नाबालिग बेटी के अपहरण का आरोप लगाने पर सफ़ायत हुसैन ने गंगाराम को पीटकर मार डाला

पोस्टमार्टम के बाद, गंगाराम के नाराज़ रिश्तेदारों ने उनके शरीर को सड़क पर रख दिया, यातायात अवरुद्ध कर दिया और पुलिस की लापरवाही के ख़िलाफ़ नारे लगाए। हिंदू रक्षा दल के सदस्य भी पुलिस के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की माँग करते हुए विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे।

उत्तर प्रदेश के दिलारी में बुधवार, 19 जून को एक 54 वर्षीय व्यक्ति गंगाराम की मुस्लिम भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी, क्योंकि उसने अपनी बेटी के अपहरण की शिक़ायत पुलिस से की थी।

अमर उजाला की ख़बर के अनुसार, पीपली उमरपुर के गंगाराम ने अपनी बेटी के अपहरण का आरोप दूसरे समुदाय के पड़ोसी के बेटे पर लगाया था। हालाँकि, बाद में पता चला कि नदीम नाम के एक अन्य व्यक्ति द्वारा नाबालिग लड़की का अपहरण किया गया था। लड़की को ढूँढ लिया गया है और रिश्तेदारों द्वारा विरोध प्रदर्शन करने, सड़क पर जाम लगाने के बाद नदीम को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

दरअसल, गंगाराम की 15 वर्षीय बेटी लगभग तीन दिन पहले लापता हो गई थी। शिक़ायत दर्ज होने के बाद, पुलिस ने आगे कोई कार्रवाई नहीं की जिसके बाद एसएसपी ने लापरवाही के लिए थानाध्यक्ष दीपक कुमार को निलंबित कर दिया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ख़बर के अनुसार, गंगाराम ने पुलिस में शिकायत की थी कि उनके पड़ोसी सफ़ायत हुसैन के बेटे दानिश ने उनकी बेटी का अपहरण कर लिया था। शिक़ायत के बारे में सुनकर दानिश के कई रिश्तेदार गंगाराम के घर गए और कथित तौर पर उसके परिवार पर लाठियाँ बरसाई जिसमें गंगाराम बुरी तरह घायल हो गए। उनके परिजन उन्हें नज़दीकी अस्पताल ले गए जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

अगले दिन, पोस्टमार्टम के बाद, गंगाराम के नाराज़ रिश्तेदारों ने उनके शरीर को सड़क पर रख दिया, यातायात अवरुद्ध कर दिया और पुलिस की लापरवाही के ख़िलाफ़ नारे लगाए। हिंदू रक्षा दल के सदस्य भी पुलिस के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की माँग करते हुए विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे। पुलिस द्वारा सफ़ायत हुसैन, दानिश, छोटू, अकरम और एक अन्य व्यक्ति को गिरफ़्तार किए जाने के बाद ही इस विरोध प्रदर्शन पर अंकुश लगा। ख़बर में इस बात का उल्लेख भी किया गया कि गंगाराम की पत्नी और बेटे को भी गंभीर चोटें आई हैं।

कुछ मीडिया ख़बरों में यह दावा किया गया कि गंगाराम पर हमला कर मार दिया गया क्योंकि उन्होंने अपनी बेटी को मुस्लिम पड़ोसी से मिलने-जुलने पर आपत्ति जताई थी। जैसा कि अमर उजाला की ख़बर में स्पष्ट किया गया कि पुलिस ने दावा किया है कि लड़की का अपहरण नदीम नामक एक अन्य व्यक्ति ने किया था जो अब पुलिस की हिरासत में है। इस घटना के बाद इलाके में हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बीच तनाव का माहौल है। सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील मुद्दे पर संज्ञान लेते हुए, गाँव में अतिरिक्त बल तैनात किया गया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

अमानतुल्लाह ख़ान, जामिया इस्लामिया
प्रदर्शन के दौरान जहाँ हिंसक घटना हुई, वहाँ AAP विधायक अमानतुल्लाह ख़ान भी मौजूद थे। एक तरफ केजरीवाल ऐसी घटना को अस्वीकार्य बता रहे हैं, दूसरी तरफ उनके MLA पर हिंसक भीड़ की अगुवाई करने के आरोप लग रहे हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,919फैंसलाइक करें
26,833फॉलोवर्सफॉलो करें
127,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: