Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजकोचिंग जा रही थी हिंदू छात्रा, फरदीन-रऊफ ने चाकुओं से गोदा: 4 साल से...

कोचिंग जा रही थी हिंदू छात्रा, फरदीन-रऊफ ने चाकुओं से गोदा: 4 साल से पड़ा था पीछे, छेड़छाड़ का केस वापस लेने के लिए डाल रहा था दबाव

उत्तराखंड में कोचिंग जा रही दो बहनों पर फरदीन और रऊफ नाम के युवकों ने धारदार हथियारों से हमला कर दिया। इसमें 17 साल की नाबालिग लड़की गंभीर रूप से घायल हो गई।

उत्तराखंड में कोचिंग जा रही दो बहनों पर फरदीन और रऊफ नाम के युवकों ने धारदार हथियारों से हमला कर दिया। इसमें 17 साल की नाबालिग लड़की गंभीर रूप से घायल हो गई। फरदीन पहले भी पीड़ित के साथ छेड़छाड़ कर चुके है और जेल की हवा भी खा चुका है। वो जमानत पर छूटकर बाहर आया था। फरदीन और उसका परिवार पीड़ित और उसके परिवार पर अपने खिलाफ दर्ज कराई गई शिकायतों को वापस लेने का दबाव डाल रहा था, और न मानने पर उसने जानलेवा हमला कर दिया। इस मामले में पुलिस ने फरदीन और रऊफ को गिरफ्तार कर लिया है।

बाइक पर बैठने से मना करने पर चाकुओं से गोदा

ये वारदात, उधम सिंह नगर के काशीपुर कोतवाली क्षेत्र के खालसा मोहल्ले की है। जहाँ सोमवार (12 फरवरी 2024) की शाम को करीब सवा चार बजे की है। जहाँ बी.कॉम सेकंड ईयर में पढ़ने वाली 17 वर्षीय छात्रा अपनी बहन के साथ कोचिंग जा रही थी, तभी फरदीन नाम का युवक अपने दोस्त रऊफ के साथ पहुँचा। उसने छात्रा को खींचकर अपने बाइक पर बैठाने की कोशिश की, लेकिन छात्रा विरोध जताकर आगे बढ़ गई। तभी गुरुद्वारे के पास फरदीन ने बड़े चाकू से उसपर ताबड़तोड़ हमला बोल दिया। इस हमले में वो बुरी तरह से घायल हो गई। इस दौरान फरदीन के भाई बिलाल, आकिब, अनस और अफरीदी तमाशबीन बने खड़े रहे, साथ ही इन सभी का पिता रिजवान भी वहीं खड़ा था। छात्रा की चीख सुनकर आसपास के लोग मौके की तरफ भागे तो फरदीन छात्रा को धमकाते हुए फरार हो गया।

पहले भी जेल जा चुका है फरदीन

ऑपइंडिया के मौजूद एफआईआर की कॉपी के मुताबिक, फरदीन छात्रा पर बुरी नजर रखता है। वो साल 2019 से उसके पीछे पड़ा है। छात्रा उसके खिलाफ कई बार मामले दर्ज करा चुकी है, लेकिन वो पीछा नहीं छोड़ रहा। यही नहीं, फरदीन पीड़ित छात्रा से छेड़छाड़ के मामले में जेल भी जा चुका है। मौजूदा समय में वो जमानत पर छूटकर बाहर आया है और छात्रा के साथ ही उसके परिजनों को भी उसके खिलाफ की गई शिकायतों को वापस लेने का दबाव डाल रहा था।

इस हमले के बाद फरदीन के परिजन, जिसमें उसके मामा ताजू और फिरोज, फरदीन की माँ बेबी और तीन मौसियाँ, साथ ही फरदीन का रिश्तेदार साहिल सभी पीड़ित परिवार के घर पहुँचे। सभी लोगों ने पीड़ित के माता-पिता को धमकाया और फरदीन पर दर्ज मामलों को वापस लेने के लिए दबाव डाला।

इस हमले के बाद वो अपनी बेटी को लेकर अस्पताल पहुँचे। जहाँ छात्रा को शुरुआती इलाज के बाद हायर सेंटर रेफर कर दिया गया। छात्रा पर हमले की सूचना पाकर हिंदू संगठनों के लोग कोतवाली पहुँचे और आरोपित को गिरफ्तार करने की माँग की। इस बीच बीजेपी विधायक अरविंद पाण्डेय ने पीड़ित से मुलाकात की।

इस मामले में पुलिस ने आईपीसी धारा 147, 307, 323, 354, 452, 504 और आईपीसी की धारा 506 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। कोतवाली में तैनात वरिष्ठ उप निरीक्षक प्रदीप मिश्रा ने ऑपइंडिया से बात करते हुए बताया कि दोनों मुख्य आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले में अभी जाँच जारी है, जल्द ही अन्य गिरफ्तारियाँ भी की जाएँगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

श्रवण शुक्ल
श्रवण शुक्ल
Shravan Kumar Shukla (ePatrakaar) is a multimedia journalist with a strong affinity for digital media. With active involvement in journalism since 2010, Shravan Kumar Shukla has worked across various mediums including agencies, news channels, and print publications. Additionally, he also possesses knowledge of social media, which further enhances his ability to navigate the digital landscape. Ground reporting holds a special place in his heart, making it a preferred mode of work.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -