Friday, April 19, 2024
Homeदेश-समाज500 साल बाद रामजन्मभूमि पर दीवाली, अयोध्या को 5.51 लाख दीयों से रोशन करेगी...

500 साल बाद रामजन्मभूमि पर दीवाली, अयोध्या को 5.51 लाख दीयों से रोशन करेगी योगी सरकार

500 साल बाद रामजन्भूमि पर भी श्रद्धालु दीपोत्सव मना सकेंगे। इसके लिए योगी सरकार ने एक वेबसाइट बनाई है। इसके जरिए श्रद्धालु वर्चुअल लैंप जला सकते हैं।

राम नगरी अयोध्या रोशनी से सराबोर नजर आ रही है। कोविड-19 के दिशा-निर्देशों को मद्देनजर रखते हुए दीपोत्सव 2020 के लिए अयोध्या को दुल्हन की तरह सजाया गया है। राम की पैड़ी में इस वर्ष के ‘दीपोत्सव’ समारोह के लिए खास तैयारियाँ चल रही हैं। दीपोत्सव समारोह 13 नवंबर को ‘छोटी दिवाली’ के साथ शुरू हो चुका है।

अयोध्या में चल रही भव्य तैयारियाँ

रामजन्‍मभूमि पर राममंदिर निर्माण की आधारशिला रखे जाने के बाद यह पहली दिवाली है। उत्तर प्रदेश के पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी ने कहा कि यह पहली बार होगा जब दीपोत्सव अयोध्या में राम जन्मभूमि पर आयोजित किया जाएगा। यह कार्यक्रम पिछले 500 वर्षों से लंबित था।

इस वर्ष अयोध्या के लोगों को एक अलग ही अंदाज में उत्साह और जश्न मनाते हुए देखा जा रहा है। आयोजन के लिए गुरुवार को कई लोग अयोध्या में राम की पैड़ी को सजाने के लिए एकत्र हुए।

रंगोली बनाते कार्यकर्ता

11 झांकियों को लगभग 100 से अधिक कार्यकर्ताओं द्वारा तैयार किया गया है। इस साल सरयू तट यानी राम की पौड़ी पर 5.51 लाख दीये जलाकर विश्‍व कीर्तिमान भी बनाया जाएगा।

दीपों से बनाई राम की प्रतीकात्मक छवि

वहीं उत्तरप्रदेश के सीएम ऑफिस के ट्विटर एकाउंट से ट्वीट कर जानकारी दी गई कि,”मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के अनुसार अयोध्या में आयोजित किए जा रहे ‘दीपोत्सव-2020’ में वर्चुअल दीपोत्सव की व्यवस्था की गई है। कोविड-19 के कारण अयोध्या न पहुँच पाने वाले श्रद्धालु वेबसाइट के माध्यम से श्रीरामलला विराजमान के समक्ष वर्चुअली दीप प्रज्ज्वलित कर सकेंगे।”

अयोध्या में वर्चुअल लाइटिंग भी लोगों का मन मोह रही है। दीपों से सजी पूरी अयोध्या बेहद खूबसूरत नजर आ रही है। अयोध्या में मौजूद सभी मंदिरों, घरों के बाहर भी दीये जलाए गए हैं। पूरा शहर रोशनी से नहाया हुआ नजर आ रहा है।

रंगबिरंगी लाइट से सजाया गई नगरी

दीवाली की पूर्व संध्या पर,उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी राम जन्मभूमि स्थल पर भगवान राम की पूजा-अर्चना की। बता दें राम मंदिर के निर्माण के कारण, रामलला को उनके मूल स्थान से स्थानांतरित कर दिया गया था।

जगमगाती अयोध्या

इस दौरान सीएम ने कहा कि पीएम मोदी की प्रेरणा से पाँच सदी बाद प्रभु श्री राम के भव्‍य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्‍त हुआ है। कई पीढ़ियों से सभी के मन में एक ही तमन्ना थी कि हम भगवान श्री राम के भव्य मंदिर के निर्माण कार्य को अपनी आँखों से देख लेते तो हमारा जन्म और जीवन धन्य हो जाता। ये कार्य प्रधानमंत्री मोदी जी के कारण सफल हुआ है।

यूपी सरकार द्वारा जारी एक स्टेटमेंट में कहा गया है, “लगभग पाँच शताब्दियों के इंतजार के बाद आखिरकार श्री राम जन्मभूमि मंदिर बनाने का सपना पूरा हो रहा है। कोई भी भक्त राम दरबार में आस्था के दीप जलाने से वंचित नहीं होना चाहिए। सभी की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए, उत्तर प्रदेश सरकार ने एक वेबसाइट तैयार की है, जिसके जरिए वर्चुअल लैंप जलाया जा सकता है।”

इतिहास में यह पहली बार होगा जब राम जन्मभूमि परिसर में वर्चुअल रूप में कोई भी व्यक्ति दीपक जला सकता है। यह मंच लोगों को अपने अनुसार लैंपस्टैंड चुनने का मौका देगा। साथ ही घी, सरसों और तिल के तेल जैसे विकल्प भी उपलब्ध होंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

भारत विरोधी और इस्लामी प्रोपगेंडा से भरी है पाकिस्तानी ‘पत्रकार’ की डॉक्यूमेंट्री… मोहम्मद जुबैर और कॉन्ग्रेसी इकोसिस्टम प्रचार में जुटा

फेसबुक पर शहजाद हमीद अहमद भारतीय क्रिकेट टीम को 'Pussy Cat) कहते हुए देखा जा चुका है, तो साल 2022 में ब्रिटेन के लीचेस्टर में हुए हिंदू विरोधी दंगों को ये इस्लामिक नजरिए से आगे बढ़ाते हुए भी दिख चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe