Monday, November 30, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे 5 सवाल अखिलेश यादव जी से पूछती उत्तर प्रदेश की एक लड़की

5 सवाल अखिलेश यादव जी से पूछती उत्तर प्रदेश की एक लड़की

अखिलेश यादव राम मंदिर मुद्दे पर सीएम आदित्यनाथ को सलाह देते हुए किसानों को प्राथमिकता देने की बात कह जाते हैं। मुझे याद नहीं कि अखिलेश जब सीएम थे तो यूपी में 'हाथी' से बड़ी-बड़ी फसलें हुआ करती थीं!

लोकसभा के चुनाव पास में आ रहे हैं। बिना आधार के किसी भी बात को विवाद बनाने की रीत शुरू हो चुकी है। उत्तर प्रदेश तो खैर केंद्र की राजनीति का हमेशा से केंद्र-बिंदु रहा है, ऐसे में यहाँ के नेताओं का आरोप-प्रत्यारोप ख़बरों के केंद्र में बना रहता है। ताजा मामला है, योगी आदित्यनाथ के गणतंत्र दिवस पर कही गई बातें और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का उसकी आड़ में किसानों के दर्द का आँसू बहाना।

26 जनवरी के मौक़े पर जनता को सम्बोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि कोर्ट को राम मंदिर मामले पर जल्द ही फै़सला सुनाना चाहिए। आदित्यनाथ ने कहा कि अगर वो ऐसा नहीं कर पा रहे हैं तो यह मामला उन्हें सौंप देना चाहिए, योगी सरकार इसका हल 24 घंटों के अंदर निकाल लेगी।

अखिलेश यादव ने सीएम आदित्यनाथ की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “हमारा देश 70वाँ गणतंत्र दिवस मना रहा है। अगर कोई मुख्यमंत्री इस मौके पर ऐसी बातें करता है तो आप सोचिए कि वो किस तरह के मुख्यमंत्री होंगे?” अखिलेश ने सीएम को हिदायत देते हुए कहा कि जनता ने उन्हें 90 दिन दिए हैं, उन्हें फसलों को बैलों से बचाने की दिशा में कुछ कदम उठाने चाहिए, सबसे पहले किसानों को बचाने की आवश्यकता है।

सवाल यह है कि गणतंत्र दिवस पर जनता द्वारा चुने मुख्यमंत्री क्या बोलें, क्या न बोलें – यह लिखित है क्या, कहीं दर्ज़ है क्या? मेरी जानकारी में तो नहीं। एक मुख्यमंत्री का जनता की उम्मीदों पर, उनके सवालों पर बात करना शायद पूर्व मुख्यमंत्री की नज़र में गलत हो सकता है क्योंकि बतौर सीएम उनका अनुभव बिल्कुल ही अलग है।

अखिलेश यादव द्वारा कही गई इस बात को पढ़कर-सुनकर ऐसा लगता है जैसे वो भूल गए हैं कि योगी आदित्यनाथ का बतौर मुख्यमंत्री अभी कार्यकाल ज़ारी है। यह और बात है कि ख़ुद उनका बीत चुका है। सिर्फ सवाल उठाने को ही अगर सवाल उठाए जाएँ तो अखिलेश यादव को अंदाज़ा भी नहीं कि उन पर किस-किस तरह के सवाल उठेंगे।

सवाल नंबर #1

2013 का समय याद किया जाए तो मालूम पड़ेगा कि अखिलेश जनता से बात करने से ज्यादा उपयुक्त कटरीना कैफ़ के सवालों का जवाब देना पसंद करते थे। ऐसे में पॉलिटिकल करियर में कई बॉलीवुड कलाकारों से रूबरू हुए अखिलेश अगर बीजेपी पर इस तरह के सवाल नहीं उठाएँगे तो शायद उन पर किसी का ध्यान भी नहीं जाएगा।

साल 2013 में पूर्व मुख्यमंत्री साहब ने हॉकी इंडिया लीग के उद्घाटन समारोह में कटरीना से बड़े धैर्य और संयमता को बनाए रखते हुए बातचीत की थी। कटरीना और अखिलेश की इस बातचीत में कटरीना ने उनसे कई पॉलिटिकल सवाल पूछे थे, जिस पर उन्होंने शांति से मुस्कुराते हुए सिर हिलाकर जवाब दिए थे।

शायद हो सकता है उनका चुप, मुस्कुराते हुए जवाब देना इसलिए हो क्योंकि वो उस समय भी किसानों की समस्याओं में उलझे हुए हों 🙂 कटरीना से हुई बातचीत में वो इस बात का लब्बो-लुआब ढूंढ रहे हों कि किस तरह से उनके इन क़ीमती पलों को किसानों के लिए समर्पित किया जा सकता है 🙂

सवाल नंबर #2

वैसे, अखिलेश यादव का कहना भी बिलकुल जायज है क्योंकि जनता के लिए किए गए उनके कार्य, योगी आदित्यनाथ के कार्यों से बिलकुल ही अलग हैं। एक तरफ जहाँ सीएम योगी के राज में राज्य में सेवाभाव की ख़बरें आती हैं, वहीं साल 2016 में यह ख़बर आती थी कि सूखे से पीड़ित लोगों की व्यथा जानने पहुँचे अखिलेश के स्वागत में हज़ारों लीटर पानी को हैलीपैड पर बहा दिया गया।

पानी की सौगात लेकर पहुँचे अखिलेश अपने लोगों की परेशानियों के प्रति इतने सचेत थे कि उन्हें इस बात से भी कोई फ़र्क़ नहीं पड़ा। वो अखिलेश योगी आदित्यनाथ को जब ये बताते हैं कि किसानों के लिए, जनता के लिए क्या करना है, तो थोड़ा हास्यास्पद वाली स्थिति बन जाती है।

सवाल नंबर #3

अखिलेश अपने कार्यकाल में इतनी व्यस्तता से जीवन गुज़ारते थे कि सरकारी सम्पत्ति (सरकार द्वारा मिले आवास) की भी हालत ख़स्ता करने से नहीं चूके। यह और बात है कि सरकारी बंगले में तोड़-फोड़ करने से परहेज नहीं करने वाले अखिलेश यादव खुद के आवास निर्माण और उसके साज-सज्जा पर करोड़ों खर्च कर देते हैं।

सवाल नंबर #4

किसानों के कंधों पर बंदूक रख कर बीजेपी पर निशाना साधने वाले अखिलेश यादव न जाने क्यों अपने कार्यकाल के बारे में बात करने में हमेशा पीछे रह जाते हैं। अखिलेश यादव शायद इस बात को भूल रहे हैं कि जो हिदायत वो सीएम योगी को दे रहे हैं वो अगर उन्होंने खुद पर लागू की होती तो 2017 में उन्हें इतनी तीख़ी हार का सामना नहीं करना पड़ता। अन्य राज्यों के मुक़ाबले अखिलेश यादव के राज में लगातार किसानों का फंदे पर लटकना उनकी कार्यशैलियों पर न केवल सवाल खड़ा करता है बल्कि चुनावों के नज़दीक होने के कारण उनके अवसरवादी होने का भी प्रमाण देता है।

सवाल नंबर #5

जो अखिलेश यादव 2016 में किसी पार्टी से गठबंधन न करने की हामी भरते रहे, वही अखिलेश 2017 में कॉन्ग्रेस से हाथ मिलाकर फूले नहीं समाते। और न जाने फिर क्या हुआ कि वही अखिलेश 2019 के आते-आते वर्षों पुरानी दुश्मनी भुलाकर बसपा से बुआ-भतीजे का खेल खेलते भी नज़र आते हैं।

अखिलेश यादव जी! आप किसी पर भी सवाल उठाने से पहले अपने कार्यकाल का समय आखिर क्यों भूल जाते हैं?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदू बेईमान, मुसलमान महान और योद्धा: भारत को लेकर विंस्टन चर्चिल की सोच, जिसने मारे 40-45 लाख निर्दोष लोग

विंस्टन चर्चिल भारत के आदिवासियों के खिलाफ रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल कराना चाहता था। चर्चिल ने एक आतंरिक मेमो भेजा था, जिसमें...

किसानों के लिए $10 मिलियन, बदले में खालिस्तान का करें समर्थन: YouTube पर SFJ का विज्ञापन

खालिस्तानी समूह SFJ ने किसानों के विरोध-प्रदर्शनों को समर्थन की घोषणा करते हुए बदले में उनसे अपने राष्ट्रविरोधी एजेंडे के लिए समर्थन माँगा है।

हैदराबाद में केवल ओवैसी को घेरने गई है BJP या कोई और है निशाना: नड्डा, योगी और शाह के उतरने का कुछ अलग ही...

हैदराबाद के सहारे भाजपा को दक्षिण में मिलेगी एंट्री? GHMC के चुनाव में भाजपा ने नड्डा, योगी और शाह को क्यों उतारा? समझिए, इस दिलचस्प चुनाव का पूरा गणित।

‘4 महीने का राशन लेकर आए हैं, दिल्ली को 5 जगह से घेरेंगे’: वार्ता प्रस्ताव ठुकराया, बुराड़ी को बताया ओपन जेल

भारतीय किसान यूनियन (क्रांतिकारी) ने बुराड़ी में आंदोलन का प्रस्ताव खारिज करते हुए कहा है कि वह पार्क नहीं ओपन जेल है।

‘बिल सही है, लेकिन मोदी अच्छे नहीं’: बिल का पता नहीं, किसान के नाम पर धमाचौकड़ी खूब; देखें कुछ दिलचस्प Video

किसान आंदोलन के कथित समर्थकों के कुछ वीडियो सामने आए हैं। इनको किसान बिल के बारे में तो नहीं पता है, लेकिन समर्थन करने की अपनी-अपनी वजहें हैं।

जमीन, सड़क, मॉल, फ्लैट, अम्बानी, अडानी, हवाई जहाज… पब्लिक पूछे- राहुल बाबा कहना क्या चाहते

राहुल गाँधी 'ओजस्वी वक्ता' हैं। उनके भाषण 'बहुत मजेदार' होते हैं। यह किसी से छिपा नहीं। उनका ऐसा ही एक भाषण कृषि कानूनों पर वायरल हो रहा है। जरा, उनके तर्क समझिए और समझाइए।

प्रचलित ख़बरें

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

‘बीवी सेक्स से मना नहीं कर सकती’: इस्लाम में वैवाहिक रेप और यौन गुलामी जायज, मौलवी शब्बीर का Video वायरल

सोशल मीडिया में कनाडा के इमाम शब्बीर अली का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें इस्लाम का हवाला देते हुए वह वैवाहिक रेप को सही ठहराते हुए देखा जा सकता है।

‘जय हिन्द नहीं… भारत माता भी नहीं, इंदिरा जैसा सबक मोदी को भी सिखाएँगे’ – अमानतुल्लाह के साथ प्रदर्शनकारियों की धमकी

जब 'किसान आंदोलन' के नाम पर प्रदर्शनकारी द्वारा बयान दिए जा रहे थे, तब आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक अमानतुल्लाह खान वहीं पर मौजूद थे।

मंदिर में जबरन घुस गया मंजूर अली, देवी-देवताओं और पुजारियों को गाली देते हुए किया Facebook Live

मंदिर के पुजारियों और वहाँ मौजूद लोगों ने मंजूर अली को रोकने का प्रयास किया, तब उसने उन लोगों से भी गाली गलौच शुरू कर दिया और...

दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिमों को भड़काने वाला संगठन ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को पहुँचा रहा भोजन: 25 मस्जिद काम में लगे

UAH के मुखिया नदीम खान ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे लोगों को मदद पहुँचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

साग खोंट रही दलित ‘प्रीति साहनी’ को अपने पास बुलाया, फिर गला रेत मार डाला: सैयद को UP पुलिस ने किया अरेस्ट

उत्तर प्रदेश के बलिया में अपने ननिहाल गई दलित समुदाय की एक युवती की मुस्लिम समुदाय के एक युवक सैयद ने हत्या कर दी। आरोपित हुआ गिरफ्तार।

पड़ोसी मुस्लिम लड़की से जिसने किया प्यार, उसके भाई की ईंट-पत्थर से कुचल कर हत्या: नसीम सहित 6 पर FIR

बिजनौर में पत्थर से कुचल कर शिवम की निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई और शव को जला भी दिया गया। भाई ने पड़ोस के मुस्लिम परिवार पर लगाया आरोप।

बच्चे, बच्चियाँ, किन्नर, महिलाएँ, पुरुष – 40+ रेप करने वाले सिकंदर खान उर्फ जीवाणु को उम्रकैद, कहा – मुखबिर को मार डालूँगा

सिकंदर खान उर्फ़ जीवाणु सीरियल रेपिस्ट है। 2019 में जयपुर में 4 व 7 साल की दो बच्चियों के बलात्कार कर के वो कोटा भाग गया था, लेकिन पकड़ा गया।

हिंदू बेईमान, मुसलमान महान और योद्धा: भारत को लेकर विंस्टन चर्चिल की सोच, जिसने मारे 40-45 लाख निर्दोष लोग

विंस्टन चर्चिल भारत के आदिवासियों के खिलाफ रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल कराना चाहता था। चर्चिल ने एक आतंरिक मेमो भेजा था, जिसमें...

धुले के किसान ने ‘मन की बात’ में जिक्र के लिए PM का जताया आभार, नए कृषि कानून से हुए फायदे के बारे में...

धुले ज़िले के जितेंद्र भोइजी ने 'मन की बात' में अपना जिक्र होने पर खुशी जताते हुए बताया है कि कैसे नए कृषि कानून से उन्हें फायदा हुआ।

‘प्रशांत किशोर को इतना पैसा कहाँ से मिल रहा है’: एक और TMC विधायक बागी, कहा- पार्टी में कई समस्याएँ

TMC में उठा-पठक थमने का नाम नहीं ले रही है। शिबपुर से विधायक जटू लाहिड़ी ने सार्वजनिक तौर पर असंतोष जताया है।

किसानों के लिए $10 मिलियन, बदले में खालिस्तान का करें समर्थन: YouTube पर SFJ का विज्ञापन

खालिस्तानी समूह SFJ ने किसानों के विरोध-प्रदर्शनों को समर्थन की घोषणा करते हुए बदले में उनसे अपने राष्ट्रविरोधी एजेंडे के लिए समर्थन माँगा है।

हैदराबाद में केवल ओवैसी को घेरने गई है BJP या कोई और है निशाना: नड्डा, योगी और शाह के उतरने का कुछ अलग ही...

हैदराबाद के सहारे भाजपा को दक्षिण में मिलेगी एंट्री? GHMC के चुनाव में भाजपा ने नड्डा, योगी और शाह को क्यों उतारा? समझिए, इस दिलचस्प चुनाव का पूरा गणित।

पूर्वी मिदनापुर में शुभेंदु अधिकारी ने दिखाई झलक, असली शो अभी भी बाकी: मान-मनौव्वल में जुटी TMC

ममता बनर्जी सरकार से इस्तीफा देने वाले शुभेंदु अधिकारी ने रविवार को पूर्वी मिदनापुर में सभा की। हालॉंकि उन्होंने अपने पत्ते पूरी तरह नहीं खोले हैं।

हिंदू धर्म को हिंसक बताने वाली उर्मिला मातोंडकर शिवसैनिक बनेंगी, विधान परिषद में मिल सकती है एंट्री

उर्मिला मातोंडकर को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया है। कॉन्ग्रेस छोड़ने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री अब शिवसेना का दामन थामने की तैयारी में हैं।

‘4 महीने का राशन लेकर आए हैं, दिल्ली को 5 जगह से घेरेंगे’: वार्ता प्रस्ताव ठुकराया, बुराड़ी को बताया ओपन जेल

भारतीय किसान यूनियन (क्रांतिकारी) ने बुराड़ी में आंदोलन का प्रस्ताव खारिज करते हुए कहा है कि वह पार्क नहीं ओपन जेल है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,472FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe