Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाज'इतनी गोलियाँ चलाएँगे... एक महीने तक कर्फ्यू लगाना पड़ेगा': दंगा भड़काने की धमकी के...

‘इतनी गोलियाँ चलाएँगे… एक महीने तक कर्फ्यू लगाना पड़ेगा’: दंगा भड़काने की धमकी के मामले में यूपी पुलिस ने आदिल और शाकिब को किया गिरफ्तार

“टोली मोहल्ला थाना लोनी के निवासी आदिल और शाकिब को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अन्य आरोपितों की तलाश जारी है।”

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद स्थित लोनी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसमें कुछ युवक दंगा भड़काने की धमकियाँ दे रहे थे। वायरल वीडियो पर एक्शन लेते हुए पुलिस ने शुक्रवार (8 अप्रैल 2022) को आदिल और शाकिब को दिल्ली की सीमा से लगे लोनी इलाके में दंगा भड़काने की धमकी देने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया।

ये दोनों आरोपित टोली मोहल्ला थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। गाजियाबाद पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ इंडियन पीनल कोड, 1860 की धारा 505 के तहत मामला दर्ज किया है। उल्लेखनीय है कि 7 अप्रैल को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें कुछ लोगों के एक ग्रुप को यह कहते हुए सुना गया कि वे लोनी और आसपास के इलाकों में गोलियाँ चलाकर दहशत फैला देंगे। गाली बकते हुए आरोपित कहते हैं कि उन्हें किसी ‘सम्मानित’ व्यक्ति का समर्थन है जो गिरफ्तारी के मामले में उन्हें बचा सके। गालियाँ देते हुए आरोपितों ने कहा, “हमारा बादशाह हमारे साथ है। हम इतनी गोलियाँ चलाएंगे कि सरकार को इलाके में एक महीने से ज्यादा समय तक कर्फ्यू लगाना पड़ेगा।”

वीडियो में कथित तौर पर आदिल और शाकिब के पीछे कई बच्चों को आरोपितों के सपोर्ट में आवाज बुलंद करते देखा जा सकता है। बहरहाल, दोनों को गाजियाबाद पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया है, जहाँ उन्होंने इस वीडियो को शूट कर सोशल मीडिया पर अपलोड करने की बात को कबूल कर लिया है। इस मसले को लेकर गाजियाबाद पुलिस ने ट्वीट किया, “टोली मोहल्ला थाना लोनी के निवासी आदिल और शाकिब को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अन्य आरोपितों की तलाश जारी है।”

उत्तर प्रदेश पुलिस इस तरह के दंगे फैलाने या फिर परेशान करने वाले वायरल वीडियो को लेकर अलर्ट है और इसके खिलाफ एक्शन ले रही है। हाल ही सूबे की पुलिस ने एक मामला दर्ज किया है और सीतापुर में एक व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया, जिसने सार्वजनिक रूप से महिलाओं को बलात्कार की धमकी दी थी। इस मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने भी प्रदेश के डीजीपी को पत्र लिखकर आरोपितों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए कहा था।

इस मामले को लेकर सीतापुर पुलिस ने ट्वीट किया, “सीतापुर जिले के वायरल वीडियो का संज्ञान लेते हुए सीतापुर पुलिस द्वारा मामला दर्ज किया गया है। उक्त आरोप में साक्ष्य के आधार पर नियमानुसार कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -