Sunday, July 5, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे डर का माहौल है... क्योंकि हिंदुत्व बड़ी निर्दयी चीज है, इससे ज्यादा लचक तो...

डर का माहौल है… क्योंकि हिंदुत्व बड़ी निर्दयी चीज है, इससे ज्यादा लचक तो आतंकवाद में है

‘कंटकेनैव कंटकम्’ मतलब ये कि काँटा, काँटे से ही निकलता है, कॉटन से नहीं। इन कुतर्की लोगों को इन्हीं की भाषा में जवाब देना होगा। ये तभी संभव है जब भारत का नागरिक जागरूक और न्यायशील बनेगा।

ये भी पढ़ें

Dr. Amita
डॉ. अमिता गुरुकुल महाविद्यालय चोटीपुरा, अमरोहा (उ.प्र.) में संस्कृत की सहायक आचार्या हैं.

एक छोटा बच्चा घर में अकेला है। उसके साथ खेलने के लिए बाकी बच्चे नहीं हैं। इसलिए बेचारा वही अकेला चोर-सिपाही सबके रोल बारी-बारी से निभाता है और अपने मन को बहलाता है। उसने अपने मुँह पर चादर ढकी, एक तरफ खड़े होकर डराने के अंदाज़ में जोर से ‘हाऊ’ बोला, फिर भागकर दूसरी तरफ जाकर दुबक कर बैठ गया और डरने का नाटक करने लगा।

बच्चे के खेल तक सब ठीक है, लेकिन यही खेल कुछ बड़े लोग भी खेल रहे हैं। खेल कुछ इस तरह है- यथार्थ से एंड्रॉमेडा गैलेक्सी (Andromeda Galaxy) जितनी दूर की बातों की कपोल कल्पना करें, फिर उन्हें बंगलुरु सोनिक बूम जैसे रहस्यमय विस्फोटक स्वर में व्यक्त कर दें और ये लीजिए ‘डर का माहौल’ तैयार है। अब बस उसे तहे दिल से महसूस कराना बाकी है। इसके लिए आप लंबी-गहरी साँस लें और एक अन-अनुभूत पीड़ा के साथ संजीदा आवाज में बोलें- ‘चारों ओर डर का माहौल है’। आज इससे ज्यादा क्रांतिकारी कुछ और नहीं हो सकता। 

डर के माहौल के इन सुरों को अगर ठीक से सुनना है तो आपको 7.1 Surround Sound System वाले ध्वनि यंत्र का प्रयोग करना चाहिए। ताकि आप इस multi-channel audio को ठीक से सुन सकें। तब आपको पता चलेगा कि इस महाभीति गान का प्रथम स्वर ‘सा’ वाममार्गियों के कोने से आता है, ‘रे’ कॉन्ग्रेस व अनुषंगी पार्टियों से, ‘ग’ अति जागरूक पत्रकारों से, ‘म’ मुंबई वाले कलाकारों से, ‘प’ का पंचम स्वर पाकिस्तान वाली दिशा से, ‘ध’ धमाके वाले शांतिदूतों से, ‘नि’ निर्मल हृदय छात्र-छात्राओं की ओर से।

इस तरह ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ की विशुद्ध संगीतमयता के साथ छद्म मानवाधिकार, उदारता, सेक्युलरिज्म आदि थीम के गीत गाए जाते हैं। इनका सुर एक इसलिए है क्योंकि इन सबको, चाहे वो पाकिस्तान हो या हमारे देश की सेवाभावी पार्टियाँ, इन्हें एक ही चीज से खतरा है और वो है हिंदुत्व।

गजब की बात ये है कि इन लोगों को हिन्दुओं के खिलाफ कोई भी प्रोपेगेंडा करने के लिए अतिवादी हिंदुत्व या उग्र हिंदुत्व जैसी औपचारिकता की भी जरूरत नहीं पड़ती है। सीधे हिंदुत्व शब्द में ही वो दहशत समेट दी जाती है जो इस देश के करोड़ों अल्पसंख्यकों में डर का माहौल दिखाने और दुनिया भर में इसे बदनाम करने के लिए पर्याप्त है। लेकिन आप ये भी न सोचें कि सभी हिंदू खतरनाक हैं।

मौसमी हिंदुत्व को इससे बचाकर रखा गया है। मौसमी हिंदुत्व, मौसमी जनेऊ, मौसमी ब्राह्मण ये तो दुनिया के सबसे भोले-भाले प्राणी हैं। ये प्राय: उच्च राजवंशी, जगदद्धारक, अवतारी महापुरुष होते हैं, जिन्हें स्वयं ब्रह्मा ने इस धरा के कल्याण के लिए भेजा है। इसलिए इस लेख में जब भी हिंदुत्व की बात हो तब आप मौसमी हिंदुत्व को उससे बाहर ही रखें, क्योंकि ऐसे भोले-भाले प्राणियों को हिंदुत्व के लपेटे में लाने से अहिंसा के व्रत का उल्लंघन हो जाता है।

तो हम बात कर रहे थे कि हिंदुत्व बड़ी निर्दयी चीज़ है। इससे ज्यादा लचक तो आतंकवाद में पाई जाती है। अच्छा आतंकवाद, बुरा आतंकवाद, भटके हुए बच्चे, तरक्की और वाजिब तालीम से महरूम नौजवान, डरे-सहमे युवा, एशियन पेंट्स के पास भी इतना विविधतापूर्ण शेडकार्ड मिलना मुश्किल है।

हिंदुत्व का खतरा इतना सर चढ़कर बोल रहा है कि हाल ही में पहले तो पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने पीएम मोदी की इस्लाम विरोधी, हिंसक और क्षेत्रीय अस्थिरता वाली हिंदुत्ववादी या द्रविड़ ऐसी ही किसी विचारधारा के खिलाफ अनेक बार संयुक्त राष्ट्र संघ और अंतर्राष्ट्रीय इस्लामिक संगठनों से शिकायत की है। फिर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके चिंता जाहिर की कि तानाशाह मोदी की सरकार न केवल भारत के अल्पसंख्यकों, जो कि इस समय भारत में दोयम दर्जे के नागरिक हैं उनके लिए, बल्कि क्षेत्रीय शांति के लिए भी खतरा है।

इमरान खान के पास खतरा भाँपने की छठी इन्द्रियनुमा कौन सी तकनीक है पता नहीं, जो खतरे की इतनी पक्की पूर्वसूचना दे देते हैं। इतनी पक्की सूचना के लिए वाकई या तो अच्छी तकनीक चाहिए या फिर खतरे का तूफ़ान खुद ये सूचना दे कि वो आ रहा है तब वो सही होगी। मिनिमम-मैक्सिमम वाली घटना के बाद इनकी तकनीक पर तो भरोसा नहीं किया जा सकता, इसलिए खतरे के आने की सूचना खुद खतरे ने दी है यही मानना पड़ेगा।

क्षेत्रीय शांति के लिए खतरे के तूफ़ान का अभी एक वीडियो भी पाकिस्तान से आया था जिसमें वो पूर्वसूचना दे रहा है कि हम आ गए हैं कश्मीर में, गजवा-ए-हिंद के लिए निकल पड़े हैं, बिल्कुल इमरान खान की सूचना से मेल खाता हुआ।

पता नहीं पाकिस्तान में ऐसे कौन से फ़िल्टर लगे आईने बेचे जाते हैं, जिसमें उन्हें अपना चेहरा बड़ा सुहाना नज़र आता है। पूरी की पूरी माइनॉरिटी के गायब होने से बने गड्ढे और जगह-जगह पर उभरते आतंरिक विद्रोहों के बर्बरता पूर्वक कुचले गए अपने ही चेहरे के फोड़े नज़र नहीं आते। खुद के दामन पर लगे बलूचियों, अहमदियों, हिंदुओं के संहार के छींटें नज़र नहीं आते। या हो सकता है उनके दाग अच्छे हों, क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय राजनैतिक दाँव-पेंचों के सर्फ में सब धुलते रहते हैं।

जिस हिंदुत्व का रोना रोकर पाकिस्तान से लेकर भारत तक ये वाममार्गी इसे खतरनाक जताने की कोशिश करते हैं उसका न तो दहशतगर्दी का अतीत है, न वर्तमान। फिर भी वही है खतरा। सवाल तो ये उठना चाहिए कि अगर इस्लाम पाकिस्तान सहित कितने ही दूसरे देशों का आधिकारिक धर्म हो सकता है और बहुत से देशों का राष्ट्रीय धर्म ईसाई धर्म है, तो हिंदुत्व भारत का आधिकारिक धर्म क्यों नहीं हो सकता? वो भी तब जब देश का बँटवारा हुआ ही धर्म के नाम पर था।

ये तो उल्टा मुस्लिम देशों से उत्पीड़ित होकर आए हिन्दुओं को भी भारत में शरण देने का विरोध कर रहे हैं। फिर हिंदू किस देश में जाएगा? CAA के विरोध में ये लोग सड़कों पर ऐसे जम गए जैसे इस सड़क के संवैधानिक बैरिकेड्स हों। इस विरोध का सीधा सपाट मतलब यही है कि पाकिस्तान ने तुम्हें निकाल दिया, हिन्दुस्तान में हम तुम्हें रहने नहीं देंगे।

सारा मानवाधिकार गधे के सींग की तरह गायब हो गया। या हिंदू मानव की श्रेणी में नहीं आता? या भारत को शुरू में ही हिंदू राष्ट्र न बनाना गलती थी? बन जाता तो कम से कम आज उन उत्पीड़ित हिन्दुओं के लिए इस दुनिया में कहीं तो जगह होती। इतने स्पष्ट विरोधाभासों के बावजूद जो लोग उदारवाद के नाम पर इन घनघोर अनुदारवादी विचारों के पक्षधर बन जाते हैं, उनका सच और न्याय से कोई नाता नहीं है। ऊपर से धर्म निरपेक्षता और अभिव्यक्ति की आजादी के ढिंढोरे के शोर में चलती तुष्टिकरण की छेनियाँ देश की अखंडता को तार-तार करने पर तुली हैं, लेकिन फर्क किसे पड़ता है?

जिसे देखो वही हमें बिन माँगी सीख देने आ जाता है। अतिथि बनकर दूसरों के घर में लूट मचाने वाले अंग्रेज हमें कहते रहे कि हम असभ्य हैं, इसलिए वो हमें सभ्यता सिखाने आए हैं और हम में से बहुत से मान भी गए। जिस भारत ने दुनिया को विकसित हड़प्पा सभ्यता दी, उस पर हड़पने की सभ्यता थोंप दी गई और उस पर भी तुर्रा ये कि हम पिछड़े और वो सभ्यता के ब्रह्मा, विष्णु, महेश।

अब सामने हैं चरमपंथी, उग्रवादी, अराजक वाममार्गी जो सर्वाधिक सहिष्णु हिंदुत्व को उदारता और धर्म निरपेक्षता सिखा रहे हैं। जिन्हें चार गाँवों में बहुसंख्यक होते ही अपना अलग वर्चस्व चाहिए वो देश की अस्सी प्रतिशत धर्म निरपेक्ष आबादी को असहिष्णु बता रहे हैं। जैसी सभ्यता और उदारता इन लोगों के द्वारा औरों को सिखाई जा रही है, उसका एक अंश भी कोई इस्तेमाल कर ले तो धरती से शांति सदा के लिए गायब हो जाएगी।

दिल्ली दंगों में ताहिर हुसैन की जगह किसी हिंदू के खिलाफ चार्जशीट दाखिल हो जाती तो क्या कोहराम मच जाता, इसकी आप कल्पना कर सकते हैं। लेकिन अब ये रोना शुरू हो चुका है कि उसे मुसलमान होने की सजा मिल रही है। कुछ लोगों ने हथिनी का भी धर्म देख लिया, लेकिन अब जब गिरफ्तार आरोपितों के नाम सामने आ गए तो दोहरे मानदंडों वाले विश्लेषक इस पूरे केस को हाथी के साइज से घटाकर चींटी जितना बना डालेंगे। ऐसे आचरण को विशुद्ध हिंदी भाषा में पाखंड कहते हैं।

इस भारत धरा पर अब एक पाखंड खंडिनी ध्वजा राजनैतिक और सामाजिक क्षेत्र में भी गाड़ने की जरूरत है, ताकि इन दोहरे मानदंडों के पाखंड को सोचने पर मजबूर किया जा सके। ‘कंटकेनैव कंटकम्’ मतलब ये कि काँटा, काँटे से ही निकलता है, कॉटन से नहीं। इन कुतर्की लोगों को इन्हीं की भाषा में जवाब देना होगा। ये तभी संभव है जब भारत का नागरिक जागरूक और न्यायशील बनेगा।

हर व्यक्ति अपने स्तर से इस पाखंड का खंडन करे, किसी भी माध्यम से, चाहे आपको सुनने वाले एक या दो लोग ही क्यों न हों। याद करें अपने बचपन के जज्बातों को। तब हममें से किसने नहीं चाहा था कि हम भी देश के लिए कुछ करना चाहते हैं। जागरूक होना और दूसरों को भी जागरूक बनाना उस कुछ करने का सबसे अनिवार्य हिस्सा है, लोकतंत्र का सबसे बड़ा हथियार है और हर एक के वश की बात है।

ऋषि दयानंद ने मनुष्य की परिभाषा बताते हुए लिखा है, “मनुष्य उसी को कहना जो मननशील होकर अपने समान औरों के सुख-दुःख और हानि-लाभ को समझे। अन्यायकारी बलवान से कभी न डरे और धर्मात्मा निर्बल से भी डरता रहे।” इसलिए मनुष्य बनें और बिना डरे अपनी अभिव्यक्ति की आजादी का उपयोग करें। हमारी स्वाभाविक उदारता, अतिथि सत्कार और सहिष्णुता का मानव मूल्यों से रहित स्वार्थी ताकतों ने हमेशा गलत फायदा उठाया है। हमें ये सुनिश्चित करना है कि अब ऐसा न हो।

एक गुणी व्यक्ति ही किसी दूसरे के गुण की कीमत समझ सकता है। स्वार्थी व्यक्ति नहीं। इसलिए इससे पहले कि ये प्रोपेगेंडा संचालित लोग अपने कुतर्कों से आपको अपने से ही नफ़रत करना सिखा दें, आपको जागना होगा। अपनी विशेषताओं को पहचानें और खुद पर लग रहे आरोपों का थोड़ा तुलनात्मक अध्ययन करें, वरना ये ‘उल्टा चोर कोतवाल को डाँटे’ का खेल यूँ ही चलता रहेगा और आप खुद को चोर समझने भी लगेंगे।

हो सकता है कि कुछ युवाओं को इस जागरूकता अभियान में शामिल होना पिछड़ापन लगे, क्योंकि ज्यादातर पढ़े-लिखे युवा ही इस वामपंथी मायाजाल में जकड़े हुए हैं। लेकिन हमें ये भी याद रखना चाहिए कि बदलाव के मोड़ पर ये संशय एक आम बात है, जिसमें व्यक्ति का निर्णय ही उसे सही या गलत साबित करता है। 

आइए अंत में एक विचार पवित्र वेद संहिता का भी सुनते चलें। जो वेद हमें सहिष्णुता सिखाते हैं, वही हमें ये भी सिखाते हैं कि असामाजिक तत्वों का क्या समाधान करना है। क्रांति के नाम पर दंगे भड़काने वाले अराजक तत्वों के प्रति राज्य का क्या कर्तव्य है। इसके लिए वेद में लिखा गया है,

विजानीहि आर्यान् ये च दस्यवो बर्हिष्मते रन्धया शासदव्रतान्।
शाकी भव यजमानस्य चोदिता विश्वेत्ता ते सधमादेषु चाकन।।

इसका मतलब है, “हे शासक! अपने राज्य के अच्छे सृजनशील लोगों और निर्माण की अपेक्षा ध्वंसात्मक कार्यों में रूचि रखने वालों अर्थात् इन दोनों ही प्रकृति के लोगों को जानो। यजनशील कार्यों यानी परहित में लगे व्यक्तियों की रक्षा करो और कुत्सित अर्थात् निंदनीय कार्यों में संलिप्त लोगों को कठोर दंड दो। प्रजा पालन के लिए राजा को राज्य के भीतर के दस्युओं को दंड देना है और बाह्य शत्रुओं से युद्ध करना है। इस कर्तव्य को शक्तिशाली शासक ही निभा सकता है, इसलिए तुम शक्तिशाली बनो।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Dr. Amita
डॉ. अमिता गुरुकुल महाविद्यालय चोटीपुरा, अमरोहा (उ.प्र.) में संस्कृत की सहायक आचार्या हैं.

ख़ास ख़बरें

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

नक्सलियों की तरह DSP का काटा सर-पाँव, सभी 8 लाशों को चौराहे पर जलाने का था प्लान: विकास दुबे की दरिंदगी

विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने माओवादियों की तरह पुलिस पर हमला किया था। लगभग 60 लोग थे। जिस तरह से उन लोगों ने...

बकरीद के पहले बकरे से प्यार वाले पोस्टर पर बवाल: मौलवियों की आपत्ति, लखनऊ में हटाना पड़ा पोस्टर

"मैं जीव हूँ मांस नहीं, मेरे प्रति नज़रिया बदलें, वीगन बनें" - इस्लामी कट्टरपंथियों को अब पोस्टर से भी दिक्कत। जबकि इसमें कहीं भी बकरीद या...

उनकी ही संतानें थी कौरव और पांडव: जानिए कौन हैं कृष्ण द्वैपायन, जिनका जन्मदिन बन गया ‘गुरु पूर्णिमा’

वो कौरवों और पांडवों के पितामह थे। महाभारत में उनकी ही संतानों ने युद्ध किया। वो भीष्म के भाई थे। कृष्ण द्वैपायन ने ही वेदों का विभाजन किया। जानिए कौन थे वो?

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

5.5 लाख रुपए, नेताओं-सरकारी बाबूओं की लिस्ट और सोशल मीडिया: विकास दुबे को ऐसे घेर रही UP पुलिस

आपराधिक नेटवर्क को जड़ से ख़त्म करने के लिए यूपी पुलिस द्वारा विकास दुबे को संरक्षण और समर्थन देने वालों की सूची बनाई जा रही, जिसने उसकी मदद की।

प्रचलित ख़बरें

जातिवाद के लिए मनुस्मृति को दोष देना, हिरोशिमा बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

काफिरों को देश से निकालेंगे, हिन्दुओं की लड़कियों को उठा कर ले जाएँगे: दिल्ली दंगों की चार्ज शीट में चश्मदीद

भीड़ में शामिल सभी सभी दंगाई हिंदुओं के खिलाफ नारे लगा रहे और कह रहे थे कि इन काफिरों को देश से निकाल देंगे, मारेंगे और हिंदुओं की लड़कियों को.......

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

इजरायल ने बर्बाद किया ईरानी परमाणु ठिकाना: घातक F-35 विमानों ने मिसाइल अड्डे पर ग‍िराए बम

इजरायल ने जोरदार साइबर हमला करके ईरान के परमाणु ठिकानों में दो विस्‍फोट करा दिए। इनमें से एक यूरेनियम संवर्धन केंद्र है और दूसरा मिसाइल निर्माण केंद्र।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

उत्तराखंड: रात में 15 साल की बच्ची को घर से उठाया, जुनैद और सुहैब ने किया दुष्कर्म

रेप की यह घटना उत्तराखंड के लक्सर की है। आरोपित एक दारोगा के सगे भाई बताए जा रहे हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

उस रात विकास दुबे के घर दबिश देने गई पुलिस के साथ क्या-क्या हुआ: घायल SO ने सब कुछ बताया

बताया जा रहा है कि विकास दुबे भेष बदलने में माहिर है और अपने पास मोबाइल फोन नहीं रखता। राजस्थान के एक नेता के साथ उसके बेहद अच्छे संबंध की भी बात कही जा रही है।

अपने रुख पर कायम प्रचंड, जनता भी आक्रोशित: भारत विरोधी एजेंडे से फँसे नेपाल के चीनपरस्त PM ओली

नेपाल के PM ओली ने चीन के इशारे पर नाचते हुए भारत-विरोधी बयान तो दे दिया लेकिन अब उनके साथी नेताओं के कारण उनकी अपनी कुर्सी जाने ही वाली है।

काली नागिन के काटने से जैसे मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे: TMC सांसद कल्याण बनर्जी

टीएमसी नेता कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को लेकर विवादित बयान दिया है। उनकी तुलना 'काली नागिन' से की है।

‘अल्लाह ने अपने बच्चों को तनहा नहीं छोड़ा’: श्रीकृष्ण मंदिर में मालिक ने की तोड़फोड़, ‘हीरो’ बता रहे पाकिस्तानी

पाकिस्तान के स्थानीय मुसलमानों ने इस्लामाबाद में बन रहे श्रीकृष्ण मंदिर में तोड़फोड़ मचाने वाले मलिक को एक 'नायक' के रूप में पेश किया है।

रोती-बिलखती रही अम्मी, आतंकी बेटे ने नहीं किया सरेंडर, सुरक्षा बलों पर करता रहा फायरिंग, मारा गया

कुलगाम में ढेर किए गए आतंकी से उसकी अम्मी सरेंडर करने की गुहार लगाती रही, लेकिन वह तैयार नहीं हुआ।

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

पाकिस्तानी घोटाले से जुड़े हैं हुर्रियत से गिलानी के इस्तीफे के तार, अलगाववादी संगठन में अंदरुनी कलह हुई उजागर

सैयद अली शाह गिलानी के इस्तीफ को पाकिस्तान के मेडिकल कॉलेज में एडमिशन को लेकर गड़बड़ियों से जोड़कर देखा जा रहा है।

सुरक्षाबलों ने ओडिशा के कंधमाल में 4 नक्सलियों को किया ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

ओडिशा के कंधमाल जिले में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में चार नक्सलियों के मारे जाने की खबर है।

मूवी माफियाओं के पसंदीदा बने रहने के लिए बॉलीवुड में बाहर से आए भी करते हैं चापलूसी: कंगना ने तापसी को घेरा

कंगना रनौत एक बार फिर सुर्ख़ियों में। उन्होंने बॉलीवुड पर हावी नेपोटिज्म के खिलाफ इस बार तापसी पन्नू को आड़े हाथो लेते हुए कहा कि...

हमसे जुड़ें

234,622FansLike
63,120FollowersFollow
269,000SubscribersSubscribe