Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजबंगाल पुलिस की सफाई- 'अपनेआप' खुल गई पगड़ी: सेना में रहे सिख की पिटाई...

बंगाल पुलिस की सफाई- ‘अपनेआप’ खुल गई पगड़ी: सेना में रहे सिख की पिटाई का सामने आया था Video

पश्चिम बंगाल की पुलिस ने कहा है कि वो सभी धर्मों का सम्मान करती है। साथ ही दावा किया कि उसके अधिकारियों ने उक्त सिख व्यक्ति को गिरफ्तार करने से पहले खास तौर पर उससे कहा कि वो अपनी पगड़ी वापस पहन ले।

पश्चिम बंगाल में एक सिख बलविंदर सिंह की पगड़ी खोले जाने के आरोपों के बाद पुलिस ने स्पष्टीकरण जारी किया है। पश्चिम बंगाल पुलिस ने कहा कि उक्त सिख व्यक्ति शुक्रवार (अक्टूबर 9, 2020) को हो रहे विरोध-प्रदर्शन के दौरान बंदूक लेकर घूम रहा था। उसे पकड़ने के दौरान उसकी पगड़ी अपनेआप ही खुल गई और इसमें पुलिस का कोई दोष नहीं है।

सिख व्यक्ति की पगड़ी खुलने के आरोपों का जवाब देते हुए पश्चिम बंगाल पुलिस ने इस घटना का वीडियो जारी करते हुए लिखा कि उसके अधिकारियों द्वारा बिना कुछ किए ही पगड़ी अपनेआप ही खुल गई, जैसा कि आप वीडियो में देख सकते हैं। साथ ही पश्चिम बंगाल पुलिस ने कहा कि है कि उनका इरादा किसी भी समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का नहीं है। पुलिस ने सोशल मीडिया के जरिए ये स्पष्टीकरण जारी किया।

पश्चिम बंगाल की पुलिस ने कहा है कि वो सभी धर्मों का सम्मान करती है। साथ ही दावा किया कि उसके अधिकारियों ने उक्त सिख व्यक्ति को गिरफ्तार करने से पहले खास तौर पर उससे कहा कि वो अपनी पगड़ी वापस पहन ले। साथ ही पुलिस ने पगड़ी पहने उक्त सिख व्यक्ति की तस्वीर भी शेयर की। इस तस्वीर के बारे में पुलिस ने बताया कि उसे थाने ले जाने से ठीक पहले इसे क्लिक किया गया था।

पश्चिम बंगाल पुलिस ने कहा कि वो राज्य में क़ानून-व्यवस्था को बनाए रखने को लेकर प्रतिबद्ध है। बता दें कि पुलिस से संघर्ष के दौरान सिख व्यक्ति की पगड़ी खुलने को लेकर काफी हंगामा हुआ था और दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने इसकी तुलना 1984 सिख नरसंहार से की थी। उस दौरान की तस्वीरों को साझा करते हुए इस घटना की तुलना की जा रही थी। अब पुलिस ने इन आरोपों का जवाब दिया है।

बता दे कि भाजपा नेता प्रियांगु पांडेय के सुरक्षा गार्ड बलविंदर सिंह पर उस समय हमला हुआ, जब पश्चिम बंगाल पुलिस ने गुरुवार को कोलकाता की सड़कों पर भाजपा कार्यकर्ताओं को बेरहमी से पीटा और बड़े पैमाने पर लाठीचार्ज किया गया। भाजपा युवा मोर्चा और बीजेपी कार्यकर्ता पश्चिम बंगाल में हो रहे राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध-प्रदर्शन कर रहे थे।

बलविंदर सेना में भी रहे हैं। उनकी पिटाई और पगड़ी खोलने का वीडियो सामने आने के बाद काफी रोष देखने को मिला। अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने वीडियो शेयर करते हुए कहा, “बंगाल पुलिस का गुंडाराज, जो सामने दिखा उसी पर डंडे बरसा दिए। सिक्योरिटी अफसर बलविंदर सिंह की पगड़ी उतारकर उन्हे सड़क पर घसीटा गया। दस्तार का अपमान सिख धर्म का अपमान। पुलिस की ऐसी गुंडागर्दी भारतीय लोकतंत्र पर कलंक।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,042FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe