Friday, February 26, 2021
Home बड़ी ख़बर इम्तियाज़ और अब्दुल ने कॉन्स्टेबल प्रकाश को पिकअप ट्रक चढ़ाकर मार दिया, कहीं ख़बर...

इम्तियाज़ और अब्दुल ने कॉन्स्टेबल प्रकाश को पिकअप ट्रक चढ़ाकर मार दिया, कहीं ख़बर पढ़ी?

क्या प्रकाश की हत्या, पहले के डिजिटल क्रोध, प्लाकार्ड संवेदनशीलता और असहिष्णु समाज के मानदंडों पर खरा उतरेगा? क्या मजहब विशेष के युवकों द्वारा गाय की स्मग्लिंग, जबकि ये ग़ैरक़ानूनी होने के साथ-साथ धार्मिक तौर पर भी संवेदनशील मुद्दा है, एक सामान्य अपराध है?

इम्तियाज़ अहमद फ़ैयाज़ (19) और मोहम्मद रज़ा अब्दुल क़ुरैशी (20) गाय चुराकर ले जा रहे थे, कॉन्स्टेबल पेट्रोलिंग कर रहे थे। गायों को दो पिकअप ट्रक में डालकर यवतमाल से नागपुर ले जाया जा रहा था। सड़क पर पुलिस ने रूटीन चेक के लिए बैरिकेड लगा रखे थे। इन्हें लगा कि पकड़ लिए जाएँगे तो बिना रुके गाड़ी भगाते रहे।

इसी चक्कर में पुलिस जवान धीरज मेशराम और सूरज मेशराम घायल हो गए। उन्होंने आगे ख़बर कर दी कि दो गाड़ियाँ गाय लेकर भाग रही हैं। पुलिस कॉन्स्टेबल प्रकाश मेशराम और कमलेश मोहमरे अगले चेकपोस्ट पर तैनात थे। गाड़ियाँ वहाँ की ओर आईं, तो प्रकाश मेशराम ने रुकने का इशारा किया। न तो अब्दुल रुका, न क़ुरैशी। गाय लेकर जा रहे ट्रक से अब्दुल और क़ुरैशी में प्रकाश मेशराम को कुचल दिया, जिससे उनकी वहीं पर मृत्यु हो गई।

इनके दो और साथी, मोहम्मद फ़ाहिम अजीम शेख़ (23) और आदिल ख़ान उर्फ़ मोहम्मद क़ादिर ख़ान (21), मौक़े से भाग गए थे, जिन्हें पुलिस ने बाद में पकड़ लिया।

अब आप इसी हत्या की कहानी के नाम बदल दीजिए, प्रकाश को ट्रक पर बिठा दीजिए, फ़ैयाज़ और क़ुरैशी को पुलिस बना दीजिए। तब ये घटना, भले ही इसमें घृणा का एंगल न हो, साम्प्रदायिक हो जाएगी। हिन्दू के हाथों समुदाय विशेष के युवक की दुर्घटनावश हुई मौत में भी गोमांस डालकर लोग प्राइम टाइम कर लेते हैं। पता चलता है कि जुनैद तो सीट के लिए लड़ रहा था, झगड़े के कारण मारा गया।

मेरी कोई मंशा इस अपराध को धार्मिक रंग देने की नहीं है। मेरी मंशा कुछ असहज सवाल पूछने की है कि क्या प्रकाश की हत्या, पहले के डिजिटल क्रोध, प्लाकार्ड संवेदनशीलता और असहिष्णु समाज के मानदंडों पर खरा उतरेगा? क्या समुदाय विशेष के युवकों द्वारा गाय की स्मग्लिंग, जबकि ये ग़ैरक़ानूनी होने के साथ-साथ धार्मिक तौर पर भी संवेदनशील मुद्दा है, एक सामान्य अपराध है?

और सामान्य अपराध है तो फिर गौरक्षकों को यही पत्रकार, यही सेलिब्रिटी और यही बुद्धिजीवी छिटपुट हिंसा की घटनाओं पर आड़े हाथों क्यों लेते हैं? आख़िर, तब पूरा देश ही कैसे इनटॉलरेंट हो जाता है? यहाँ तो अब्दुल और क़ुरैशी ने दो पुलिस जवान को घायल किया और तीसरे को कुचल कर मार ही दिया। क्या इस घटना में से और कुछ निकलकर नहीं आता?

क्या मैं, पिछली घटनाओं को आधार मानकर, ये सवाल न पूछूँ कि समुदाय विशेष के लोगों को गाय काटकर खाने की ऐसी भी क्या चुल्ल मचती है कि वो पुलिस कॉन्स्टेबल की हत्या करने पर आमादा हो जाते हैं? कानून के लिए कितनी इज़्ज़त है कि बुलंदशहर में भी इसी तरह गायों के काटे जाने की ख़बर की परिणति एक पुलिस अफसर और एक नवयुवक की मौत के रूप में हुई?

आख़िर बवाल तब ही क्यों होता है जब गायों की चोरी करते हुए अपराधियों को कुछ हिन्दू गौरक्षक घेरकर पीटते हैं, या कभी-कभी पिटाई के कारण उनकी मौत हो जाती है? अगर मोदी इन गौरक्षकों को फोन करके गाय चोरी करनेवालों को पीटने कहता है, तो फिर इन समुदाय विशेष के लड़कों को पुलिस के ऊपर गाड़ी चढ़ाने के लिए कौन फोन करता है?

जब गौरक्षक कानून हाथ में लेते हैं तो पूरा हिन्दू समाज असहिष्णु हो जाता है, फिर इस दूसरे मजहब द्वारा पुलिस की हत्या पर क्या कहा जाए? जब गाय का मसला संवेदनशील और भावनात्मक है तो फिर एक ख़ास मज़हब के लोग बार-बार वही काम क्यों करते हैं जिससे भावनाएँ भड़कती हैं और दंगे तक होते हैं? क्या हिन्दू समाज को उकसाकर, अपने अल्पसंख्यक होने की बात कहकर मजहबी अपराधी अपने दुष्कृत्यों को अंजाम देते रहेंगे?

सवाल बहुत हैं, आउटरेज बहुत कम है। कानून और दूसरे धर्म के संवेदनशील प्रतीकों को लेकर इस तरह की सोच जो लोगों की जान ले लेती है, तथा हमारे मीडिया में इन बातों को हमेशा ‘छिटपुट’ हिंसा कहकर टरका दिया जाता है, एक समाज की मानसिकता के बारे में बहुत कुछ कहता है।

दस मिनट में रॉड, लाठी और पत्थर लेकर सड़कों पर उतरती भीड़, और वोट के लिए पुलिस स्टेशन में दंगाइयों के साथ बैठकर बातचीत करना, ऐसे नवयुवकों को हिम्मत देता है कि वो पुलिस कॉन्स्टेबल के ऊपर गाड़ी चढ़ाकर निकल जाते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2019 से अब तक किया बहुत काम, बंगाल में जीतेंगे 200 से ज्यादा सीटें: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा अपनी जीत के प्रति आश्वस्त होते हुए कहा कि लोकसभा चुनावों में भी लोगों को विश्वास नहीं था कि भाजपा इतनी ताकतवर है लेकिन अब शंका दूर हो गई है।

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीखों का हुआ ऐलान, बंगाल में 8 चरणों में होगा मतदान: जानें डिटेल्स

देश के पाँच राज्य केरल, तमिलनाडु, असम, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी में कुल मिलाकर इस बार 18 करोड़ मतदाता वोट देंगें।

राजदीप सरदेसाई की ‘चापलूसी’ में लगा इंडिया टुडे, ‘दलाल’ लिखा तो कर दिए जाएँगे ब्लॉक: लोग ले रहे मजे

एक सोशल मीडिया अकॉउटं से जब राजदीप को 'दलाल' लिखा गया तो इंडिया टुडे का आधिकारिक हैंडल बचाव में आया और लोगों को ब्लॉक करने लगा।

10 साल पहले अग्रेसिव लेंडिंग के नाम पर किया गया बैंकिंग सेंक्टर को कमजोर: PM मोदी ने पारदर्शिता को बताया प्राथमिकता

सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास इसका मंत्र फाइनेंशल सेक्टर पर स्पष्ट दिख रहा है। आज गरीब हो, किसान हो, पशुपालक हो, मछुआरे हो, छोटे दुकानदार हो सबके लिए क्रेडिट एक्सेस हो पाया है।

हिन्दुओं के आराध्यों का अपमान बन गया है कमाई का जरिया: तांडव मामले में अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

तांडव वेब सीरीज के विवाद के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अमजॉन प्राइम वीडियो की हेड अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया है।

मिशनरी स्कूल प्रिंसिपल ने लाइब्रेरियन पर डाला धर्मांतरण का दबाव: लालच देकर सैलरी रोकी फिर गालियाँ देकर नौकरी से निकाला

जब लाइब्रेरियन रूबी सिंह ने स्कूल प्रिंसिपल सिस्टर भाग्या से वेतन की माँग की तो उन्होंने कहा कि धर्म परिवर्तन कर लो, हम तुम्हारा वेतन दे देंगे और उसमें बढ़ोतरी भी कर देंगे।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,858FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe