Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजजिनके पति हुए देश पर बलिदान... उसी राह पर चल वीरांगनाओं ने सेना का...

जिनके पति हुए देश पर बलिदान… उसी राह पर चल वीरांगनाओं ने सेना का बढ़ाया मान: 10 कहानियाँ

'महिला दिवस' के अवसर पर 10 ऐसी वीर महिलाओं की दास्ताँ, जिनके पति सेना में थे और जिन्होंने अपने पति की मृत्यु के बाद सेना को ही अपनाया।

आज ‘महिला दिवस’ के अवसर पर हम कुछ ऐसी महिलाओं की दास्ताँ लेकर आ रहे हैं, जिनके पति सेना में थे और जिन्होंने अपने पति की मृत्यु के बाद सेना को ही अपनाया। इन्हीं में एक कैप्टेन शालिनी सिंह हैं, जिनके पति मेजर अविनाश सिंह भदौरिया के वीरगति को प्राप्त होने के बाद उन्होंने सेना ज्वाइन की। शालिनी को 2017 में ‘मिसेज इंडिया क्लासिक क्वीन ऑफ सबस्टेंस’ का अवॉर्ड भी मिला। शालिनी के पति कारगिल युद्ध में वीरगति को प्राप्त हुए थे। शालिनी भी अब सेना से रिटायर हो चुकी हैं। 2001 में जब मेजर भदौरिया बलिदानी हुए, तब शालिनी मात्र 21 साल की थीं। उनके बेटा ध्रुव तब 2 साल का ही था।

स्कवाड्रन लीडर समीर मिराज-2000 के क्रैश होने के कारण वीरगति को प्राप्त हो गए थे। उसके बाद उनकी पत्नी ने फेसबुक पर लिखा था- ‘मुझे अभी भी यकीन नहीं होता कि तुम जा चुके हो किसी के पास मेरे सवालों का जवाब नहीं हैं तुम ही क्यों?’ पति के बलिदान के बाद गरिमा अबरोल ने भी वायुसेना में शामिल होने का फ़ैसला किया। उन्होंने एएफएसबी के साथ सर्विस सिलेक्शन बोर्ड का इंटरव्यू पास किया था

इसी तरह नीतू संब्याल भी अपने पति के वीरगति को प्राप्त होने बाद सेना में शामिल हुईं और लेफ्टिनेंट बनीं। जम्मू कश्मीर के साम्बा की नीरू के पति रवींद्र 2015 में एक इंजरी की वजह से दिवंगत हो गए थे। रवींद्र जम्मू कश्मीर राइफल्स में थे। उनकी एक छोटी बेटी भी है।

मेजर अमित देशवाल मणिपुर में उग्रवादियों के साथ मुठभेड़ में वीरगति को प्राप्त हो गए थे। वो अपने पीछे एक नन्हे बेटे को छोड़ गए थे। पत्नी नीता देशवाल ने हिम्मत नहीं हारी और उन्होंने चेन्नई में सेना के पासिंग आउट परेड में हिस्सा लेकर इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया। अमित झज्जर जिले के सुरमति गाँव में रहने वाले थे।

निधि मिश्रा की कहानी काफ़ी संघर्ष भरी है। उन्हें उनके ससुराल वालों ने ही बेदखल कर दिया था। जब उनके पति वीरगति को प्राप्त हुए, तब निधि के पेट में 4 महीने का बच्चा था। आज वो लेफ्टिनेंट निधि मिश्रा दुबे हैं। सुसराल वालों ने उनके पति की मृत्यु के बाद उन्हें सदमे से उबरने के लिए समय भी नहीं दिया और तुरंत निकल जाने को कहा। 7 सालों के संघर्ष के बाद निधि ने सेना में ट्रेनिंग ली।

गौरी महादिक के पति मेजर प्रसाद महादिक उग्रवादियों के हमले में वीरगति को प्राप्त हो गए थे। गौरी ने सेना ज्वाइन की और कहा कि वो वही कर रही हैं, जो उनके पति चाहते थे। वो चाहते थे कि गौरी हमेशा हँसती-मुस्कुराती रहे। दिसंबर 2017 में जब मेजर प्रसाद वीरगति को प्राप्त हुए, तब उन दोनों की शादी को महज दो साल ही हुए थे। गौरी ने चेन्नई में सेना की ट्रेनिंग ली। संयोग देखिए, उन्हें वही नंबर मिला जो उनके पति को मिला था।

वीरगति को प्राप्त मेजर विभूति ढौंडियाल की पत्नी निकिता कौल के परिवार को भी एक समय में कश्मीर को हमेशा के लिए अलविदा कहना पड़ गया था क्योंकि वो कश्मीरी पंडित थे। शादी के 10 माह बाद ही मेजर विभूति बलिदानी हो गए और निकिता अकेली रह गईं। लेकिन उन्होंने हौंसला नहीं हारा और सेना ज्वाइन किया।

सुष्मिता पांडेय न सिर्फ़ सेना में शामिल हुईं बल्कि अपने पति के समकक्ष पद पर पहुँचीं। उनकी शादी 2010 में मेजर नीरज से हुई थी। 16 मार्च 2016 को एक रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान नीरज वीरगति को प्राप्त हो गए थे। उस वक़्त उनका बेटा मात्र 4 साल का था। सुष्मिता एसएसबी की परीक्षा पास कर लेफ्टिनेंट बनीं

कर्नल संतोष महादिक की पत्नी स्वाति महादिक सितम्बर 2017 में 11 महीनों के कठिन प्रशिक्षण हासिल करने के बाद सेना में अधिकारी के तौर पर शामिल हुईं। उनके पति 2015 में उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंक विरोधी अभियान में वीरगति को प्राप्त हो गए थे। उन्हें वीरता के लिए सेना मेडल से सम्मानित किया गया था। चेन्नई स्थित ओटीए में ट्रेनिंग के बाद वो सेना में बतौर अधिकारी शामिल हुईं।

दून की कैप्टन प्रिया सेमवाल पश्चिम बंगाल के हल्दिया से पोरबंदर (गुजरात) के बीच आर्मी सेलिंग एक्सपीडिशन का हिस्सा बनीं और 45 दिनों में 3500 मील का सफर तय किया। प्रिया के पति नायक अमित शर्मा 20 जून 2012 को अरुणाचल प्रदेश में सेना के ऑपरेशन ऑर्किड के दौरान वीरगति को प्राप्त हो गए थे। प्रिया को कई बार सम्मानित किया जा चुका है।

कोई ढोती थीं मैला तो कोई थीं सफाई कर्मचारी: पद्म पुरस्कार विजेता महिलाओं की 7 कहानियाँ

मोदी सरकार में खेलती-कूदती-पढ़ती बेटियाँ: वो 8 योजनाएँ, जो उनके सपनों को कर रहे साकार

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

JNU का छात्र-AISA से लिंक, छात्राओं के यौन शोषण में घिरा: अश्लील तस्वीरें भी वायरल की, स्कॉलरशिप पर जा रहा रूस

JNU के छात्र केशव कुमार पर दो छात्राओं के साथ यौन शोषण के आरोप लगे हैं। वो AISA से जुड़ा रहा है। यौन हिंसा व तस्वीरें वायरल करने के भी आरोप।

‘सबको मार डालेंगे’: धमकी देकर गायब हो गए थे मिजोरम सांसद, CM सरमा ने दिया FIR वापस लेने का आदेश

मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने दोस्ताना रुख अपनाते हुए असम पुलिस को आदेश दिया है कि मिजोरम सांसद वनलालवेना के खिलाफ FIR को वापस लिया जाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,557FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe