Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजबंगाल में मतदान से पहले तोड़ा गया पोलिंग बूथ, बैलट-पेपर भी जलाए गए: हालात...

बंगाल में मतदान से पहले तोड़ा गया पोलिंग बूथ, बैलट-पेपर भी जलाए गए: हालात देख मतदाता बोले- केंद्रीय बल नहीं रही तैनात, तो नहीं देंगे वोट

इस त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में 5.67 करोड़ मतदाता अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग करेंगे। वहीं, सुरक्षा को देखते हुए इलाकों में स्थानीय पुलिस सहित लगभग 1.50 लाख सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। अधिकारियों ने कहा कि चुनाव के लिए लगभग 65,000 सक्रिय केंद्रीय बल और 70,000 राज्य पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।

पश्चिम बंगाल के त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में आज शनिवार (8 जुलाई 2023) को मतदान जारी है। इस बीच कई इलाकों में बवाल की खबरें आ रही हैं। कहीं पर बैलट लूट लिया गया तो कहीं बूथ पर तोड़फोड़ की गई है। कई जिलों से मारपीट की भी खबरें आ रही हैं। वहीं, मतदान से पहले रात में तीन लोगों की हत्या कर दी गई।

कूचबिहार के सीताई में बाराविटा प्राथमिक विद्यालय के मतदान केंद्र में तोड़फोड़ की गई। भीड़ के रूप में आए उपद्रवियों ने मतपत्रों में आग लगा दी गई। यहाँ पर वोटिंग रुक गई है। केंद्र पर भारी पुलिस फोर्स और केंद्रीय बल तैनात है। हुबली में दो गुटों में मारपीट हो गई।

पूर्व मेदिनीपुर जिले के नंदीग्राम ब्लॉक 1 के निवासियों चुनाव का बहिष्कार कर दिया है। उनका कहना है कि यहाँ केंद्रीय बलों की तैनाती नहीं की गई है। यहाँ के मतदाताओं का कहना है कि टीएमसी द्वारा यहाँ बूथ कैप्चरिंग होती रहती है। मृतकों के नाम पर फर्जी वोटिंग होती हैं।

सुबह 7 बजे मतदान शुरू होने से पहले तक यहाँ हिंसा होता रहा। शुक्रवार (7 जुलाई 2023) को तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई। वहीं, TMC कार्यकर्ता ने कॉन्ग्रेस-सीपीएम गठबंधन के एक कार्यकर्ता को गोली मारकर घायल कर दिया। घायल ने कहा, “मैं खाना खाकर घर से बाहर जा रहा था तभी टीएमसी के लोगों ने मुझे गोली मार दी। लोगों को वोट देने से रोकने के लिए टीएमसी ऐसा कर रही है।”

हिंसा से सबसे ज्यादा प्रभावित मुर्शिदाबाद जिला है। वहाँ के कपसडांगा इलाके में टीएमसी कार्यकर्ता बाबर अली की हत्या कर दी गई। बहरामपुर के मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वहीं, मुर्शिदाबाद जिले के रेजीनगर में क्रूड बम विस्फोट में एक टीएमसी कार्यकर्ता की मौत हो गई। जिले के खारग्राम में एक और तृणमूल कार्यकर्ता की चाकू मारकर हत्या कर दी गई।

कूच बिहार में टीएमसी बूथ समिति के अध्यक्ष गणेश सरकार की रामपुर में चाकू मारकर हत्या कर दी गई। सरकार को अलीपुरद्वार के एक अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। वहीं, 24 परगना में एक व्यक्ति की कार में लाश मिली है। मुर्शिदाबाद में टीएमसी और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता भिड़ गए हैं।

उधर हिंसा को देखते हुए राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने एक ‘शांति गृह’ खोला है। यहाँ पर लोग हिंसा से संबंधित अपनी शिकायतें दर्ज करा सकते हैं। वहीं राज्यपाल और राजभवन के अधिकारी हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में लोगों से मिल रहे हैं और उनकी बातों को सुन रहे हैं।

बताते चलें कि पंचायत चुनाव के घोषणा के बाद से पश्चिम बंगाल में अब तक लगभग 20 लोगों की हत्या की जा चुकी है। बंगाल में जिला परिषद, पंचायत समिति और ग्राम पंचायत के लिए मतदान हो रहा है। 22 जिला परिषदों, 9730 पंचायत समितियों और 63,229 ग्राम पंचायतों की लगभग 928 सीटों के लिए प्रतिनिधी चुने जाएँगे।

इस त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में 5.67 करोड़ मतदाता अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग करेंगे। वहीं, सुरक्षा को देखते हुए इलाकों में स्थानीय पुलिस सहित लगभग 1.50 लाख सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। अधिकारियों ने कहा कि चुनाव के लिए लगभग 65,000 सक्रिय केंद्रीय बल और 70,000 राज्य पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फिर सामने आई कनाडा की दोगलई: जी-7 में शांति पाठ, संसद में आतंकी निज्जर को श्रद्धांजलि; खालिस्तानियों ने कंगारू कोर्ट में PM मोदी को...

खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर को कनाडा की संसद में न सिर्फ श्रद्धांजलि दी गई, बल्कि उसके सम्मान में 2 मिनट का मौन रखकर उसे इज्जत भी दी।

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -