Monday, March 8, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे Hello... चंद्रबाबू नायडू, मोदी की बजाय स्वयं से पूछें- Who Are You?

Hello… चंद्रबाबू नायडू, मोदी की बजाय स्वयं से पूछें- Who Are You?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पत्नी भले ही स्वेच्छा से अलग-अलग रहते हों, लेकिन मोदी के पास माँ है, उनके चार भाई हैं, एक बहन है। मोदी अपने भाषणों में हमेशा से कहते आए हैं कि सवा सौ करोड़ देशवासी ही उनका परिवार है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री दिल्ली आए हुए हैं। वह दिल्ली प्रधानमंत्री से मिल कर अपने राज्य की समस्याएँ बताने नहीं आए हैं। न ही वे दिल्ली में आंध्र प्रदेश पर्यटन को बढ़ावा देने आए हैं। चंद्रबाबू नायडू सिर्फ़ और सिर्फ़ अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने के लिए दिल्ली आए हैं। ममता बनर्जी द्वारा शुरू की गई मुद्दाविहीन धरने की परंपरा को नया रुख देने दिल्ली आए हैं। वह दिल्ली आए हैं, ताकि यह दिखा सकें कि विपक्षी नेताओं के जमावड़े का खेल वह भी खेल सकते हैं। उन्हें दिखाना है कि जो काम कोलकाता में ममता बनर्जी और हैदराबाद में कुमारस्वामी कर सकते हैं, वही काम वह दिल्ली में कर के दिखा सकते हैं।

ऐसा करने में वो सफल भी हुए। डॉक्टर मनमोहन सिंह, राहुल गाँधी, फ़ारुक़ अब्दुल्ला सहित कई नेता धरनास्थल पर पहुँचे और नायडू के धरने को समर्थन दिया। अरविन्द केजरीवाल और ममता बनर्जी सहित अन्य नेताओं ने भी सोशल मीडिया के माध्यम से नायडू के प्रति अपने समर्थन को प्रदर्शित किया। इस खेल में जो सबसे ज़्यादा चर्चा का विषय बनेगा- बिना भाजपा सरकार बनने की स्थिति में उसकी पीएम पद की दावेदारी उतनी ही पक्की होगी।

नायडू का पीएम से सवाल- ‘हू आर यू?’

दिल्ली के आंध्र भवन में उपवास और धरने पर बैठे नायडू ने इस दौरान समाचार चैनल एनडीटीवी (NDTV) को दिए साक्षात्कार में कहा:

“मुझे लोकेश के पिता, देवांश के दादा और भुवनेश्वरी के पति होने पर गर्व है, मैं आपसे (नरेंद्र मोदी से)पूछ रहा हूँ- आप कौन हैं?”

चंद्रबाबू नायडू ने प्रधानमंत्री के व्यक्तिगत जीवन पर कटाक्ष करते हुए सिर्फ़ राजनीतिक नैतिकता को ही ताक़ पर नहीं रखा है, बल्कि एक व्यक्ति के तौर पर अपनी हीन भावना का भी परिचय दे रहे हैं। वह अपने परिवार, राज्य और समाज को बदनाम कर रहे हैं। नायडू के दिल्ली आगमन के कारण भले ही पूरी तरह राजनीतिक हों, लेकिन उन्होंने यह बयान देते समय याद भी नहीं रखा कि वह आंध्र के मुख्यमंत्री हैं। जब वह दिल्ली आते हैं तो अपने समाज के साथ ही राज्य का भी प्रतिनिधित्व करते हैं, सिर्फ़ अपनी पार्टी का ही नहीं।

नायडू की टिप्पणी लाखों लोगों का अपमान

एक आँकड़े के मुताबिक़ भारत में 60-64 उम्र समूह के बीच आने वाली 70 लाख महिलाएँ सिंगल हैं, क्या नायडू उन से भी पूछ्ना चाहते हैं- ‘हू आर यू?’ ऐसे लाखों पुरुष भी हैं जो विधुर हैं, ऐसी लाखों महिलाएँ हैं जो अपने पति को खो चुकी हैं, ऐसे लाखों जोड़े हैं जिन्होंने स्वेच्छा से तलाक़ ले रखा है, ऐसे लाखों व्यक्ति हैं जिन्होंने जीवन में शादी ही नहीं की- क्या नायडू उन उन सभी का चरित्र प्रमाण पत्र देखना चाहते हैं? क्या स्वेच्छा से अलग रहने वाले जोड़े किसी के नहीं होते? क्या समाज उनका और वो समाज के नहीं होते? क्या अब इन्हे अपने व्यक्तिगत च्वॉइस सम्बन्धी निर्णय लेने के लिए भी नायडू की अनुमति लेनी होगी?

नायडू अगर पीएम मोदी से यह पूछते कि आप प्रधानमंत्री आवास में क्यों रहते हैं, तो चल जाता। अगर नायडू यह भी पूछते कि आपने फलां रैली में फलां बयान क्यों दिया, यह भी चल जाता। लेकिन, चंद्रबाबू ने अंध-विरोध की पराकाष्ठा को पार करते हुए उन लाखों लोगों का अपमान किया है जो स्वेच्छा से अपना जीवन जीते हैं। नायडू ने ऐसे लोगों की व्यक्तिगत च्वॉइस को निशाना बना कर एक ख़ुद को झूठी नैतिकता का झंडाबरदार बताने की कोशिश की है।

पत्नी, बेटा और पोते का नाम लेकर कोई महान नहीं बनता

चंद्रबाबू नायडू ने अपनी पत्नी, बेटे और पोते का नाम लेकर मोदी पर निशाना साधा। नायडू के अनुसार, जिनकी पत्नी, बेटे और पोते नहीं हैं- उनकी कोई पहचान नहीं है। अगर परिवार से ही किसी की पहचान होती है तो भी मोदी अकेले नहीं हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पत्नी भले ही स्वेच्छा से अलग-अलग रहते हों, लेकिन मोदी के पास माँ है, उनके चार भाई हैं, एक बहन है। मोदी अपने भाषणों में हमेशा से कहते आए हैं कि सवा सौ करोड़ देशवासी ही उनका परिवार है।

चंद्रबाबू नायडू को शायद यह याद नहीं कि दुनिया में हर एक व्यक्ति जो आज अस्तित्व में है, भले ही उनकी पत्नी और बच्चे न हों- लेकिन हर कोई अपनी माँ के कोख से ही जन्म लेता है, वो किसी न किसी का पुत्र हो सकता है, किसी की पुत्री हो सकती है। पत्नी और बच्चे होना किसी की पहचान का प्रमाण नहीं है। किसी की पहचान उसके आचरण, व्यवहार और लोकप्रियता से बनती है, सिर्फ़ बीवी-बच्चों होना ही पहचान का प्रमाण नहीं होता।

चंद्रबाबू नायडू जी, सहवास तो कुत्ते-बिल्ली भी करते हैं, कीड़े-मकोड़े भी करते हैं। बच्चे तो इंसान छोड़िए, पशु-पक्षी के भी होते हैं। नायडू को समझना चाहिए कि अपने बीवी-बच्चों के नाम का बखान कर और किसी के व्यक्तिगत जीवन पर भद्दी टिप्पणी कर वह अपनी पहचान साबित नहीं कर सकते। अगर ऐसा है तो 10 बच्चे और 5 बीवियों वाले पकिस्तान के मौलवी साहब भी नायडू से पूछ सकते हैं- ‘हू आर यू?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत की समृद्ध परंपरा के प्रसार में सेक्युलरिज्म सबसे बड़ा खतरा’: CM योगी की बात से लिबरल गिरोह को सूँघा साँप

सीएम ने कहा कि भगवान श्रीराम की परम्परा के माध्यम से भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को वैश्विक मंच पर स्थापित किया जाना चाहिए।

‘बलात्कार पीड़िता से शादी करोगे’: बोले CJI- टिप्पणी की हुई गलत रिपोर्टिंग, महिलाओं का कोर्ट करता है सर्वाधिक सम्मान

बलात्कार पीड़िता से शादी को लेकर आरोपित से पूछे गए सवाल की गलत तरीके से रिपोर्टिंग किए जाने की बात चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कही है।

असमी गमछा, नागा शाल, गोंड पेपर पेंटिंग, खादी: PM मोदी ने विमेंस डे पर महिला निर्मित कई प्रॉडक्ट को किया प्रमोट

"आपने मुझे बहुत बार गमछा डाले हुए देखा है। यह बेहद आरामदायक है। आज, मैंने काकातीपापुंग विकास खंड के विभिन्न स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाया गया एक गमछा खरीदा है।"

आरक्षण की सीमा 50% से अधिक हो सकती है? सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों को भेजा नोटिस, 15 मार्च से सुनवाई

क्या इंद्रा साहनी जजमेंट (मंडल कमीशन केस) पर पुनर्विचार की जरूरत है? 1992 के इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आरक्षण की सीमा 50% तय की थी।

‘बच्चा कितना काला होगा’: प्रिंस हैरी-मेगन ने बताया शाही परिवार का घिनौना सच, ओप्रा विन्फ्रे के इंटरव्यू में खुलासा

मेगन ने बताया कि जब वह गर्भवती थीं तो शाही परिवार में कई तरह की बातें होती थीं। जैसे लोग बात करते थे कि उनके आने वाले बच्चे को शाही टाइटल नहीं दिया जा सकता।

राजस्थान: FIR दर्ज कराने गई थी महिला, सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही 3 दिन तक किया रेप

एक महिला खड़ेली थाना में अपने पति के खिलाफ FIR लिखवाने गई थी। वहाँ तैनात सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही उसके साथ रेप किया।

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘हराम की बोटी’ को काट कर फेंक दो, खतने के बाद लड़कियाँ शादी तक पवित्र रहेंगी: FGM का भयावह सच

खतने के जरिए महिलाएँ पवित्र होती हैं। इससे समुदाय में उनका मान बढ़ता है और ज्यादा कामेच्छा नहीं जगती। - यही वो सोच है, जिसके कारण छोटी बच्चियों के जननांगों के साथ इतनी क्रूर प्रक्रिया अपनाई जाती है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,339FansLike
81,975FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe