Monday, March 1, 2021
Home राजनीति 'न्याय योजना' उजाले में वोट खरीदने की कॉन्ग्रेस की विलक्षण नीति का नाम है

‘न्याय योजना’ उजाले में वोट खरीदने की कॉन्ग्रेस की विलक्षण नीति का नाम है

वैसे राहुल गाँधी की न्याय योजना को लेकर यह बात समझ में आ रही है कि चुपचाप रात के अंधेरे में शराब और पैसा बाँटकर चुनाव जीतने की कोशिश अब दिन के उजाले में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर वोटर के अकाउंट में पैसे डालने पर पहुँच गई है।

लोकसभा चुनाव का समय नज़दीक है। सभी राजनीतिक पार्टियाँ चुनाव जीतने की कोशिश में जुटी है। इस दौरान राजनीतिक दल जनता के सामने लोकलुभावन वादे कर रहे हैं। कुछ राजनीतिक पार्टियों द्वारा वोट खरीदने की कोशिश की जाती है और इसे ‘न्याय’ का नाम दे दिया जाता है।

दरअसल हम बात कर रहे हैं कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की, जिन्होंने लोकसभा चुनाव के मुख्य चुनावी वादे के रूप में न्यूनतम आय गारंटी योजना की घोषणा की है। इस योजना के अनुसार, 5 करोड़ परिवारों के देश में सबसे गरीब 20% लोगों को प्रति वर्ष 72,000 रुपये का भुगतान किया जाएगा। लेकिन पार्टी इस बात का ब्यौरा नहीं दे रही है कि इस भारी भरकम योजना को लागू कैसे किया जाएगा? इसके लिए फंड कहाँ से आएँगे। जीडीपी और राजकोषीय घाटे पर इसका क्या असर होगा? अगर यह योजना लागू होती है, तो 2019-20 में करीब ₹3,60,000 करोड़ की जरूरत होगी। वो पैसे कहाँ से आएँगे?

हालाँकि जाने-माने अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी का कहना है कि उन्होंने कॉन्ग्रेस को सलाह दी थी कि न्‍याय स्‍कीम के तहत ₹2,500 से ₹3,000 तक देना राजकोषीय अनुशासन के दायरे में होगा। ‘टाइम्स नाउ’ को दिए इंटरव्‍यू में अभिजीत बनर्जी ने बताया कि कॉन्ग्रेस पार्टी ने ‘न्याय स्कीम’ को लेकर उनसे सलाह ली थी और उन्होंने पार्टी को बताया था कि न्यूनतम आय के तहत प्रति माह ₹2,500 देना सही रहेगा। यह राजकोषीय अनुशासन के दायरे में होगा।

इस पर सालाना ₹1.50 लाख करोड़ खर्च का अनुमान लगाया था। मगर लोकसभा चुनाव की वजह से कॉन्ग्रेस की ओर से इसे सीधा दोगुना कर दिया गया। बनर्जी का मानना है कि इस योजना के लागू होने के बाद राजकोषीय असमानता आने की आशंका है। ऐसे में इनकम टैक्‍स, जीएसटी की दरों में बढ़ोतरी हो सकती है। अगर ऐसा नहीं किया गया, तो राजकोषीय असमानता आ सकता है। इसके साथ ही बनर्जी ने कहा कि इस स्‍कीम के लागू होने पर अगला कदम वाटर, इलेक्‍ट्र‍ीसिटी और फर्टिलाइजर सब्‍सिडी को हटाने का होगा। इसके बाद ही न्‍याय स्‍कीम को प्रभावी ढंग से इस्‍तेमाल किया जा सकेगा।

वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली का भी इस बारे में कहना है कि अगर न्यूनतम आय योजना को लागू किया गया तो देश में पहले से चल रहा राजकोषीय घाटा और अधिक बढ़ जाएगा। उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस अध्यक्ष तथाकथित अर्थशास्त्रियों का हवाला देकर जो गरीबी हटाने का फॉर्मूला दे रहे हैं, वो चुनावी धोखा है। इसके साथ ही अरुण जेटली ने कहा कि इस योजना की घोषणा से ये बात साबित हो जाती है कि न तो इंदिरा गाँधी, ना उनके बेटे और ना ही उनके उत्तराधिकारियों द्वारा चलाई जा रही सरकार गरीबी हटाने में सफल हो पाई है। उन्होंने कहा कि ‘गरीबी हटाओ’ का नारा देने के बाद कॉन्ग्रेस और गाँधी परिवार ने दो तिहाई समय तक शासन किया। जब कॉन्ग्रेस पार्टी इतने बड़े कालखंड में गरीबी को हटाने में असफल रही तो अब देश उन पर क्यों विश्वास करेगा?

वैसे राहुल गाँधी की न्याय योजना को लेकर यह बात समझ में आ रही है कि चुपचाप रात के अंधेरे में शराब और पैसा बाँटकर चुनाव जीतने की कोशिश अब दिन के उजाले में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर वोटर के अकाउंट में पैसे डालने पर पहुँच गई है। इसके साथ ही ये भी स्पष्ट हो गया है कि कॉन्ग्रेस के पास गरीबी हटाने का विजन नहीं है। राहुल गाँधी ने मुफ्त का पैसा बाँटने की योजना लाकर यह साबित कर दिया है कि उनके पास नौकरियाँ देने की ठोस नीति नहीं हैं। यानी कॉन्ग्रेस के पास ऐसी कोई योजना नहीं है कि लोग परिश्रम से पैसा कमाकर गरीबी के चक्रव्यूह से बाहर निकलें। लेकिन वो शायद ये भूल गए कि मुफ्तखोरी के पैसों से गरीबी नहीं मिटाई जा सकती।

अब यहाँ पर सवाल यह भी उठता है कि यदि राहुल को गरीबों और किसानों की इतनी ही चिंता है तो वो कॉन्ग्रेस शासित राज्यों में किसान सम्मान निधि योजना लागू क्यों नहीं कर रही है? क्यों वो आयुष्मान योजना के लाभ से गरीबों को वंचित रख रही है। वैसे देखा जाए तो कॉन्ग्रेस का इतिहास गरीबी और गरीबी हटाने के नाम पर राजनीतिक व्यवसाय का रहा है। मगर उनका असली मकसद गरीबी हटाने का नहीं, बल्कि गरीबी हटाने का सपना दिखाकर अपने योजनाओं के माध्यम से छल कपट करके सत्ता हासिल करने का है।

ऐसा प्राय: देखा गया है कि नेता लोग सोचते हैं कि किसानों का कर्ज माफ कर, या लोगों के बैंक अकाउंट में पैसा ट्रांसफर कर वोटों को खरीदा जा सकता है, गरीबी दूर किया जा सकता है। लेकिन सही मायने में राष्ट्र निर्माण तभी होगा जब वह किसानों और गरीबों को इतना सक्षम बना दें, कि उन्हें कर्ज माफी की जरूरत ही ना पड़े। वह खुद अपना कर्ज चुकाने में सक्षम हों।

मगर असलियत तो यह भी है ना कि इनको जनता की भलाई से कोई मतलब ही नहीं होता है। इन्हें तो बस वोट बैंक बढ़ाकर चुनाव जीतना होता है। इसके पीछे एक और कारण ये भी हो सकता है कि इन्हें डर होता है कि अगर ये वोटर सक्षम हो गए तो फिर इनसे बड़े और वाजिब मुद्दे पर सवाल करने लगेंगे और फिर तब ये कर्ज माफी और न्याय योजना का लॉलीपॉप देकर वोट नहीं खरीद पाएँगे।

इसलिए राजनीतिक दलों को यही तरीका आसान लगता है कि सामाजिक न्याय के नाम पर पैसा फेंककर लोगों का वोट ख़रीद लिया जाए। बहरहाल, ये स्कीम नेताओं के सत्ता सुख के लिए तो अच्छी है, लेकिन यह देश के लिए मुफ्तखोरी के नशे की तरह है, जो लोकतंत्र को अंदर ही अंदर खोखला कर देगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसे लगेगा वैक्सीन, कहाँ कराएँ रजिस्ट्रेशन, कितने रुपए होंगे खर्च… 9 सवाल और उसके जवाब से जानें हर एक बात

कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण 1 मार्च 2021 के साथ शुरू हो गया है। दूसरे फेज में 60 साल से ज्यादा और गंभीर रोग से ग्रस्त लोगों को...

केरल में कॉन्ग्रेस ने मुस्लिम वोटरों पर लगाया बड़ा दाँव, मुस्लिम लीग को दे दी 26 सीटें

केरल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कॉन्ग्रेस ने 'इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML)' के साथ सीट शेयरिंग फॉर्मूला फाइनल कर लिया है।

’50 करोड़ भारतीय मर जाए’ – यह दुआ करने वाले मौलाना को कॉन्ग्रेस-लेफ्ट गठबंधन में 30 सीटें, फिर भी दरार!

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले वामदलों, कॉन्ग्रेस और मौलाना अब्बास सिद्दीकी के ISF के बीच हुए गठबंधन में दरार दिख रही है।

असम का गमछा, पुडुचेरी की नर्स: PM मोदी ने हँसते-हँसते ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

अब जब आम लोगों को कोरोना के खिलाफ बनी वैक्सीन लगनी शुरू हो गई है, पीएम नरेंद्र मोदी ने मार्च 2021 के पहले ही दिन कोरोना वैक्सीन की डोज ली।

यूपी में सभी को दी जाएगी एक यूनिक हेल्थ आईडी, शहरों में हजारों गरीबों को घर देने की तैयारी में योगी सरकार

जल्द व बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के लिए उत्तर प्रदेश के सभी लोगों के स्वास्थ्य का इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (एनडीएचएम) के अंतर्गत प्रदेश सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है।

सोनिया को राहुल बाबा को PM बनाने की चिंता, स्टालिन को उधयनिधि को CM- 2जी, 3जी, 4जी सब तमिलनाडु में: अमित शाह

गृह मंत्री ने कहा कि सोनिया गाँधी को राहुल बाबा को प्रधानमंत्री बनाने की चिंता है और स्टालिन जी को उधयनिधि को मुख्यमंत्री बनाने की चिंता है। इन्हें ना देश की चिंता है और ना तमिलनाडु की, उनको बस अपने परिवार की चिंता है।

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

असम-पुडुचेरी में BJP की सरकार, बंगाल में 5% वोट से बिगड़ रही बात: ABP-C Voter का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज और सी-वोटर ओपिनियन पोल के सर्वे की मानें तो पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की सरकार बनती दिख रही है।

‘मैं राम मंदिर पर मू$%गा भी नहीं’: कॉन्ग्रेस नेता राजाराम वर्मा ने की अभद्र टिप्पणी, UP पुलिस ने दर्ज किया मामला

खुद को कॉन्ग्रेस का पदाधिकारी बताने वाले राजाराम वर्मा ने सोशल मीडिया पर अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर को लेकर अभद्र टिप्पणी की है।

माँ बन गई ईसाई… गुस्से में 14 साल के बेटे ने दी जान: लाश के साथ ‘जीसस के चमत्कार’ की प्रार्थना

झारखंड के चतरा स्थित पन्नाटांड़ में एक किशोर ने कुएँ में कूद कर आत्महत्या कर ली क्योंकि वो अपने माँ के ईसाई धर्मांतरण से दुःखी था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe