Friday, September 17, 2021
Homeदेश-समाज'लव जिहाद एक सच्चाई, इसमें सेक्स स्लेव बनाई जाती हैं लड़कियाँ' - चर्च ने...

‘लव जिहाद एक सच्चाई, इसमें सेक्स स्लेव बनाई जाती हैं लड़कियाँ’ – चर्च ने वामपंथी सरकार को घेरा

"ईसाई लड़कियों को प्रेम के जाल में फँसाकर सीरिया और अफगानिस्तान भेजा गया। वहाँ उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है और उनका यौन उत्पीड़न किया जा रहा है। केरल की वामपंथी सरकार लव जिहाद को मूक सहमति दे रही है।"

केरल में कैथोलिक चर्च के एक वरिष्ठ पादरी ने राज्य की वामपंथी सरकार पर लव जिहाद को मूक सहमति देने का आरोप लगाया है। पादरी का कहना है कि राज्य सरकार लव जिहाद के मामलों की अनदेखी कर रही है। लव जिहाद में लड़कियों को फँसाकर उन्हें युद्धग्रस्त देशों में भेजा जा रहा है और जहाँ उनका ‘सेक्स स्लेव’ की तरह इस्तेमाल किया जाता है।

बता दें कि कुछ दिन पहले केरल के सबसे बड़े चर्च साइरो मालाबार ने लव जिहाद का मामला उठाया था। साइरो मालाबार मीडिया कमीशन की रिपोर्ट में कहा गया था कि लव जिहाद के नाम पर ईसाई लड़कियों को निशाना बनाया जा रहा है। उनकी हत्याएँ हो रही है। मगर राज्य सरकार ने इसे खारिज कर दिया था। अब राज्य सरकार के इस रवैये की केरल कैथोलिक बिशप काउंसिल (KCBC) ने आलोचना की है। KCBC के प्रवक्ता फादर वर्गीज वल्लिकट्ट ने आरोप लगाया है कि राज्य से ‘लापता महिलाओं और बच्चों’ के मामलों की राज्य और केंद्र सरकारें सही तरीके से जाँच नहीं करा रही है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक वल्लिकट्ट ने रविवार (जनवरी 26, 2020) को एक वीडियो जारी करते हुए कहा कि लव जिहाद सच्चाई है और ऐसी घटनाओं को नजरअंदाज करना इन्हें ‘मूक मंजूरी देने के समान’ है। वीडियो में पादरी कह रहे हैं कि प्रेम के जाल में फँसाकर भगाई गई लड़कियों का पता लगाने के लिए कोई भी सरकार प्रभावी तरीके से जाँच नहीं करा रही है।

उन्होंने मीडिया की खबरों का हवाला देते हुए कहा कि बाद में लापता हुए लोगों के बारे में जानकारी मिली कि वे अन्य देशों में हैं जहाँ उनका इस्तेमाल सेक्स स्लेव और आतंकवादी के तौर पर किया जा रहा था। उन्होंने कहा कि कुछ ईसाई लड़कियों को प्रेम के जाल में फँसाकर सीरिया और अफगानिस्तान में भेजा गया है। वहाँ उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है और उनका यौन उत्पीड़न किया जा रहा है। वल्लिकट्ट ने सरकारों पर लव जिहाद के मामलों का डेटा नहीं रखने का भी आरोप लगाया।

वहीं केरल के वित्त मंत्री थॉमस इसाक ने इन आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि यदि ठोस मामले या आरोप हैं, तो उन पर ध्यान दिया जाएगा। लेकिन केरल सरकार नहीं मानती कि इस तरह के आरोप का कोई आधार है।

वैसे यह पहला मौका नहीं है, जब ईसाई लड़कियों को लेकर इस तरह की बात सामने आई है। इससे पहले पिछले वर्ष राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष जॉर्ज कुरियन भी ईसाई लड़कियों के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिख चुके हैं। अपने पत्र में उन्होंने गृहमंत्री का ध्यान ईसाई लड़कियों के साथ हो रही लव जिहाद की घटनाओं की तरफ दिलाया था।

बढ़ रहा लव जिहाद, धर्मांतरण करवा ईसाई लड़कियों का हो रहा निकाह: केरल का चर्च

वो ISIS आतंकी जिसने की थी इंदिरा गाँधी से लव मैरिज, जिहाद के लिए दिया तलाक… क्योंकि वो हिंदू थी

Interview: ‘पंचायत चुनावों ने की गाँवों की हत्या, नए लेखकों ने रखा लव जिहाद जैसे विषय को साहित्य से अछूता’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘फर्जी प्रेम विवाह, 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का यौन शोषण व उत्पीड़न’: केरल के चर्च ने कहा – ‘योजना बना कर हो रहा...

केरल के थमारसेरी सूबा के कैटेसिस विभाग ने आरोप लगाया है कि 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का फर्जी प्रेम विवाह के नाम पर यौन शोषण किया गया।

डॉ जुमाना ने किया 9 बच्चियों का खतना, सभी 7 साल की: चीखती-रोती बच्चियों का हाथ पकड़ लेते थे डॉ फखरुद्दीन व बीवी फरीदा

अमेरिका में मुस्लिम डॉक्टर ने 9 नाबालिग बच्चियों का खतना किया। सभी की उम्र 7 साल थी। 30 से अधिक देशों में है गैरकानूनी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,891FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe