Sunday, December 6, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया आप अपना धैर्य खो बैठे हैं और विपक्ष के अजेंडे में उलझ कर अनर्गल...

आप अपना धैर्य खो बैठे हैं और विपक्ष के अजेंडे में उलझ कर अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं

सोशल मीडिया पर इन की रोकथाम नहीं होगी। अगर करना है आपको रोकथाम तो करिए ब्लॉक इन सभी को और इनको जवाब देना बंद कीजिए। आप इनकी ऑडियंस हैं, और अगर ऑडियंस नहीं आएगी सिनेमा हॉल में तो पिक्चर तो फ्लॉप होगी ना?

लुटियन के लुटेरों ने कभी इतना खतरा महसूस नहीं किया, जितना खतरा उनको अब महसूस हो रहा है। उनका यहाँ होना सिर्फ विरोध के लिए था, नकारात्मकता फैलाने के लिए था, लोगों को धोखे के जाल में उलझाने के लिए था और वो बने थे सिर्फ विश्वासघात के लिए। लेकिन, आज वही लुटेरे जो कुछ सालों पहले “एलीट” कहलाते थे, आज अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं।

लुटियन के एलीट क्लास की मानसिकता के ऊपर और उनके अस्तित्व की लड़ाई के ऊपर ये श्रृंखला नंदिनी जी ने अप्रैल 4, 2019 को लिखी थी जब चुनाव शुरू नहीं हुए थे। उन्हीं के शब्दों को आपके सामने पेश करने की कोशिश कर रहा हूँ, जिस से बाकी लोग भी इसको पढ़ सकें और जान सकें कि जिनको हम अपना देवता बनाए बैठे थे, वो बुत ही निकले।

बात 2006 की है जब अपने खानदान के नाम को भुनाते हुए और नौकरशाही की सीढ़ियों को अपने नाम के सहारे चढ़ते हुए ये ‘साहब’ के हुजूम के सामने एक सभा में घोषणा करते हैं कि “भारत जैसा अद्भुत कोई देश नहीं है”। आप जान कर हैरान रह जाएँगे कि जिस कारण से उन साहब ने अपनी मातृभूमि की प्रशंसा की थी उसका देश की संस्कृति, विविधता, इतिहास, कला, वास्तुकला, व्यंजनों से कोई लेना-देना नहीं था।

किन्तु जो कारण उन्होंने बताए थे और उन कारणों को सुनकर सभागार में जो अट्टहास लगे थे वो सालों दर साल मेरे कानों में गूँजते रहे। उन साहब का कहना था कि “भारत जैसा अद्भुत कोई देश नहीं है” क्योंकि “सिर्फ पाक और बांग्लादेश ही ऐसे देश हैं जहाँ के राजनेताओं और सरकारी कर्मचारियों के बंगले मेरे बंगले समान हैं।“ साहब के कुछ अन्य बोल:

“मेरी घर की तरफ़ आने-जाने वाले रास्ते साफ-सुथरे हैं, फुटपाथों के आसपास पेड़ लगे हैं और बिजली निर्बाध है।”

“सिर्फ भारत में ही आपको नौकरानियों, मालियों, ड्राइवरों की कमी महसूस नहीं होती क्योंकि यहाँ पर लेबर “चीप” है। (और भगवान करे ये लेबर हमेशा ही “चीप” रहे, ऐसा उनका कहना था।)

साहब ने एक ठहाका और लगाया और अपने भाषण में इन शब्दों को जोड़ा:

“किस देश में आप सीधे पुलिस आयुक्त को फोन कर सकते हैं? किस देश में अपनी ससुराल जाने वाले रास्ते को वन वे ट्रैफिक में तब्दील करा सकते हैं क्योंकि आपके ससुर साहब को भारी ट्रैफिक से आने-जाने में तकलीफ होती थी?अद्भुत है ये देश जहाँ आप एक राज्य के सीएम से एक फ्लाईओवर की योजना को रोकने का अनुरोध कर सकते हैं जो कुछ आलीशान घरों की सुन्दरता में आड़े आ रहा था। और हाँ, किस और देश में आप एक प्राइवेट क्लब के मालिक को फोन करके धमका सकते हैं कि अगर आपकी सदस्यता तुरंत स्वीकृत नहीं हुई तो आपके घर पर एक्साइज वालों की रेड डाल दी जाएगी ?”

साहब का सवाल था कि किस देश में आप एक संरक्षित क्षेत्र में सभी पर्यावरण कानूनों की धज्जियाँ उड़ाते हुए एक शानदार आलीशान घर का निर्माण कर सकते हैं? है कोई और देश जहाँ बैन किया हुआ जानवर का माँस आपको मात्र 5 मिनट में एक फोन कॉल पर हाज़िर हो जाता है?

साहब अपनी ‘Luxuries’ का बखान करते हुए पूछते हैं कि क्या है कोई ऐसा देश जहाँ आपकी नालायक औलादों को आप देश के सबसे शानदार विद्यालयों में या फिर उच्च कोटि के आईवी लीग कॉलेजों और अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों में लायक छात्रों को पीछे छोड़ते हुए शीर्ष स्थानों पर पहुँच सकते हैं? साहब ये सब बोल रहे थे, तभी वहाँ पर किसी ने उनसे पूछा था कि उस आम आदमी का क्या जिसके पास मूल सुविधाएँ तक हासिल नहीं? आम जनता का क्या?

उनका जवाब था, “मेरा ड्राइवर कहता है (ये आपको मैं बता दूँ कि मैंने उस वक़्त पहली बार ये ‘ड्राइवर का सिद्धांत’ के बारे में सुना और सीखा था, जो आगे चलकर हर किसी ने इस्तेमाल किया) छोटे शहरों और गाँवों में हमारे लोग बड़े खुश हैं, क्योंकि वो सभी जात-पात के मसलों में उलझे हुए हैं और वे अपने जीवन में जो भी छोटा-मोटा मिला है, उन चीज़ों के लिए आभारी हैं।”

साथ ही कुछेक सालों में होते रहने वाले दंगे उनको ये अहसास कराते रहते हैं कि उनके पास जो भी है वो कितना कीमती है। जब आपका स्वयं का जीवन खतरे में होता है तो आप मूर्ख ही होंगे जो टूटी-फूटी सड़कों और कूड़े के बारे में चिंतित होंगे। अभी पिछले दिनों इन साहब से फिर मुलाकात हुई और मैंने जानना चाहा था कि भावी आम चुनाव 2019 पर उनके विचार क्या थे?

उनका कहना था; “उनका गैंग और उनके मालिकान इस बार पूरी जान लगा देंगे कि सत्ता का परिवर्तन हो कर रहे। आखिर वो सोने का अंडा देने वाली मुर्गी जो 5 साल से किसी और के हाथ में है, वो उसको इस बार नहीं हाथ से नहीं जाने देंगे। बहुत दुखी होकर उनका कहना था कि पिछले 5 साल बेहद मुश्किल से भरे थे और दुबारा एक और पाँच साल का मतलब सिर्फ क़यामत ही होगा।”

मुझे समझ आ गया था कि इस बार हमला 2014 से बड़ा होगा, हताशाओं से भरा होगा, अभद्रता की सीमाओं को तोड़ दिया जायगा। याद रहे कि ये लेख 2019 के चुनाव से पहले लिखा गया था और जैसा आप देख रहे हैं कि वही हो रहा है। लेकिन, साथ ही मुझे ये भी शक नहीं कि यह एक युग का अंत है और उस अंधे युग की समाप्ति को अंधे भी देख सकते हैं।

ये तो था नंदनी जी की ट्वीट श्रुंखला के कुछ अंशों का हिंदी में रूपांतरण। और अब आता हूँ मैं अपनी बात पर।

चायवाला मोदी वापस आएगा- ऐसा उन महाशय ने कहा था! मोदी जी वापस आए और साथ ही शुरू हुआ पूर्व नियोजित हमला। अगर आपको लगता है कि सरकार आँखें मूँदे बैठी थी तो आप शायद कुछ ज्यादा सोच रहे हैं। सब कुछ वही हो रहा है, कहीं स्केल बड़ा है कहीं स्केल छोटा पर हमलों की उम्मीद थी और सरकार की तैयारी भी पूरी थी।

ये ज़रूरी नहीं कि आपको हमेशा दिखे कि रोकथाम कहाँ और कैसे हो रही है। आपको दिल्ली की ये आग दिख रही है जो शायद कई सालों बाद भड़काई गई एक आग है पर आपको वो आग नहीं दिख पाई होगी जिनको पश्चिमी उत्तरप्रदेश में, मुंबई के इलाकों में, मध्यप्रदेश के कुछ इलाकों में और भी कई “ख़ास इलाकों” में भड़कने से पहले ही बुझा दिया गया।

ये जिस सरकार की आपको नाकामी दिख रही है ये वही सरकार है जिसने कश्मीर में अभूतपूर्व विपरीत परिस्थितियों में अपनी मर्ज़ी के खिलाफ एक पत्ता भी नहीं हिलने दिया। वही मोदी हैं, वही अमित शाह हैं। बस आप अपना धैर्य खो बैठे हैं और विपक्ष के अजेंडे में उलझ कर अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं।

वो चाहते हैं कि आप हिंसा की बात करें, वो चाहते हैं कि आप कानून को हाथ में ले जिस से उनके किए गए कामों को एक कारण मिल सके। क्यों करना है आपको राणा अयूब की ट्वीट को कोट और जवाब देना है? क्यों आपको स्वरा को गद्दार कहना है? राजदीप को क्यों गाली देना है आपको?

सोशल मीडिया पर इन की रोकथाम नहीं होगी। अगर करना है आपको रोकथाम तो करिए ब्लॉक इन सभी को और इनको जवाब देना बंद कीजिए। आप इनकी ऑडियंस हैं, और अगर ऑडियंस नहीं आएगी सिनेमा हॉल में तो पिक्चर तो फ्लॉप होगी ना ?

आखिर में एक निवेदन यहाँ उपस्थित महिलाओं से जो इस नकरात्मकता में उलझी हुई हैं। आप सुबह उठ कर सीधे यहाँ आती हैं और स्वरा एंड गैंग को गालियाँ देने और कोसने लग जाती हैं। एक घंटे बाद आप जब अपनी रिट्वीट और लाइक देख कर खुश होकर अपने बच्चे के लिए कुछ कह रही होती हैं या पति से, पिता से या किसी भी पारिवारिक सदस्य से बातचीत कर रही होती हैं तो आप के अंदर उसी एक घंटे का ज़हर घुला हुआ होता है। नफरत की आग लिए आप दिन भर घूम रहे होते हैं।

धर्म आपका कोई भी हो, नफरत आपके अंदर की सिर्फ आपको ही जलाएगी। आज तक दंगों में जितने भी लोग मारे गए वो ज़मीन पर मौजूद थे अपने अंदर नफरत लिए और नफरत भड़काने वाले टाइप कर रहे थे कहीं दूर बैठे हुए। मुझे कल से लोग डीएम (मैसेज) में आकर सेक्युलर बोल रहे हैं, कोई आपिया बोल रहा है कोई संघी।

बोलते रहिए, सेक्युलर होना गलत नहीं है अगर आप वो सेक्युलर हैं जिसके मायने वो नहीं होते जो आप मानते हैं, बल्कि वो होते हैं जो आपने असलियत में ना पढ़ा और ना होते हुए देखा। इस उम्मीद के साथ आपसे विदा कि जब यहाँ मुस्कराहट वापस आएगी तो मैं भी आ जाऊँगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गुपकार गैंग के पास जब सत्ता थी तो रिफ्यूज़ियों को वोट का अधिकार नहीं दिया, आज कहते हैं कोई तिरंगा नहीं उठाएगा’

"अरे उनसे पूछो, जिन्होंने हिन्दुस्तान को तब गले लगाया जब भारत का विभाजन हुआ और हिन्दुस्तान की धरती को चुना और रिफ्यूजी बनकर यहाँ आए। उनसे पूछो कि तिरंगे की शान क्या है।”

‘महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो टिप्पणी करना बंद करें’: राहुल गाँधी पर शरद पवार के बयान से भड़की कॉन्ग्रेस

"यदि आप महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो कॉन्ग्रेस के नेतृत्व पर टिप्पणी करना छोड़ दें। हर किसी को गठबंधन के बुनियादी नियमों का पालन करना चाहिए।”

पश्चिम बंगाल के आसनसोल में बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला, 7 घायल: पार्टी ने लगाया TMC के गुंडों पर आरोप

पश्चिम बंगाल में शनिवार (दिसंबर 5, 2020) को एक बार फिर से हिंसक वारदात की खबर सामने आई है। इसमें बीजेपी के 5 से 7 कार्यकर्ता घायल बताए जा रहे हैं।

जबरन धर्म-परिवर्तन के खिलाफ योगी सरकार के कानून बनाते ही बदले मौलानाओं के सुर, जारी किया फतवा

"'लव' एक अंग्रेजी शब्द है और 'जिहाद' अरबी। इन्हें जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए, क्योंकि शरीयत में इसकी कोई हैसियत नहीं।"

इंडिया टुडे की डाटा इंटेलीजेंस यूनिट का मैथ फिर गड़बड़ाया, हैदराबाद निकाय चुनाव के नतीजों में जोड़-घटाव भी गलत

हैदराबाद निकाय चुनाव के नतीजों के बाद इंडिया टुडे की डाटा इंटेलिजेंस यूनिट फिर से सोशल मीडिया में आलोचनाओं का केंद्र बनी हुई है।

‘जब इनकी माँ-बेटियाँ अहमद शाह दुर्रानी ले जाता तो उधर टके-टके की बिकती थी’: किसान आंदोलन में घृणा की खेती

"जिस सरकार की आप बात कर रहे हैं केंद्र की, आपको पता है कि ये कौन हैं? ये वही हैं, जो अपनी बेटियों की डोली हाथ जोड़ कर मुगलों के हवाले कर देते थे।"

प्रचलित ख़बरें

‘जब इनकी माँ-बेटियाँ अहमद शाह दुर्रानी ले जाता तो उधर टके-टके की बिकती थी’: किसान आंदोलन में घृणा की खेती

"जिस सरकार की आप बात कर रहे हैं केंद्र की, आपको पता है कि ये कौन हैं? ये वही हैं, जो अपनी बेटियों की डोली हाथ जोड़ कर मुगलों के हवाले कर देते थे।"

आदिपुरुष में दिखाएँगे रावण का मानवीय पक्ष, सीता हरण को बताएँगे जायज: लंकेश का किरदार निभा रहे सैफ अली खान ने बताया

सैफ अली खान ने कहा है कि 'आदिपुरुष' में राम के साथ रावण द्वारा युद्ध किए जाने को सही साबित किया जाएगा।

अवॉर्ड वापसी का सीजन लौटा, किसानों की धमकी के बीच कंगना का सवाल- अभी का सिस्टम ठीक तो आत्महत्या को मजबूर क्यों?

आज केंद्र सरकार और किसानों के बीच 5वें राउंड की वार्ता होनी है। किसान संगठनों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान भी कर रखा है।

‘हमें बहुत मारा’: वकीलों की सतर्कता से लव जिहाद का शिकार होने से बची हिंदू युवती, देखें Video

अलीगढ़ कोर्ट में एक हिंदू युवती ग्रूमिंग जिहाद (लव जिहाद) का शिकार होने से बच गई। उसे चंडीगढ़ से एक मुस्लिम युवक भगाकर लाया था।

जब नक्सलियों की ‘क्रांति के मार्ग’ में डिल्डो अपनी जगह बनाने लगता है तब हथियारों के साथ वाइब्रेटर भी पकड़ा जाता है

एक संघी ने कहा, "डिल्डो मिलने का मतलब वामपंथी न तो क्रांति कर पा रहे न वामपंथनों को संतुष्ट। कामपंथियों के बजाय रबर-यंत्र चुनने पर वामपंथनों को सलाम!"

जबरन धर्म-परिवर्तन के खिलाफ योगी सरकार के कानून बनाते ही बदले मौलानाओं के सुर, जारी किया फतवा

"'लव' एक अंग्रेजी शब्द है और 'जिहाद' अरबी। इन्हें जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए, क्योंकि शरीयत में इसकी कोई हैसियत नहीं।"

असम: टेरर फंडिंग के आरोपित AIUDF प्रमुख बदरुद्दीन अजमल द्वारा संचालित ‘अजमल फाउंडेशन’ के खिलाफ FIR

ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल द्वारा संचालित 'अजमल फाउंडेशन' के खिलाफ असम के दिसपुर पुलिस स्टेशन में शुक्रवार को मामला दर्ज किया गया है।

‘गुपकार गैंग के पास जब सत्ता थी तो रिफ्यूज़ियों को वोट का अधिकार नहीं दिया, आज कहते हैं कोई तिरंगा नहीं उठाएगा’

"अरे उनसे पूछो, जिन्होंने हिन्दुस्तान को तब गले लगाया जब भारत का विभाजन हुआ और हिन्दुस्तान की धरती को चुना और रिफ्यूजी बनकर यहाँ आए। उनसे पूछो कि तिरंगे की शान क्या है।”

मुख्तार के करीबी जफर अब्बास व सादिक हुसैन जमीन के धाँधली के आरोप में यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

पुलिस अधीक्षक डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि दोनों आरोपितों की लंबे समय से तलाश थी। इन्हें गिरफ्तार कर चालान कर दिया गया है। बाकी आरोपितों की तलाश जारी है।

संजय राउत को डॉक्टरों ने दी कम बोलने की सलाह, कंगना रनौत को कहा था- ‘हरामखोर’

“डॉक्टरों ने मुझे कम बात करने और तनाव मुक्त जीवन जीने के लिए कहा है। मैं डॉक्टरों की बातों का पालन करूँगा और आशा करता हूँ कि मुझे फिर से अस्पताल नहीं जाना पड़ेगा।”

कर्नाटक के हसन जिले में गोहत्या करने वाले बूचड़खानों का खुलासा करने वाली महिला पत्रकार पर मुस्लिम भीड़ ने किया हमला

भीड़ ने न केवल पत्रकार के साथ दुर्व्यवहार किया बल्कि उसके साथ छेड़छाड़ की, साथ ही वहाँ से नहीं निकलने पर उसे गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी भी दी।

नए कृषि कानून से खुश एमपी और राजस्थान के किसान, कहा- प्रदर्शनकारियों को बरगला और उकसा रहे विपक्षी नेता

एमपी ही नहीं राजस्थान के किसान भी पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के प्रदर्शनकारियों द्वारा दिल्ली के आसपास हो रहे विरोध प्रदर्शनों में शामिल नहीं हुए हैं। राजस्थान के एक किसान ने नए कृषि कानूनों को लाने के लिए पीएम मोदी को बहुत धन्यवाद दिया।

योगी सरकार ने शुरू किया मिशन रोजगार: 50 लाख युवाओं को रोजगार देने का लक्ष्य, दिशा-निर्देश जारी

योगी सरकार ने आज से प्रदेश में मिशन रोजगार शुरू किया है। अभियान के तहत सरकार ने 50 लाख युवाओं को रोजगार देने का लक्ष्य तय किया है।

अताबुद्दीन अंसारी ने नाम बदलकर हिन्दू युवती को प्रेमजाल में फँसाकर किया गर्भवती, निकला पहले से शादीशुदा और 1 बच्चे का बाप

जब पीड़िता के परिजनों ने जबरन उसकी छानबीन की तो तलाशी में युवक की जेब से आधार कार्ड बरामद हुआ। जिस पर युवक का नाम 27 वर्षीय अताबुद्दीन अंसारी, पिता हामित अंसारी होने का खुलासा हुआ।

‘महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो टिप्पणी करना बंद करें’: राहुल गाँधी पर शरद पवार के बयान से भड़की कॉन्ग्रेस

"यदि आप महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो कॉन्ग्रेस के नेतृत्व पर टिप्पणी करना छोड़ दें। हर किसी को गठबंधन के बुनियादी नियमों का पालन करना चाहिए।”

फिल्म ‘राम सेतु’ के लिए अक्षय कुमार को अयोध्या में शूटिंग करने की मिली परमिशन, CM योगी ने दी मंजूरी

फिल्म राम सेतु के पोस्टर में अक्षय श्रीराम की तस्वीर के आगे खड़े हुए एक अलग ही लुक में नजर आ रहे हैं। इस फिल्म की शूटिंग अयोध्या में होगी जिसकी इजाजत एक्टर को मिल गई है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,565FollowersFollow
359,000SubscribersSubscribe