Monday, April 15, 2024
Homeदेश-समाजशाकिब ने अमन बन कर युवती को फाँसा: फूटा भांडा तो गला रेत कर...

शाकिब ने अमन बन कर युवती को फाँसा: फूटा भांडा तो गला रेत कर मार डाला, 25 लाख के जेवर भी लूटे

शाकिब ने अमन बनकर प्रेम का जाल फैलाया था। भांडा फूटते ही दोनों के बीच झगड़ों का दौर शुरू हो गया था। ईद के दिन ही रात 9 बजे उसने कोल्डड्रिंक में नशीली दवा मिला कर छात्रा को पिला दी थी। उसके बाद उसे बेहोशी की हालत में वो खेत में ले गया और उसकी गला रेत कर हत्या कर दी। उसने पहचान छिपाने के लिए सिर और हाथ काटकर कहीं और फेंक दिया था।

मेरठ के दरौला थाना क्षेत्र स्थित लोइया गाँव का एक मामला सामने आया है, जहाँ एक युवक ने अपने मजहब की पहचान छिपा कर एक युवती को न सिर्फ झाँसा दिया बल्कि उसे मार भी डाला, उसकी हत्या कर दी। छात्रा की लाश जून 13, 2019 को ही मिली थी लेकिन उस हत्याकांड का पर्दाफाश आज लगभग एक साल बाद हुआ है। आरोपित शाकिब उसे पंजाब से मेरठ लेकर आया था। उसने पीड़िता के 25 लाख रुपए के जेवर भी हड़प लिए थे

मृतिका पंजाब के लुधियाना में बीकॉम की छात्रा थी। मेरठ निवासी शाकिब ने उसे फँसाने के लिए अपना फर्जी नाम अमन रख लिया था। छात्रा उसके झाँसे में आ गई थी और घर से 25 लाख रुपए की ज्वेलरी लेकर उसके साथ फरार हो गई थी। बाद में मेरठ पहुँचने पर जब उसकी असलियत सामने आई तो छात्रा ने इसका विरोध किया, जिसके बाद शाकिब ने उसके गहने हड़पने के लिए उसे मार डाला। इस राज़ को खुलने में 1 साल लग गए।

पुलिस ने इस मामले में मुख्य आरोपित को गिरफ़्तार कर लिया है। उसके अलावा 4 अन्य युवकों को भी गिरफ़्तार किया गया है। एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि पिछले साल सबी अहमद के खेत में पड़ोसी ईश्वर पंडित ने एक कुत्ते को इंसान का हाथ मुँह में लेकर भागते हुए देखा था, जिसके बाद उन्हें शक हुआ। जब गन्ने का खेत खुदवाया गया तो वहाँ से युवती की लाश मिली थी। लाश की सर और हाथ गायब थे। ऐसे में पहचान भी मुश्किल थी।

‘लाइव हिंदुस्तान’ की ख़बर के अनुसार, इसके बाद डिस्ट्रिक्ट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो और स्टेट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो में मिसिंग केसेज की पड़ताल की गई। एसएसपी ने जानकारी दी कि इस छानबीन के बाद भी कोई सफलता नहीं मिल पाई थी। इसके बाद पुलिस की एक टीम को ये पता लगाने के लिए मुस्तैद किया गया कि लोइया गाँव के कौन-कौन से लोग हैं, जो बाहर कमाते हैं। एसएसपी साहनी ने बताया कि जहाँ-जहाँ बाहर ये लोग काम करते थे, वहाँ-वहाँ के थानों में जाकर मिसिंग केसेज दिखवाए गए।

जब पुलिस पंजाब पहुँची, तो उसे वहाँ सफलता मिली। एसएसपी ने कहा कि एक साल बाद जब आरोपित का पता लगा कर उसे शिकंजे में ले लिया गया है, तो पुलिस ने राहत की साँस ली है। ये एक साल की मेहनत का परिणाम है। युवती 23 वर्ष की थी। वो लुधियाना के मोतीनगर थाना क्षेत्र की निवासी थी। उसके लापता होने की रिपोर्ट थाने में दर्ज कराई गई थी, जहाँ पहुँचने पर यूपी पुलिस को आरोपित की पहचान करने में सफलता मिली।

शाकिब उसी इलाक़े में नौकरी करता था। उसने अमन बनकर प्रेम का जाल फैलाया था। दोनों मई 2019 में वहाँ से फरार हुए थे। दौराला में दोनों ने एक किराए के मकान में एक महीना बिताया था। फिर ईद आई और उस मौके पर शाकिब छात्रा को लेकर मेरठ पहुँचा। वहाँ जाते ही युवती सन्न रह गई क्योंकि उसे वहीं पर पता चला कि ये अमन नहीं शाकिब है और उसने अपनी मजहबी पहचान छिपाई है। इसके बाद हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया।

भांडा फूटते ही दोनों के बीच झगड़ों का दौर शुरू हो गया था। एक बार शाकिब उसे बाहर घुमाने के बहाने ले गया। ईद के दिन ही रात 9 बजे उसने कोल्डड्रिंक में नशीली दवा मिला कर छात्रा को पिला दी थी। उसके बाद उसे बेहोशी की हालत में वो खेत में ले गया और उसकी गला रेत कर हत्या कर दी। उसने पहचान छिपाने के लिए सिर और हाथ काटकर कहीं और फेंक दिया था। पुलिस का कहना है कि इस वारदात में वो अकेले नहीं था। सभी से पूछताछ जारी है। बता दें कि ऐसे मामलों को ‘लव जिहाद‘ की संज्ञा दी जाती रही है

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पत्रकार ने कन्हैया कुमार से पूछा सवाल, समर्थक ने PM मोदी की माँ को दी गाली… कॉन्ग्रेस नेता ने हँसते हुए कहा- अभिधा और...

कॉन्ग्रेस प्रत्याशी कन्हैया कुमार की चुनाव प्रचार की रैली में उनके समर्थकों ने समर्थक पीएम मोदी को गाली माँ की गाली दी है।

EVM का सोर्स कोड सार्वजनिक करने को लेकर प्रलाप कर रहे प्रशांत भूषण, सुप्रीम कोर्ट पहले ही ठुकरा चुका है माँग, कहा था- इससे...

प्रशांत भूषण ने यह झूठ भी बोला कि चुनाव आयोग EVM-VVPAT पर्चियों की गिनती करने को तैयार नहीं है। इसको लेकर मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe