Friday, April 16, 2021
Home देश-समाज BHU में सावरकर की फोटो उखाड़ कर पोती स्याही: वामपंथी छात्र ने कहा- 'वाह!...

BHU में सावरकर की फोटो उखाड़ कर पोती स्याही: वामपंथी छात्र ने कहा- ‘वाह! माँ #% दी’

बीएचयू में एमए फाइनल ईयर के छात्र अभय प्रताप ने कहा कि ये पूर्णरूपेण वामपंथी छात्र संगठन का काम है क्योंकि जेएनयू से लेकर डीयू तक ये लोग ऐसी ही हरकतें कर रहे हैं। छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन को भी पत्र लिख कर अपनी आपत्ति दर्ज कराई है।

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के बाद अब बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में भी वामपंथी छात्रों ने उलूल-जलूल हरकतें करनी शुरू कर दी है। ताज़ा ख़बर के अनुसार, बीएचयू में वीर सावरकर की फोटो के साथ छेड़छाड़ की गई है। छात्रों ने न सिर्फ़ स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के चित्र को दीवार से उखाड़ कर नीचे फेंक दिया बल्कि उसपर स्याही भी पोत दी। दरअसल, मामला ये है कि बीएचयू के पोलिटिकल साइंस डिपार्टमेंट में महात्मा गाँधी, बाबासाहब आंबेडकर और वीर सावरकर सहित कई महापुरुषों के चित्र लगे हुए हैं। सभी क्लासरूम में 3 वर्ष पहले छात्रों व शिक्षकों के सहयोग से इन चित्रों को लगाया गया है।

ये घटना सोमवार (नवंबर 18, 2019) की है। सुबह 10 बजे जब एमए फर्स्ट ईयर के छात्र जब रूम नंबर 103 में क्लास करने पहुँचे तो उन्होंने जो देखा, उससे वो हतप्रभ रह गए। वीर सावरकर की फोटो को दीवार से उखाड़ कर पहली बेंच पर पटक दिया गया था। फोटो पर स्याही लगी हुई थी। इसके बाद छात्र आक्रोशित हो उठे और धरने पर बैठ गए। छात्रों के आक्रोश को देख कर एचओडी वहाँ पर पहुँचे। एचओडी ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि ये ग़लत है। उन्होंने छात्रों को आश्वसन दिया कि एक कमिटी गठित कर के मामले की जाँच की जाएगी।

वीर सावरकर की फोटो के साथ छेड़छाड़, दीवार से उखाड़ दिया गया

एचओडी ने कहा कि वीर सावरकर की फोटो को फिर से कक्षा की दीवार पर लगाया जाएगा। साथ ही दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने का भी आश्वासन दिया। इसके बाद छात्रों का धरना ख़त्म हुआ। एमए के छात्रों ने वामपंथी छात्र संगठन आइसा पर आरोप लगाया है। छात्रों ने कहा कि ये उनका ही काम है क्योंकि वो लोग पहले से ही ऐसी धमकियाँ दे रहे थे। जब दिल्ली विश्वविद्यालय में सावरकर की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ कर के उन्हें अपमानित किया गया था, तब आइसा के एक सदस्य आशुतोष कुमार ने फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी।

पहले कुछ यूँ लगी हुई थी वीर सावरकर की फोटो

आशुतोष ने फेसबुक अकाउंट पर लिखा था कि सावरकर की प्रतिमा को कालिख पोत कर ‘मइया &% दी गई’। साथ ही उसने धमकी भी दी थी कि अब बीएचयू के पोलिटिकल साइंस डिपार्टमेंट में लगे सावरकर के फोटो बारी है। इस धमकी के कारण लोग इस पूरी घटना में वामपंथी छात्र संगठन आइसा का हाथ होने की ही आशंका जता रहे हैं और विश्वविद्यालय प्रशासन को भी इस सम्बन्ध में सूचित कर दिया गया है।

आइसा के आशुतोष का आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट

आक्रोशित छात्रों ने चेतावनी दी है कि वो मंगलवार को इस मामले में एफआईआर दर्ज करेंगे। बीएचयू में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सह संयोजक अभय प्रताप सिंह ने इस मामले को लेकर ऑपइंडिया से बातचीत की। उन्होंने कहा कि सितम्बर में भी वीर सावरकर की फोटो को क्लासरूम में निकाल कर फेंक दिया गया था। इसके बाद एबीवीपी ने इसे किसी की ग़लती समझ कर फोटो को रिपेयर करवाया। बीएचयू में एमए फाइनल ईयर के छात्र अभय प्रताप ने कहा कि ये पूर्णरूपेण वामपंथी छात्र संगठन का काम है क्योंकि जेएनयू से लेकर डीयू तक ये लोग ऐसी ही हरकतें कर रहे हैं। छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन को भी पत्र लिख कर अपनी आपत्ति दर्ज कराई है। पत्र की कॉपी:

छात्रों ने डीन को पत्र लिख कर की कड़ी कार्रवाई की माँग

बीएचयू में पिछले कुछ महीनों से ऐसे कई मामले आ रहे हैं, जिसमें हिन्दू-विरोधी हरकतों की झलकियाँ मिल रही हैं। एबीवीपी का आरोप है कि वामपंथी छात्र संगठन अब बीएचयू को नया जेएनयू बनाना चाहते हैं। अब देखना यह है कि मंगलवार को छात्रों द्वारा नामजद एफआईआर दर्ज कराने के बाद क्या कार्रवाई की जाती है?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

द प्रिंट की ‘ज्योति’ में केमिकल लोचा ही नहीं, हिसाब-किताब में भी कमजोर: अल्पज्ञान पर पहले भी करा चुकी हैं फजीहत

रेमेडिसविर पर 'ज्ञान' बघार फजीहत कराने वाली ज्योति मल्होत्रा मिलियन के फेर में भी पड़ चुकी हैं। उनके इस 'ज्ञान' के बचाव में द प्रिंट हास्यास्पद सफाई भी दे चुका है।

सुशांत सिंह राजपूत पर फेक न्यूज के लिए AajTak को ऑन एयर माँगनी पड़ेगी माफी, ₹1 लाख जुर्माना भी: NBSA ने खारिज की समीक्षा...

AajTak से 23 अप्रैल को शाम के 8 बजे बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगने को कहा गया है।

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,224FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe