Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजदुबई एयरपोर्ट पर नौकरी, मोटी सैलरी का लालच: रिटायर्ड फौजी की बेटी रेणु बन...

दुबई एयरपोर्ट पर नौकरी, मोटी सैलरी का लालच: रिटायर्ड फौजी की बेटी रेणु बन गई आयशा अल्वी

जब युवती दिल्ली एयरपोर्ट के टिकट रूम में जॉब कर रही थी, उसी दौरान वहाँ काम करने वाले एक मुस्लिम युवक ने उसे अपनी बातों में फँसाना शुरू कर दिया था। 27 मई को दिल्ली में उसका धर्मांतरण करवाया गया।

उत्तर प्रदेश में इस्लामी धर्मांतरण के एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश होने के बाद शाहजहाँपुर से धर्म परिवर्तन का एक अनोखा मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शाहजहाँपुर जिले के तिलहर तहसील क्षेत्र के एक गाँव के रिटायर फौजी की बेटी ने दुबई एयरपोर्ट पर ज्यादा सैलरी के लालच में इस्लाम अपना लिया।

रेणु गंगवार से आयशा अल्वी बनी युवती रिटायर फौजी की तीन बेटियों में सबसे बड़ी है। उसने बीए पास करने के बाद दिल्ली में एयर होस्टेस का कोर्स किया था, लेकिन यहाँ उसे एयर होस्टेस की नौकरी नहीं मिल सकी। युवती ने बताया कि वह करीब दो साल से दिल्ली एयरपोर्ट पर टिकट रूम में नौकरी कर रही थी। दुबई में जॉब करने के लिए उसने धर्म परिवर्तन कराया। उसका कहना है कि मुस्लिम होने पर दुबई में एडवांटेज मिलता है। इसके साथ ही उसने कहा कि भारत में कम सैलरी है, जबकि दुबई के एयरपोर्ट में नौकरी करने पर अधिक सैलरी मिलती है।

हिंदुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक जब युवती दिल्ली एयरपोर्ट के टिकट रूम में जॉब कर रही थी, उस दौरान वहाँ काम करने वाले एक मुस्लिम युवक ने उसे अपनी बातों में फँसाना शुरू कर दिया था। उसे बताया गया कि दुबई एयरपोर्ट पर मुस्लिम लड़कियों को बहुत सुविधाएँ दी जाती हैं, साथ ही मोटी सैलरी भी दी जाती है। इसके वजह से वह मुस्लिम बनने को तैयार हो गई। युवती को 27 मई 2021 को दिल्ली में इस्लाम धर्म कबूल करवाया गया। इस्लाम कबूल करने के बाद युवती ने अपना नाम बदल कर आयशा अल्वी रख लिया।

फिलहाल, युवती के इस बयान पर किसी को भी यकीन नहीं हो रहा है कि वह दुबई में जॉब करने के लिए हिंदू से मुस्लिम बन गई। युवती का कहना है कि उसे इस बात का कोई पछतावा नहीं है। बताया जा रहा है कि पिछले महीने ही उसकी शादी हिंदू लड़के से हुई थी, जो मुंबई में नौकरी कर रहा है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश एटीएस ने सोमवार (21 जून 2021) को मूक-बधिर छात्रों व कमजोर आय वर्ग के गरीबों-असहायों को धन, नौकरी व शादी करवाने का प्रलोभन देकर धर्मान्तरण कराने वाले एक बड़े गिरोह के दो मौलानाओं मोहम्मद उमर गौतम और जहाँगीर कासिम को गिरफ्तार किया था। इन दोनों पर अब तक करीब 1,000 मूक-बधिर, महिलाएँ और बच्चों को निशाना बनाकर धर्म परिवर्तन कराने का आरोप है। इस मामले में यूपी पुलिस ने आईएसआई और विदेशी फंडिंग होने का शक भी जताया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe