Friday, May 24, 2024
Homeदेश-समाजउत्तरकाशी में टनल के बाहर बना मंदिर, रेस्क्यू के लिए नई मशीनें इंदौर से...

उत्तरकाशी में टनल के बाहर बना मंदिर, रेस्क्यू के लिए नई मशीनें इंदौर से आईं: 40 नहीं सुरंग में फँसे हुए हैं 41 मजदूर

उत्तरकाशी में बचाव कार्य के 7वें दिन ड्रिलिंग पर रोक लगाई गई क्योंकि अंदर से सुरंग के चटकने की आवाज आई थी। जिसके बाद ये डर फैल गया कि कहीं सुरंग का कोई और हिस्सा न धँस जाए।

उत्तरकाशी के सिलक्यारा से डंडालगाँव के बीच निर्माणाधीन सुरंग में फँसे मजदूरों को निकालने की कोशिशें लगातार जारी हैं। इस बीच पता चला है कि अंदर फँसे श्रमिकों की संख्या 40 नहीं 41 है। इन सभी मजदूरों को बचाने के लिए कल तक सुरंग में ड्रिलिंग का काम हो रहा था। हालाँकि आज के अपडेट में पता चला कि जो अमेरिकी मशीन वहाँ ड्रिल कर रही थी वो काम करना बंद कर दी थी, इस कारण बचाव कार्य को रोकना पड़ा।

कुछ रिपोर्ट्स ने यह भी जानकारी दी है शनिवार (18 नवंबर 2023) को बचाव कार्य पर रोक इसलिए लगाई गई है क्योंकि सुरंग से कुछ चटकने की आवाज आई थी। जिसके बाद ये डर फैल गया कि कहीं सुरंग का कोई और हिस्सा न धँस जाए। इस आवाज के आने के बाद सरकार की हाईवे और इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी ने बयान दिया कि सुरंग के और धँसने की आशंका के चलते बचाव अभियान को रोक दिया गया है।

सबसे ज्यादा ध्यान 2 पाइपों को आपस में जोड़ते वक्त देना पड़ रहा है। केवल इसी काम में डेढ़ से 2 घंटे लग रहे हैं। वहीं सुरंग में भी जब ऑगर मशीन डाली जा रही है तो उसके कंपन से संतुलन बिगड़ रहा है इसलिए काम रुक-रुक के हो रहा है। अमेरिकी मशीन के करीब होने के बाद वायु सेना की मदद से इंदौर से देहरादून करीब 22 टन महत्तवपूर्व उपकरणों को पहुँचाया गया है। इस मशीन को बैकअप के लिए इस्तेमाल किया जाना है।

वहीं रेस्क्यू ऑपरेशन में मदद देने के लिए रेल विकास निगम लिमिटेड की ऑस्ट्रेलिया की कंसल्टेंसी कंपनी के एक्सपर्ट भी उत्तरकाशी पहुँचे हैं। नॉर्वे से भी मदद माँगी गई है। इधर प्रदेश मुख्यमंत्री लगातार अधिकारियों से रेस्क्यू मिशन की पल-पल की जानकारी ले रहे हैं तो वहीं PMO के डिप्टी सेक्रेटरी स्तर के अधिकारी रेस्क्यू वाली जगह पर भी पहुँचे और अभियान के बारे में जानकारी ली। सुरंग में फँसे लोगों के लिए बाहर एक मंदिर भी बनाया गया है।

PMO के पूर्व सलाहकार भास्कर खुलबे ने कहा, “हम कोई भी रास्ता तलाशने की एक भी संभावना नहीं छोड़ेंगे क्योंकि जो लोग यहाँ कई दिनों से फँसे हुए हैं उन तक पहुंचना हमारी प्राथमिकता है। हमारे पास किसी भी संसाधन, विकल्प और विचारों की कमी नहीं है, हमें बस कुछ समन्वित कार्रवाई की जरूरत है और हम कोशिश कर रहे हैं टीमें बनाएँ और किसी तरह वहाँ पहुँचें…हम वर्टिकल ड्रिलिंग का विकल्प भी तलाश रहे हैं…हमें विदेशी सलाहकारों से भी मदद मिल रही है…पीएम मोदी का संदेश है कि यह ऑपरेशन जल्द से जल्द किया जाए।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिरोइन लैला खान की हत्या मामले में सौतेले अब्बा को हुई ‘सजा-ए-मौत’: फार्म हाउस में गाड़ दी परिवार के 6 लोगों की लाश, 13...

बॉलीवुड अभिनेत्री लैला खान और उनके पूरे परिवार की हत्या मामले में अभिनेत्री के सौतेले पिता को कोर्ट ने सजा-ए-मौत सुनाई है।

UPA सरकार ने ब्रह्मोस मिसाइल के निर्यात को रोका, लीक हुई चिट्ठियों से खुलासा: मोदी सरकार ने की जो हजारों करोड़ की डील, वो...

UPA सरकार ने जानबूझकर ब्रह्मोस मिसाइल के निर्यात से जुड़ी फाइलों को अटकाया। इंडोनेशियाई टीम का दौरा रोक दिया गया। बातचीत तक रोक दी गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -