Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजतीसरा निकाह करना चाहता था मस्जिद का मौलवी, पहली बीवी ने छूरी से गुप्तांग...

तीसरा निकाह करना चाहता था मस्जिद का मौलवी, पहली बीवी ने छूरी से गुप्तांग पर किया हमला; मौत

हाजरा ने पुलिस के सामने मौलवी के साथ मारपीट करने और उसके प्राइवेट पार्ट पर छूरी से हमला करने की बात स्वीकार कर ली है।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में एक मौलवी को तीसरी बीवी की चाहत कुछ ऐसी हुई कि उसकी जान ही चली गई। निकाह की जिद करने पर पहली बीवी ने मौलवी के प्राइवेट पार्ट पर छूरी से हमला कर दिया, जिससे मौलवी की मौत हो गई। पुलिस ने हत्या के आरोप में मौलवी की पत्नी को गिरफ्तार कर लिया है।

घटना मुजफ्फरनगर के भौराकला थाना क्षेत्र के शिकारपुर गाँव की है। भौराकला थानाध्यक्ष जीतेंद्र तेवतिया ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि बुधवार (23 जून 2021) को यह जानकारी मिली कि एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है। उसे उसके परिवार के सदस्य दफनाने का प्रयास कर रहे हैं। पुलिस ने वहाँ पहुँचकर मृत व्यक्ति की लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया, जहाँ उसके शरीर पर चोट के निशान और प्राइवेट पार्ट में गंभीर घाव की जानकारी सामने आई। मृतक की पहचान वकील अहमद के रूप में हुई जो भौरा खुर्द गाँव की एक मस्जिद में मौलवी था।

पुलिस ने मृतक की पहली पत्नी हाजरा से पूछताछ की, जिसने हत्या की बात कबूल कर ली। हाजरा ने पुलिस को बताया कि मृतक मौलवी वकील अहमद ने पहले ही दो निकाह कर रखे थे। पहली पत्नी हाजरा ही थी। दोनों की 5 बेटियाँ थीं, जिनमें से एक बेटी अविवाहित थी। मौलवी ने दूसरा निकाह भी कर लिया, लेकिन दूसरी पत्नी 6 महीने में ही उसे छोड़ गई। हाजरा ने पुलिस को बताया कि मौलवी तीसरा निकाह करने की बात कर रहा था, जबकि हाजरा चाहती थी कि उसकी अविवाहित बेटी का निकाह पहले हो।

इसी बात पर दोनों के बीच बुधवार को झगड़ा हो गया। हाजरा ने पुलिस के सामने मौलवी के साथ मारपीट करने और उसके प्राइवेट पार्ट पर छूरी से हमला करने की बात स्वीकार कर ली। पुलिस ने हाजरा को हत्या में इस्तेमाल की गई छूरी के साथ गिरफ्तार कर लिया और जेल भेज दिया है।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe