Saturday, January 23, 2021
Home विचार मीडिया हलचल रुबिका लियाकत के मजहब पर प्रिंट का हमला: मुस्लिम वो है जो देश से...

रुबिका लियाकत के मजहब पर प्रिंट का हमला: मुस्लिम वो है जो देश से पहले मजहब देखे?

द प्रिंट के इस लेख के मुताबिक, रुबिका लियाकत, सईद अंसारी जैसे मुस्लिम चेहरे, वे रंगमंच की जीती-जागती, विचारवान कठपुतलियाँ हैं, जिनकी डोर किसी और के हाथ में है और उनका किरदार भी किसी और ने और काफी हद तक जमाने ने लिखा है।

कोरोना संकट के इस दौर में द प्रिंट रुबिका लियाकत और सईद अंसारी जैसे पत्रकारों का ‘अच्छे’ और ‘बुरे’ मुस्लिम वर्गीकरण में लगा है।

वामपंथी मीडिया पोर्टल द प्रिंट ने दिलीप मंडल का एक लेख छापा है। इस लेख में बुद्धिजीवी लेखक ने शोध करने की अपनी ताकत एबीपी न्यूज की एंकर रुबिका लियाकत और आजतक के एंकर सईद अंसारी जैसे मुस्लिम एंकरों की रिपोर्टिंग समझाने में लगा दी है।

पाठकों को ये बताने की कोशिश की है कि भारत में दो तरह के मुस्लिम हैं। एक तो वे जो खुलेआम उनके प्रोपेगेंडा को बढ़ाने में हवा का काम करते हैं और अपने अस्तित्व को बचाए रखते हैं। दूसरे वे जो उनके ख़िलाफ़ जाकर भाजपा का मुखपत्र बन रहे हैं और ‘अपने’ लोगों में ‘अपनी’ पहचान खो रहे हैं।

दि प्रिंट के इस लेख में जिसका शीर्षक “रुबिका लियाकत और सईद अंसारी जैसे हिंदी समाचार एंकर भाजपा के मुस्लिम नेताओं की तरह हैं” है। इसमें रुबिका लियाकत पर केंद्रित होकर उनके बारे में कहा गया कि मीडिया में कुछ एक ऐसे पत्रकार हैं जो अपनी अंतरात्मा, अपने जमीर और वजूद को खतरे में डालकर उसे बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

वरना, बहुत से मुस्लिम पत्रकार तो ऐसे हैं जो मीडिया में विविधता न होने के कारण इस पेशे को ही छोड़ देते हैं या फिर न्यूज रूम में साम्प्रदायिक माहौल देखकर त्रस्त हो जाते हैं। मगर, रुबिका और सईद जैसे पत्रकार ऐसे हैं जो  सार्वजनिक-प्रोफेशनल काम और निजी विचारों और जीवन के साथ सामंजस्य बिठा रहे हैं।

सबसे पहले तो लेखक की मानसिक स्थिति देखकर ही इतनी दया आती है कि वे कोरोना वारयस के समय में भी ऐसे मुद्दों को अपने भीतर विमर्श के लिए लेकर आए। लेकिन जब लेकर आए भी तो ऐसे जैसे उनके भीतर का अवसाद शब्दों में उतर आया हो।

अवसाद इस बात का कि आखिर जिस समय में अधिकांश मुस्लिम मीडियाकर्मी उनके विचारों के इर्द-गिर्द चकरघिन्नी की तरह चक्कर लगा रहे हैं, उस समय रुबिका और सईद जैसे मुस्लिम पत्रकार आखिर कैसे अलग धारा में बह रहे हैं। 

उन्हें दिक्कत इस बात से है कि रुबिका लियाकत मुस्लिम होने के बावजूद उस एजेंडे को आगे नहीं बढ़ातीं, जिसे वामपंथी मीडिया ने उन्हीं के ‘मजहबी वजूद’ को बचाने के नाम पर तैयार किया है। वो वजूद जिसमें सरकार को गाली देने की आजादी है। उनसे निराधार प्रश्न करने की स्वतंत्रता है और बात बे-बात खुद के अस्तित्व को खतरे में बताने के तर्क हैं।

लेखक का कहना है कि रुबिका और सईद जो रिपोर्टिंग कर रहे हैं, वो अपने वजूद के उलट जाकर कर रहे हैं। उनका शायद पूछना कि तबलीगी जमात के कारनामे, शाहीनबाग के मनसूबे, मरकज के उद्देश्यों का खुलासा एक मुस्लिम एंकर आखिर कैसे कर सकता है? क्यूँकि, वामपंथी गिरोह के मुताबिक तो उनकी विचारधारा ये कहती है कि ये काम केवल आरएसएस या फिर बजरंग दल से जुड़े एंकर ही कर सकते हैं। अगर, कोई मुस्लिम पत्रकार इस तरह की जुर्रत कर रहा है, तो ये उसका अपना मन नहीं है, बल्कि उस पर कॉरपोरेट दुनिया का दबाव है।

दरअसल, लेखक चाहते हैं कि रुबिका लियाकत जैसी पत्रकार शाहीनबाग प्रदर्शनों का खुलकर समर्थन करें, क्योंकि वे एक मुस्लिम हैं। वहीं सईद अंसारी जैसे पत्रकार जामिया हिंसा में छात्रों की तरफ से पत्थर फेंके, क्यूँकि वे मुस्लिम हैं। 

लेकिन, ये एंकर अगर, इससे उलट कुछ कर रहे हैं, जैसे रुबिका शाहीनबाग को खाली कराने की माँग कर रही हैं और सईद अपनी रिपोर्टिंग में पुलिस की तारीफ कर रहे हैं, तो दोनों बहके मुस्लिम हैं या फिर ऐसे दबे मुस्लिम हैं, जो बेचारे आज अपने घर के चूल्हे को जलाने के लिए अपने ईमान से, अपने मजहब से, खुद से गद्दारी करने लगे हैं। लेकिन गाहे-बगाहे सोशल मीडिया पर कुरान की आयतें शेयर करके अपने मजहब के साथ तालमेल भी बिठा रहे हैं।

इस लेख में गौर कीजिए कि लेखक इतने सेकुलर विचारों वाले हैं कि वे मानना ही नहीं चाहते कि किसी मुस्लिम में अपनी समझ या फिर अपना मत विकसित हो सकता है या वो अपनी इच्छा से अपना कार्यक्षेत्र व विचारधारा चुन सकता है।

इस लेख में दोहरेपन की हदों को महसूस कीजिए कि लेखक के लिए हिंदू बनाम मुस्लिम पत्रकार कितना महत्वपूर्ण विषय है कि वे खुद ही इस बात पर प्रकाश डालते हैं कि आज मुस्लिमों को हैरानी है कि मुस्लिम एंकर ऐसा कैसे कर सकते है?

द प्रिंट का ये लेख प्रमाण है इस बात का कि लेखक को मुस्लिमों से तो बहुत प्रेम है, लेकिन वो अपने मजहबी कट्टरपंथ से हटकर यदि कुछ ऐसा करें, जो देश की बहुसंख्यक आबादी के विचारों/मतों से मेल खाता हो, तो उन्हें उनकी स्थिति पर अचंभा होता है, विचारों पर दया आती है।

आप खुद लेख को पढ़िए। आपको खुद समझ नहीं आएगा कि द प्रिंट के इस लेख में रुबिका जैसे पत्रकारों की उनके काम के लिए आलोचना हुई है या फिर ये बताया गया कि मुस्लिम एंकर मजहब के उलट जाकर अपना काम केवल दबाव में कर रहे हैं। वरना उनकी ऐसी प्रवृत्ति ही नहीं है और ये सब उनसे 2014 के बाद तैयार हुआ माहौल करवा रहा है।

लेख में बताया गया है कि मुस्लिमों की ऐसी एंकरिंग देखते हुए हम उन्हें इन बिंदुओ पर आँक कर संतोष कर सकते हैं कि वे या तो इस माहौल में अपनी पहचान बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं, या सरकार के आगे-पीछे घूमने के लिए ऐसा कर रहे हैं, या फिर बहुसंख्यक आबादी को खुश करने के लिए ये सब कर रहे हैं।

लेख के जरिए बताया जाता है कि ऐसे मुस्लिम चेहरों का इस्तेमाल भाजपा हिंदू नैरेटिव गढ़ने के लिए करती हैं। जिसे प्रतीकवाद भी कहा जा सकता है। उनके मुताबिक, इन चेहरों से हिंदुत्व के एजेंडे को आगे बढ़ाने में विश्वसनीयता मिलती है और पाठक-दर्शक इस बात को स्वीकारते हैं कि मुस्लिम लोग भी जब इनके पक्ष में बोल रहे हैं, तो यही सच होगा…मगर, वास्तविकता कुछ और होती है।

द प्रिंट के इस लेख के मुताबिक, रुबिका लियाकत, सईद अंसारी जैसे मुस्लिम चेहरे, वे रंगमंच की जीती-जागती, विचारवान कठपुतलियाँ हैं, जिनकी डोर किसी और के हाथ में है और उनका किरदार भी किसी और ने और काफी हद तक जमाने ने लिखा है।

उल्लेखनीय है कि ये पहली बार नहीं है जब कुछ मुस्लिमों के अलग मतों को जानकर उनके मजहब पर, उनके काम पर निशाना साधा गया हो। इससे पहले कई बार राणा अय्यूब जैसे पत्रकारों व इस्लामोफोबिया का प्रमोशन करने वाला ये धड़ा मुख्तार अब्बास नकवी और मोहम्मद आरिफ खान जैसे लोगों पर भी भाजपा से जुड़े होने के कारण अपना गुस्सा निकाल चुके हैं।

जैसे द प्रिंट के इस लेख में एक जगह नकवी और शाहनवाज हुसैन का नाम लिया जाता है और उन्हें भी भाजपा की कठपुतली बताते हुए लिखा जाता है कि भाजपा इन जैसे नेताओं को भी अपने पास शोकेज में सजाकर रखती है, जिनकी नीति-निर्धारण में न्यूनतम भूमिका होती है।

बता दें, ये बातें सिर्फ़ यही नहीं थमती। आज भाजपा सरकार में नकवी, जो एक महत्वपूर्ण पद पर हैं, उनके लिए द प्रिंट इससे पहले छाप चुका है कि मुख्तार अब्बास वास्तविक में कपिल मिश्रा ही हैं, बस उनके मुख पर नाम अल्लाह का रहता है।

इसके अलावा आरिफ मोहम्मद खान को लेकर भी ये पोर्टल इस विषय पर अपना लेख प्रकाशित कर चुका है कि अगर भाजपा के लिए अच्छा मुस्लिम बनना है तो आरिफ मोहम्मद से सीखिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुनव्वर फारूकी ने कोई ‘जोक क्रैक’ नहीं किया तो जैनब सच-सच बतलाना कमलेश तिवारी क्यों रेता गया

कितनी विचित्र विडंबना है, धार्मिक भावनाएँ आहत होती हैं और उनका विरोध होता है तो साम्प्रदायिकता! लेकिन मज़हबी जज़्बात आहत होते हैं तो...।

‘किसान’ नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए ‘नकाबपोश’ योगेश के मोबाइल में डाली 4 तस्वीरें

जिस नकाबपोश को शूटर बता किसान नेताओं ने देर रात मीडिया के सामने पेश किया था उसने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

सेना राष्ट्रवादी क्यों, सरकार से लड़ती क्यों नहीं: AAP वाले रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने ‘द प्रिंट’ में छोड़ा नया शिगूफा

लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) HS पनाग पनाग चाहते हैं कि सेना को लेकर जम कर राजनीति हो, उसे बदनाम किया जाए, दुष्प्रचार हो, लेकिन सेना को इसका जवाब देने का हक़ नहीं हो क्योंकि ये राजनीतिक हो जाएगा।

असम में 1 लाख लोगों को मिले जमीन के पट्टे, PM मोदी ने कहा- राज्य में अब तक 2.5 लाख लोगों को मिली भूमि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम के करीब 1 लाख जनजातीय लोगों को उनकी जमीन का पट्टा (स्वामित्व वाले दस्तावेज) सौंपा।

नकाब हटा तो ‘शूटर’ ने खोले राज, बताया- किसान नेताओं ने टॉर्चर किया, फिर हत्या वाली बात कहवाई: देखें Video

"मेरी पिटाई की गई। मेरी पैंट उतार कर मुझे पीटा गया। उलटा लटका कर मारा गया। उन्होंने दबाव बनाया कि मुझे उनका कहा बोलना पड़ेगा। मैंने हामी भर दी।"

मोदी के बाद योगी को PM के रूप में देखना चाहती है जनता, राहुल गाँधी फिर नकारे गए: सर्वे से खुलासा

नरेंद्र मोदी के बाद देश की जनता प्रधानमंत्री के रूप में किसे देखना चाहती है? सर्वे से पता चला है कि उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहली पसंद हैं।

प्रचलित ख़बरें

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

नकाब हटा तो ‘शूटर’ ने खोले राज, बताया- किसान नेताओं ने टॉर्चर किया, फिर हत्या वाली बात कहवाई: देखें Video

"मेरी पिटाई की गई। मेरी पैंट उतार कर मुझे पीटा गया। उलटा लटका कर मारा गया। उन्होंने दबाव बनाया कि मुझे उनका कहा बोलना पड़ेगा। मैंने हामी भर दी।"

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

मंदिर की दानपेटी में कंडोम, आपत्तिजनक संदेश वाले पोस्टर; पुजारी का खून से लथपथ शव मिला

कर्नाटक के एक मंदिर की दानपेटी से कंडोम और आपत्तिजनक संदेश वाला पोस्टर मिला है। उत्तर प्रदेश में पुजारी का खून से लथपथ शव मिला है।
- विज्ञापन -

 

मुनव्वर फारूकी ने कोई ‘जोक क्रैक’ नहीं किया तो जैनब सच-सच बतलाना कमलेश तिवारी क्यों रेता गया

कितनी विचित्र विडंबना है, धार्मिक भावनाएँ आहत होती हैं और उनका विरोध होता है तो साम्प्रदायिकता! लेकिन मज़हबी जज़्बात आहत होते हैं तो...।

भाई की हत्या के बाद पाकिस्तान के पहले सिख एंकर को जेल से कातिल दे रहा धमकी: देश छोड़ने को मजबूर

हरमीत सिंह का आरोप है कि उसे जेल से धमकी भरे फोन आ रहे हैं, जिसमें उसके भाई की हत्या के एक आरोपित बंद है। पुलिस की निष्क्रियता के साथ मिल रहे धमकी भरे कॉल ने सिंह को किसी अन्य देश में जाने के लिए मजबूर कर दिया है।

‘किसान’ नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए ‘नकाबपोश’ योगेश के मोबाइल में डाली 4 तस्वीरें

जिस नकाबपोश को शूटर बता किसान नेताओं ने देर रात मीडिया के सामने पेश किया था उसने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

सेना राष्ट्रवादी क्यों, सरकार से लड़ती क्यों नहीं: AAP वाले रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने ‘द प्रिंट’ में छोड़ा नया शिगूफा

लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) HS पनाग पनाग चाहते हैं कि सेना को लेकर जम कर राजनीति हो, उसे बदनाम किया जाए, दुष्प्रचार हो, लेकिन सेना को इसका जवाब देने का हक़ नहीं हो क्योंकि ये राजनीतिक हो जाएगा।

मोदी के बंगाल पहुँचने से पहले BJP कार्यकर्ताओं पर हमला, TMC के गुंडों पर हिंसा का आरोप

"हमारे कार्यकर्ताओं पर आज हमला किया गया। अगर टीएमसी इस तरह की राजनीति करना चाहती है, तो उन्हें उसी भाषा में जवाब दिया जाएगा।"

वैक्सीन के लिए अमेरिका ने की भारत की तारीफ़: बाइडेन के शपथग्रहण में शामिल 150 से अधिक नेशनल गार्ड कोरोना पॉजिटिव

पिछले कुछ दिनों में भारत भूटान को 1.5 लाख, मालदीव को 1 लाख, बांग्लादेश को 20 लाख, म्यांमार को 15 लाख, नेपाल को 10 लाख और मारीशस को 1 लाख कोविड वैक्सीन की डोज़ प्रदान कर चुका है।

AAP विधायक सोमनाथ भारती को 2 साल जेल की सजा सुना अदालत ने दी बेल, एम्स में सुरक्षाकर्मियों से की थी मारपीट

दिल्ली की एक अदालत ने AAP विधायक सोमनाथ भारती को एम्स के सुरक्षाकर्मियों के साथ मारपीट में दोषी करार दिया है।

असम में 1 लाख लोगों को मिले जमीन के पट्टे, PM मोदी ने कहा- राज्य में अब तक 2.5 लाख लोगों को मिली भूमि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम के करीब 1 लाख जनजातीय लोगों को उनकी जमीन का पट्टा (स्वामित्व वाले दस्तावेज) सौंपा।

नकाब हटा तो ‘शूटर’ ने खोले राज, बताया- किसान नेताओं ने टॉर्चर किया, फिर हत्या वाली बात कहवाई: देखें Video

"मेरी पिटाई की गई। मेरी पैंट उतार कर मुझे पीटा गया। उलटा लटका कर मारा गया। उन्होंने दबाव बनाया कि मुझे उनका कहा बोलना पड़ेगा। मैंने हामी भर दी।"

मोदी के बाद योगी को PM के रूप में देखना चाहती है जनता, राहुल गाँधी फिर नकारे गए: सर्वे से खुलासा

नरेंद्र मोदी के बाद देश की जनता प्रधानमंत्री के रूप में किसे देखना चाहती है? सर्वे से पता चला है कि उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहली पसंद हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe