Sunday, May 22, 2022
Homeदेश-समाजकॉलेज में घुसे मुस्लिम लड़के, देवी सरस्वती को दी गाली, 19 साल के विशाल...

कॉलेज में घुसे मुस्लिम लड़के, देवी सरस्वती को दी गाली, 19 साल के विशाल की निर्मम हत्या: ABVP कार्यकर्ता की 9वीं बरसी

लोगों का मानना है कि विशाल कुमार को उस वक्त इसलिए निशाना बनाया गया था क्योंकि उन्होंने संघ के नेटवर्क को क्षेत्र में मजबूत करने के साथ नए शाखाओं की शुरुआत भी की थी। विशाल कुमार का जन्म सऊदी अरब में हुआ था और उन्होंने यूनाइटेड किंगडम में अपनी प्रारंभिक पढ़ाई पूरी की थी।

केरल में 17 जुलाई 2012 को विशाल कुमार नाम के एबीवीपी कार्यकर्ता की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। इस हत्या में कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया (सीएफआई) के गुंडे शामिल थे। विशाल उन तीन कार्यकर्ताओं में से एक था जो इनके हमले में घायल हुए थे। हमला उस वक्त हुआ जब एबीवीपी कार्यकर्ता अलापुझा जिले के चेंगन्नूर क्रिस्चियन कॉलेज में प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों का स्वागत कर रहे थे।

रिपोर्ट के अनुसार, एबीवीपी कार्यकर्ता स्वागत समारोह में व्यस्त थे। उसी दौरान बाहर के कुछ मुस्लिम युवक कॉलेज में घुसे। वे लोग एबीवीपी और देवी सरस्वती को गाली दे रहे थे। इसका विरोध विशाल और उसके अन्य साथियों ने किया। इसके साथ ही विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने उन्हें वहाँ से जाने के लिए भी कहा। इसके बाद अचानक से मुस्लिम समूह ने उन पर चाकू, खंजर और अन्य हथियारों से हमला कर दिया था।

पुलिस ने बाद में हत्या के मामले में अंसार फैजल, कैम्पस फ्रंट कॉलेज इकाई के सचिव नजीम और पॉपुलर फ्रंट के समर्थक शफीक को गिरफ्तार किया था। रिपोर्ट के अनुसार, पाँच साल बाद इस मामले में एक आरोप-पत्र दायर किया गया था। इसमें इस घटना में 20 लोगों के शामिल होने जिक्र किया गया था।

चार्जशीट के अनुसार, मुख्य आरोपी नसीम, ​​अंसार फैसल, शेफिक, आसिफ मोहम्मद, शमीर रोथर एमएस, शमीर रोथर, अफजल, अल्ताज और शिबिन हबीब थे। हत्या के दो हफ्ते बाद एबीवीपी के स्टेट सेक्रेटरी एम अनीश बताया था कि, विशाल की हत्या के पीछे आतंकवादी तत्वों का हाथ था। इस वजह से लोकल पुलिस सच्चाई सामने नहीं ला सकती। अलग इन्वेस्टिगेशन टीम ही केवल इसकी सच्चाई सामने ला सकती है।

लोगों का मानना है कि विशाल कुमार को उस वक्त इसलिए निशाना बनाया गया था क्योंकि उन्होंने संघ के नेटवर्क को क्षेत्र में मजबूत करने के साथ नए शाखाओं की शुरुआत भी की थी। विशाल कुमार का जन्म सऊदी अरब में हुआ था और उन्होंने यूनाइटेड किंगडम में अपनी प्रारंभिक पढ़ाई पूरी की थी। हालाँकि, बड़े होने के बाद उन्होंने अपने माता-पिता से अनुरोध किया था, कि उन्हें भारत रहने और वहीं अपनी शिक्षा जारी रखने की अनुमति दी जाए।

विशाल के भारत आने के अनुरोध को उसके माता-पिता मानने को तैयार नहीं थे। हालाँकि विशाल अपनी बात पर लगातार अड़े हुए थे। वह संघ के माध्यम से देश की सेवा करना चाहते हैं। इसके अलावा वे गरीब घर से आने वाले चार अन्य छात्रों की शिक्षा का भी समर्थन कर रहे थे। उनके परिवार वाले भी उनकी राजनीतिक विचारों को अनोखे तरीके से देखते थे। विशाल ने संघ के प्रति अपने पिता के मन की धरणा को भी बदला था।

कैंपस फ्रंट ऑफ़ इंडिया, एक कट्टरपंथी इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (PFI) के छात्रों की शाखा है। इस संगठन के छात्र अक्सर कई अपराधों में लिप्त पाए गए है। एक बार पीएफआई के सदस्यों ने कथित रूप से इस्लामिक पैगंबर मोहम्मद का अपमान करने को लेकर केरल के एक प्रोफेसर के हाथ काट दिए थे।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ने पीएफआई पर केरल में लव-जिहाद मामलों में शामिल होने का भी आरोप लगाया है। वहीं 2016 में एक अन्य पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के नेता पर बेंगलुरु में आरएसएस कार्यकर्ता रुद्रेश की जघन्य हत्या में शामिल होने का आरोप है। इस तरह के अपराधों के आरोपी होने के अलावा पीएफआई पर इस साल दिल्ली में हुए हिन्दू विरोधी दंगों में शामिल होने का भी संदेह है।

विशाल कुमार उन होनहार छात्रों में से एक था जिसके जीवन को कट्टरपंथी मुस्लिमों ने क्रूरता से खत्म कर दिया। वो भी अब संघ के उन्हीं कार्यकताओं का हिस्सा हो गया है जिसे बेहरमी से वामपंथियों या कट्टरपंथी मुस्लिमों द्वारा अपने राजनीतिक रुझान के कारण केरल में मार दिया गया। आज भी इन हत्याओं का सिलसिला जारी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ज्ञानवापी में सिर्फ शिवलिंग ही नहीं, हनुमान जी की भी मूर्ति: अमेरिका के म्यूजियम में 154 साल पुरानी तस्वीर, नंदी भी विराजमान

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर जारी विवाद के बीच सामने आई तस्वीर में हनुमान जी के मिलने से हिन्दू पक्ष का दावा और मजबूत हो गया है।

नौगाँव थाने में आग लगाने वाले 5 आरोपितों के घरों पर चला असम सरकार का बुलडोजर: शराबी शफीकुल की मौत पर 2000 कट्टरपंथियों ने...

असम में एक व्यक्ति की मौत के शक में थाने को जलाने के 5 आरोपितों के घरों को प्रशासन ने बुलडोजर से ढहा दिया है। तीन को गिरफ्तार भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,078FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe