदी व अमित शाह को रावण-दानव तक करार देते हुए 'दंगाबाज' बताया।

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस ने मुस्लिम और मराठा आरक्षण के समर्थन में किया प्रस्ताव पारित

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस की संसदीय समिति की एक बैठक ने राज्य में मुस्लिम और मराठा आरक्षण के समर्थन में एक प्रस्ताव पारित किया है।

UP: लव-जिहाद के खिलाफ विधेयक विधानसभा में ध्वनि मत से पास, नाम बदलकर निकाह करने वालों के ‘अच्छे दिन’ समाप्त

उत्तर प्रदेश विधानसभा में 'लव जिहाद' के खिलाफ कानून यानी, उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध विधेयक-2021 ध्वनिमत से पारित हो गया है।

प्रचलित ख़बरें

ई-कॉमर्स कंपनी के डिलीवरी बॉय ने 66 महिलाओं को बनाया शिकार: फीडबैक के नाम पर वीडियो कॉल, फिर ब्लैकमेल और रेप

उसने ज्यादातर गृहणियों को अपना शिकार बनाया। वो हथियार दिखा कर रुपए और गहने भी छीन लेता था। उसने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

मोहम्मद फिरोज 2 महीने से कर रहा था 16 साल की बेटी का रेप, हुई गर्भवती: पीड़िता की माँ करती थी वहीं मजदूरी

मोहम्मद फ़िरोज़ लगभग दो महीने से लगातार नाबालिग का बलात्कार कर रहा था। आरोपित ने पीड़िता की माँ को धमकी भी दी कि...

महिला ने ब्राह्मण व्यक्ति पर लगाया था रेप का झूठा आरोप: SC/ST एक्ट में 20 साल की सज़ा के बाद हाईकोर्ट ने बताया निर्दोष

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा, "पाँच महीने की गर्भवती महिला के साथ किसी भी तरह की ज़बरदस्ती की जाती है तो उसे चोट लगना स्वाभाविक है। लेकिन पीड़िता के शरीर पर इस तरह की कोई चोट मौजूद नहीं थी।”

उन्नाव मर्डर केस: तीसरी लड़की को अस्पताल में आया होश, बताई वारदात से पहले की हकीकत

विनय ने लड़कियों को कीटनाशक पिलाकर बेहोश किया और बाद में वहाँ से चला गया। बेहोशी की हालत में लड़कियों के साथ किसी तरह के सेक्सुअल असॉल्ट की बात सामने नहीं आई है।

‘आप दोनों बंगाल और महाराष्ट्र को अलग देश घोषित कर PM बन जाएँ, भारत से लें आज़ादी’: SFJ की ममता और उद्धव को सलाह

"आप दोनों (ममता और उद्धव) के पास क्षमता है कि आप पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र को अलग-अलग देश घोषित करें। अभी आप मुख्यमंत्री हैं, लेकिन ऐसा होते ही आप दोनों अपने-अपने देशों के प्रधानमंत्री बन जाएँगे।"

धराया लईक खान, जबरन निकाह से मना करने पर नीतू के सिर और चेहरे पर हथौड़े से किया था 1 दर्जन वार

दिल्ली के बेगमपुर में निकाह से मना करने पर नीतू नाम की 17 वर्षीय लड़की की हत्या करने वाले लईक खान को पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी पाई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

291,795FansLike
81,853FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe