Saturday, January 22, 2022
Homeदेश-समाजबंगाल: माँ काली की मूर्ति तोड़ बदमाश फरार, 8वीं बार मंदिर में चोरी का...

बंगाल: माँ काली की मूर्ति तोड़ बदमाश फरार, 8वीं बार मंदिर में चोरी का प्रयास

आशंका जताई जा रही है कि चोर माँ काली की मूर्ति से जेवर चुराने के लिए आए होंगे और दरवाजा बंद होने की वजह से उन लोगों ने किसी लाठी या डंडे के सहारे उन जेवरों को निकालने का प्रयास किया होगा। इसी दौरान मूर्ति गिर कर टूट गई होगी।

पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में अराजक तत्वों द्वारा शिव शक्ति काली मंदिर की मूर्तियों को तोड़ने का मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक अज्ञात बदमाश मंदिर में चोरी करने के लिए आए थे, मगर चोरी में नाकाम होने के बाद उन्होंने मंदिर की मूर्तियों को छिन्न-भिन्न कर दिया। इस घटना से इलाके के लोगों में काफी रोष है।

अपराधी जेवर चुराने की नीयत से मंदिर में घुसे थे। बताया जा रहा है कि मंंदिर में आठवीं बार चोरी की कोशिश की गई है। इससे पहले भी सात बार बदमाशों ने मंदिर में चोरी करने का प्रयास किया था। मंगलवार (जनवरी 21, 2019) को हुई वारदात की सूचना मिलने पर न्यू जलपाईगुड़ी थाना पुलिस मौके पर पहुँची। हालाँकि, पुलिस को भी लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। फिलहाल पुलिस 5 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

पूरे मामले का खुलासा मंगलवार सुबह पुजारी के मंदिर पहुँचने पर हुआ। रोज की तरह सोमवार रात को पुजारी मंदिर बंद कर चले गए थे। मंगलवार सुबह जब मंदिर का दरवाजा खोला गया तो नजारा देखकर हक्के-बक्के रह गए। इसके बाद चोरी की खबर पूरे इलाके में फैल गई और लोगों का आक्रोश बढ़ गया। आशंका जताई जा रही है कि चोर माँ काली की मूर्ति से जेवर चुराने के लिए आए होंगे और दरवाजा बंद होने की वजह से उन लोगों ने किसी लाठी या डंडे के सहारे उन जेवरों को निकालने का प्रयास किया होगा। इसी दौरान मूर्ति गिर कर टूट गई होगी। इसके बाद चोर वहाँ से फरार हो गए।

लोगों को पुलिस से भी इस बात की नाराजगी है कि 7 बार चोरी का प्रयास करने के बाद भी अभी तक आरोपितों को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इससे पहले की चोरी को लेकर भी शिकायत दर्ज कराई गई है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

मंदिर की दीवार पर ख़ून से लिख दिया नाम, इलाके में तनाव: ‘कसाई’ की दुकान पर काम करने वाला गिरफ़्तार

मंदिर में तोड़फोड़, हिंदुओं के घरों को जलाया: मुस्लिमों की भीड़ का कहर, देखती रही पुलिस

शिव मंदिर में फेंके प्रतिबंधित मांस के टुकड़े, बीफ के कारण पहले भी इस इलाके में हुआ था बवाल

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केस ढोते-ढोते पिता भी चल बसे, माँ रहती हैं बीमार : दिल्ली दंगों में पहली सज़ा दिनेश यादव को, गरीब परिवार ने कहा –...

दिल्ली हिन्दू विरोधी दंगों में दिनेश यादव की गिरफ्तारी के बाद उनके पिता की मौत हो गई थी। पुलिस पर लगा रिश्वत न देने पर फँसाने का आरोप।

‘ईसाई बनने को कहा, मना करने पर टॉयलेट साफ़ करने को मजबूर किया’: तमिलनाडु में 17 साल की लड़की की आत्महत्या, माता-पिता ने बताई...

परिजनों ने आरोप लगाया कि हॉस्टल वॉर्डन द्वारा लावण्या प्रताड़ित किया गया था और मारा-पीटा गया था, क्योंकि उसने ईसाई मजहब में धर्मांतरण से इनकार किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,757FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe