Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजछतों से मारे पत्थर, वाहनों में आग लगाई: बंगाल में जहाँ निकल रहा था...

छतों से मारे पत्थर, वाहनों में आग लगाई: बंगाल में जहाँ निकल रहा था रामनवमी का जुलूस, वहाँ हिंसा; CM ममता बोलीं- ‘रमजान में मुस्लिम गलत नहीं करते’

हावड़ा में हुई इस हिंसा के लिए भाजपा ने बंगाल की मुख्यमंत्री और गृहमंत्री ममता बनर्जी ने को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा, "10000 जुलूस निकल रहे हैं, ऐसे में ममता बनर्जी को पुलिस मैनेजमेंट देखना चाहिए था, लेकिन वो धरने पर बैठीं।"

महाराष्ट्र, गुजरात के बाद अब पश्चिम बंगाल के हावड़ा में भी रामनवमी के मौके पर हंगामे की खबर है। सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर करके दावा किया जा रहा है कि वहाँ असामाजिक तत्वों ने रामनवमी के जुलूस पर पत्थरबाजी की और हिंसा भड़कने पर फिर कई वाहनों में आग लगा दी गई। घटना हावड़ा के शिबपुर की है। मौके पर फिलहाल पुलिसकर्मी मौजूद हैं। पुलिस की भी एक गाड़ी में आग लगाने की बात सामने आई है।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स (इंडिया टुडे, अमर उजाला) रिपोर्ट्स बता रही हैं कि बंगाल मुख्यमंत्री ने इस घटना के बाद सारा ठीकरा हिंदुओं पर फोड़ा है। उन्होंने कहा, “मेरे आँख-कान खुले हैं। मुझे सब दिख रहा है। मैंने पहले ही चेतावनी दी थी कि मुस्लिम बहुल इलाकों से यात्रा ना निकाली जाए। मैंने पहले ही कहा था कि राम नवमी पर रैली निकाली गई तो हिंसा हो सकती है। वह बोलीं, “यह रमजान का वक्त है। इस वक्त में वे (मुस्लिम समुदाय) कुछ गलत काम नहीं कर सकते।”

उन्होंने कहा, “जो कोई भी हिंसा और हमले में शामिल है, हम उनकी एक नहीं सुनेंगे। मैं पुलिस से उन लोगों के विरुद्ध एक्शन लेने को कहूँगी जिन्होंने उन्हें इलाके में घुसने की अनुमति दी थी और जो हिंसा व साजिश में शामिल थे “

बता दें कि रामनवमी का जुलूस इलाके में पहुँचने के बाद हिंसा भड़की। श्रद्धालुओं पर पत्थर फेंके गए। जब उन्होंने इसका जवाब दिया तब हालात और गंभीर हो गए।।

जानकारी के अनुसार, बंगाल में रामनवमी पर निकाले गए जुलूसों में भाजपा द्वारा निकाला गया एक जुलूस भी था। इसमें सुवेंदु अधिकारी थे। जिनके 1.5 किलोमीटर बढ़ते ही ये विवाद होने लगा। कुछ वीडियोज में दिख रहा है कि कैसे छतों से पत्थर फेंके गए और वाहन में आग लगाई गई

हावड़ा में हुई इस हिंसा के लिए भाजपा ने बंगाल की मुख्यमंत्री और गृहमंत्री ममता बनर्जी ने को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा, “10000 जुलूस निकल रहे हैं, ऐसे में ममता बनर्जी को पुलिस मैनेजमेंट देखना चाहिए था, लेकिन वो धरने पर बैठीं।”

बता दें कि ममता बनर्जी ने धरने पर बैठने के बाद रामनवमी के अवसर पर हिंदुओं को मुस्लिम इलाकों में न जाने की सलाह दी थी। उन्होंने कहा था कि ये रमजान का महीना है। ऐसे में मुस्लिम इलाकों में राम नवमी का जुलूस न निकालें। उन्होंने ये भी कहा था कि अगर ऐसा हुआ तो फिर आरोपितों को कोर्ट छोड़ेगा नहीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -