Thursday, May 23, 2024
Homeविचारमीडिया हलचलजिंदा होते चंदा बाबू तो तेजाब से भी तेज उन्हें गलाता ज्ञानेश्वर की थेथरई,...

जिंदा होते चंदा बाबू तो तेजाब से भी तेज उन्हें गलाता ज्ञानेश्वर की थेथरई, आतंकी की बेवा के लिए बिछने वाले को पत्रकार क्यों कहे

ट्वीट में ज्ञानेश्वर ने दिखाया कि शहाबुद्दीन कितना बड़ा सेकुलर था। उन्होंने ट्वीट में कहा कि शहाबुद्दीन ने कभी हिंदू-मुस्लिम नहीं किया था और उसके रहते हुए कभी दंगे भी नहीं होते थे। इसके अलावा उसे कुरान और गीता का भी ज्ञान था।

बिहार के एक ‘पत्रकार’ हैं- ज्ञानेश्वर। खुद को निष्पक्ष बताते हैं, पर सोशल मीडिया में आए दिन उनकी पीतकारिता दिख ही जाती है। इस बार उनकी पीतकारिता के प्रताप से धन्य हुईं हैं हिना शहाब। हिना शहाब आतंकी शहाबुद्दीन की बेवा हैं और सीवान से निर्दलीय मैदान में हैं।

एक्स/ट्विटर पर उम्मीदवारों के लिए पोस्ट करते वक्त अक्सर जमीनी फैक्ट और दलाली के बीच का अंतर भूल जाने वाले ज्ञानेश्वर ने हिना शहाब के लिए बैटिंग करते हुए शहाबुद्दीन का महिमामंडन किया है। उसे सेकुलर बताने के लिए गीता की गंगा तक बहा दी है।

ज्ञानेश्वर ने इस ट्वीट में शहाबुद्दीन की बेवा के चुनावी मैदान में चुन्नी-माला ओढकर निर्दलीय उतरने पर खुशी जताई। इसके अलावा सबसे हैरान करने वाली बात ये थी कि उन्होंने ट्वीट में शहाबुद्दीन के सारे दोषों को नकारते हुए उसे इतना हल्का दिखाया जैसे माफिया पर कोई छोटे-मोटे आरोप हों जिन्हें आसानी से नजर अंदाज किया जा सकता है। 

ट्वीट की भाषा देखें तो इसमें ज्ञानेश्वर ने लिखा शहाबुद्दीन को ‘दिवंगत’ लिखा। साथ ही पूरे सम्मान के साथ कहा-“उन्होंने जो कुछ किया, लेकिन कभी हिन्दू-मुस्लिम नहीं किया।” इतना ही नहीं ये भी कहा कि शहाबुद्दीन के रहते सीवान में दंगा कोई सोच भी नहीं सकता था। आगे पत्रकार महोदय ने शहाबुद्दीन के पढ़ने-लिखने की शौक की तारीफ की और उसे सेकुलर दिखाते हुए कहा कि ‘उनसे गीता-कुरान दोनों पर बात की जा सकती थी।’

जिस हिसाब से ज्ञानेश्वर का ये ट्वीट किया गया है उसे देख ऐसा लगता है कि वो शहाबुद्दीन के सारे गुनाहों को भुला चुके हैं और बीड़ा उठाया है कि हीना शहाब के प्रचार के लिए किसी भी तरह जनता की स्मृतियों से वो शहाबुद्दीन की दुर्दांत अपराधी की छवि बदल दें।

हालाँकि, ये काम इतना आसान नहीं है जितना ज्ञानेश्वर मानकर बैठे हैं। उनकी बेशर्मी है कि वो बिहार से होते हुए शहाबुद्दीन की याद सीवान के लोगों को दिला सकते हैं लेकिन इतना इमान उनमें नहीं बचा है कि वो हीना शहाब के मैदान में उतरने पर चंदा बाबू को याद करके जनता को बता दें कि इन दोनों नामों के बीच क्या कनेक्शन है। पर बिहार की जनता ऐसी नहीं है। उन्हें जितना शहाबुद्दीन याद है उससे ज्यादा बिहार के चंदा बाबू याद हैं।

अच्छा है आज वो चंदा बाबू दुनिया में नहीं हैं वरना खुद को एक पत्रकार कहने वाले शख्स के ऐसे विचार देख उन्हें अथाह दुख पहुँचता। ऐसा दुख, जिसकी भरपाई ज्ञानेश्वर की चाशनी में डूबी भाषा नहीं कर पाती। ज्ञानेश्वर की तरह चंदा बाबू भी बिहार से ही थे, उनका परिवार भी एक समय तक हँसता-खेलता साथ रहता था। मगर, ये सब तब तक था जब तक कि शहाबुद्दीन की नजर उनके परिवार पर नहीं पड़ी। जिस दिन ऐसा हुआ उस दिन ज्ञानेश्वर के ‘सेकुलर’ शहाबुद्दीन ने उनके दो बेटों को तेजाब से नहलाकर मौत के घाट उतार दिया और जब तीसरे बेटे ने न्याय लेने की कोशिश की तो उसकी भी हत्या करवा दी गई।

साल 2020 में लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे चंदा बाबू आखिरी सांस लेने से पहले सालों तक न्याय की गुहार लिए दर-दर भटके थे। जब उनकी तस्वीर आती थी तो अपनी पत्नी के साथ तीनों बेटों की तस्वीर को हाथ में लिए दिखते थे। उनका दुख इतना बड़ा था कि सामान्य व्यक्ति अगर चंदा बाबू के दर्द को सोच ले तो आज भी उसकी रूह कांप जाए लेकिन उन्हें भुलाकर शहाबुद्दीन का महिमामंडन करना सिर्फ ज्ञानेश्वर जैसे पत्रकार ही कर सकते हैं जिन्हें चंदा बाबू के दर्द से कोई सरोकार तक नहीं और उनका प्रोफेशन सिर्फ ‘दलाली’ करना रह गया है।

अजीब बात ये है कि ज्ञानेश्वर ने जिस शहाबुद्दीन को हीरो दिखाकर पेश करने का प्रयास किया है उसके खिलाफ एक दो ममाले नहीं बल्कि पूरे 56 मुकदमे थे जिसमें से उसे 6 में सजा भी हो गई थी। उसने अपराध की दुनिया में पाँव जमाना अपने करियर के शुरुआती समय से शुरू कर दिया था लेकिन पहली एफआईआर उसके खिलाफ 1986 में हुई थी। इसके बाद 2016 में भी उसका नाम एक पत्रकार की हत्या में आया था।

2005 में जब सीवान के एसपी और डीएम ने शहाबुद्दीन के घर छापेमारी की तो उसके यहाँ पाकिस्तान निर्मित कई गोलियाँ, एके-47 सहित ऐसे उपकरण मिले था। इसके अलावा नाइट गॉगल्स और लेजर गाइडेड समेत कई चीजें मिली थीं, जिनपर पाकिस्तना ऑडिनेंस फैक्ट्री की मुहर लगी थी। छापेमारी के बाद बिहार के पूर्व डीजीपी ओझा ने अपने कार्यकाल में शहाबुद्दीन के आईएसआई कनेक्शन के बारे में खुलासा किया था। उन्होंने पूरी 100 पेज की रिपोर्ट सौंपी थीं। लेकिन उस समय राबड़ी देवी सरकार थी और उन्होंने उसे पद से हटा दिया था।

ये सिर्फ चंद मामले हैं जो शहाबुद्दीन के मीडिया के सामने हैं। इसके अलावा स्थानीय स्तर पर उसके खौफ की कहानी तमाम हैं। बावजूद उन सबके ज्ञानेश्वर जैसे पत्रकार चुनाव आने पर ऐसे माफियाओं का महिमामंडन करते मिलते हैं तो समझना मुश्किल होता है कि खुद को निष्पक्ष कहने वाले लोगों के लिए निष्पक्ष होने की परिभाषा क्या है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

‘प्यार से माँगते तो जान दे देती, अब किसी कीमत पर नहीं दूँगी इस्तीफा’: स्वाति मालीवाल ने राज्यसभा सीट छोड़ने से किया इनकार

आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल ने अब किसी भी हाल में राज्यसभा से इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -