Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाज26 जनवरी के दिन राजपथ पर नजर आएगी बाबा केदारनाथ की झाँकी: साथ में...

26 जनवरी के दिन राजपथ पर नजर आएगी बाबा केदारनाथ की झाँकी: साथ में होंगे कस्तूरी मृग, मोनाल एवं ब्रह्मकमल

झांकी के अग्र भाग में राज्य पशु कस्तूरी मृग, राज्य पक्षी मोनाल एवं राज्य पुष्प ब्रह्मकमल तथा पार्श्व भाग में केदारनाथ मन्दिर परिसर एवं श्रद्धालुओं को दर्शाया गया है।

नई दिल्ली में आगामी 26 जनवरी को होने वाली गणतंत्र दिवस परेड के लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा उत्तराखण्ड राज्य की झाँकी का अंतिम रुप से चयन कर लिया गया है। इस बार उत्तराखंड राज्य की ओर से बाबा केदारनाथ की झाँकी का चयन किया गया है। भारत सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में गत दिसम्बर 31, 2020 को आदेश जारी कर दिए गए थे।

रिपोर्ट्स के अनुसार, उत्तराखंड की झाँकी का नाम इस प्रक्रिया में भाग लेने वाले 32 अन्य राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की झाँकी के साथ शामिल था, जिन्होंने इस प्रक्रिया में भाग लिया था। इनमें से केंद्र ने केवल 17 का चयन किया। राज्य के सूचना निदेशालय के महानिदेशक मेहरबान सिंह बिष्ट ने कहा कि रक्षा मंत्रालय द्वारा रखी गई इस प्रक्रिया में केंद्र ने 31 दिसंबर को इसके लिए एक आदेश पारित किया था जिसके बाद 32 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने चयन प्रक्रिया के लिए अपनी झांकी के नमूने भेजे थे।

उत्तराखंड राज्य के सूचना महानिदेशक, डॉ मेहरबान सिंह बिष्ट ने बताया कि रक्षा मंत्रालय भारत सरकार में 5 बार की बैठक के बाद उत्तराखण्ड राज्य की झांकी को भी गणतंत्र दिवस परेड में स्थान मिला है। मंगलवार (जनवरी 05, 2020) को राज्य सरकार के अधिकारियों द्वारा यह सूचना जारी की गई।

इस वर्ष उत्तराखंड राज्य की ओर से प्रदर्शित की जाने वाली झांकी का विषय ‘केदारखण्ड’ रखा गया है। झांकी के अग्र भाग में राज्य पशु कस्तूरी मृग, राज्य पक्षी मोनाल एवं राज्य पुष्प ब्रह्मकमल तथा पार्श्व भाग में केदारनाथ मन्दिर परिसर एवं श्रद्धालुओं को दर्शाया गया है।

इससे पहले, उत्तराखंड राज्य द्वारा वर्ष 2003 में फूलदेई, वर्ष 2005 में नंदा राजजात, वर्ष 2006 में फूलों की घाटी, वर्ष 2007 में कार्बेट नेशनल पार्क, वर्ष 2009 में साहसिक पर्यटन, वर्ष 2010 में कुम्भ मेला हरिद्वार, वर्ष 2014 में जड़ी बूटी, वर्ष 2015 में केदारनाथ, वर्ष 2016 में रम्माण, वर्ष 2018 में ग्रामीण पर्यटन तथा वर्ष 2019 में अनाशक्ति आश्रम (कौसानी प्रवास एवं अनाशक्ति) विषयों पर आधारित झाँकियों का सफल प्रदर्शन राजपथ पर किया जा चुका है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe