Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजफिर सोने की चिड़िया बना सकता है सोनभद्र में मिला सोना, सरकार की तिजोरी...

फिर सोने की चिड़िया बना सकता है सोनभद्र में मिला सोना, सरकार की तिजोरी में मौजूद सोने से 5 गुना ज्यादा

जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया की टीम के अनुसार, सोनभद्र के हरदी क्षेत्र में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार मौजूद है वहीं सोन पहाड़ी में 2943.25 टन सोने के भंडार होने की पुष्टि की गई है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ई-टेंडरिंग के माध्यम से ब्लॉकों के नीलामी के लिए सात सदस्यीय टीम भी गठित कर दी है।

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में जमीन से तीन हजार टन से ज्यादा स्वर्ण भंडार मिलने की बात सामने आई है। इस सोने की मात्रा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है क भारत इस भंडार के मिलने के बाद दुनिया के टॉप-3 देशों में शामिल हो सकता है। कुल 3,350 टन के इस स्वर्ण भंडार की कीमत तकरीबन 12 लाख करोड़ रूपए तक बताई जा रही है।

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मौजूदा समय में भारत के पास लगभग 626 टन सोने का भंडार है, वहीं मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सोनभद्र जिले में मिला सोना इससे करीब 5 गुना ज्यादा है। राज्य के खानिज विभाग ने सोने की इस खान का पता लगाया है और जल्द ही इस सोने को निकालने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (GSI) की टीम पिछले 15 साल से यहाँ काम कर रही थी, जिसने 2012 में ही यहाँ की जमीन के अंदर सोना होने की पुष्टि कर दी थी। अब प्रदेश सरकार ने इस पर तेजी दिखाते हुए सोने को बेचने के लिए ई-नीलामी प्रक्रिया शुरू कर दी है।

जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया की टीम के अनुसार, सोनभद्र के हरदी क्षेत्र में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार मौजूद है वहीं सोन पहाड़ी में 2943.25 टन सोने के भंडार होने की पुष्टि की गई है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ई-टेंडरिंग के माध्यम से ब्लॉकों के नीलामी के लिए सात सदस्यीय टीम भी गठित कर दी है। यह टीम पूरे क्षेत्र की जियो टैगिंग करेगी और फरवरी 22, 2020 तक अपनी रिपोर्ट भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय लखनऊ को सौंपेगी।

ध्यातव्य है कि वर्तमान में विश्व का सबसे ज्यादा सोने का भंडार अमेरिका के पास है, जो लगभग 8,133 टन है। तो वहीं दूसरे स्थान पर जर्मनी का नाम आता है। जर्मनी के पास कुल 3366.8 टन का स्वर्ण भंडार है। गोल्ड रिजर्व में तीसरे स्थान पर इटली है जिसके पास 2451.8 टन सोना है। यानी प्राचीन काल की सोने की चिड़िया कहलाने वाला भारत, अब सोनभद्र के इस विशाल स्वर्ण भंडार के बाद, इटली को पीछे कर तीसरे स्थान पर आ सकता है।

अपडेट नोट : जियोलोजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (GSI) ने शनिवार (फरवरी 22, 2020) को सोनभद्र की खदान में 3000 टन नहीं, बल्कि सिर्फ 160 किलो सोना होने का दावा किया है। इस पर ताजा रिपोर्ट आप इस लिंक पर पढ़ सकते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काटेंगे-मारेंगे और दिखाएँगे भी… फिर करेंगे जिम्मेदारी की घोषणा: आखिर क्यों पाकिस्तानी कानून को दिल में बसा लिया निहंग सिखों ने?

क्या यह महज संयोग है कि पाकिस्तान की तरह 'किसान' आंदोलन की जगह पर भी हुई हत्या का कारण तथाकथित तौर पर ईशनिंदा है?

डीजल डाल कर जला दिया दलित लखबीर का शव, चेहरा तक नहीं देखने दिया परिजनों को: ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

डीजल डाल कर मोबाइल की रोशनी में दलित लखबीर सिंह के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शव से पॉलीथिन नहीं हटाया गया। परिजन चेहरा तक न देख पाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe