Friday, January 15, 2021
Home देश-समाज हत्यारा शहाबुद्दीन 3 दिन पहले मिला अपने बीवी-बच्चों से, 6 दिन पहले चंदा बाबू...

हत्यारा शहाबुद्दीन 3 दिन पहले मिला अपने बीवी-बच्चों से, 6 दिन पहले चंदा बाबू को नहीं नसीब हुआ बेटों का कंधा

तिहाड़ में बंद हत्यारा मोहम्मद शहाबुद्दीन 6-6 घंटे के लिए दिल्ली में कहीं भी परिवार से मुलाकात कर सकता है। - यह कोर्ट का आदेश था। पूरी सुरक्षा में शहाबुद्दीन अपने बीवी-बेटों से मिला भी। उधर 3 बेटों को खो देने वाले चंदा बाबू नहीं रहे।

सीवान का सांसद रहा मोहम्मद शहाबुद्दीन फ़िलहाल दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है। दिल्ली हाईकोर्ट ने निर्देश पर उसे 18 घंटों के लिए अपने परिजनों से मुलाकात के लिए समय दिया गया। कड़ी सुरक्षा में उसे परिजनों से मुलाकात कराया गया। उच्च-न्यायालय ने सशर्त पैरोल के तहत उसे सुविधा दी थी कि वो 6-6 घंटे के लिए दिल्ली में कहीं भी मुलाकात कर सकता है। ये सब चंदेश्वर प्रसाद उर्फ़ चंदा बाबू की मृत्यु के बाद हो रहा है, जिनके 3 बेटों को शहाबुद्दीन ने मार डाला था।

चंदा बाबू ज़िंदगी भर अपने बेटों की हत्या के मामले में न्याय के लिए केस लड़ते रहे। न्यायपालिका, विधायिका या कार्यपालिका – कहीं से उन्हें कुछ नहीं मिला। बिहार में जंगलराज के दौरान जब शासन-प्रशासन के सभी अंग राजद सुप्रीमो के इशारे पर नाचा करते थे और शहाबुद्दीन उनका ही दुलारा हुआ करता था, ऐसे में भला कोई न्याय की उम्मीद करे भी तो कैसे। ये वो जमाना था, जब शहाबुद्दीन के खिलाफ चुनाव लड़ना भी मौत को दावत देने के समान था।

पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के 90 वर्षीय अब्बा शेख मोहम्मद हसीबुल्लाह का सितम्बर 19 को निधन हो गया था। अपने अब्बा को सुपुर्द-ए-ख़ाक करने की रस्म में शामिल होने के लिए उसने हाईकोर्ट से अनुमति माँगी थी। निधन के दूसरे और तीसरे दिन अवकाश था, ऊपर से कोरोना काल के कारण इस पर सुनवाई नहीं हो सकी। शहाबुद्दीन सीवान नहीं जा सका, जिसके बाद उसने अपने अब्बा के ‘चालीसवें’ में वहाँ जाने की अनुमति माँगी।

जब उच्च-न्यायालय ने उसे सीवान भेजने के सम्बन्ध में दिल्ली और बिहार की सरकारों से रिपोर्ट माँगी तो दोनों ने ही हाथ खड़े कर दिए। ये बताता है कि बिहार तो दूर, दिल्ली का शासन-प्रशासन आज 90 के दशक के ख़त्म हुए 20 वर्ष बीत जाने के बावजूद शहाबुद्दीन के क्रियाकलापों पर लगाम कसने में खुद को नाकाम पाता है, खासकर जब वो जेल से बाहर हो। उसे तिहाड़ भी इसीलिए शिफ्ट किया गया था, क्योंकि बिहार के जेल से वो बेधड़क अपना साम्राज्य चला रहा था।

दोनों राज्यों ने यहाँ तक कह दिया कि अगर एक बटालियन जवान पूरे के पूरे लगा दिए जाएँ, फिर भी शहाबुद्दीन के बाहर आने के बाद क़ानून-व्यवस्था को संभालना मुश्किल है। शहाबुद्दीन के लोग अभी भी हर जगह हो सकते हैं, ये संभावना भी जताई जा रही है। वो एक बार बाहर निकलने पर किस-किस से किस कार्य के लिए संपर्क करेगा, किसी को नहीं पता। लेकिन, फिर भी वो परिजनों से मिलने के बहाने बाहर आने में कामयाब रहा।

कोर्ट ने दिल्ली सरकार को आदेश दिया था कि वो तय दिशा-निर्देशों के हिसाब से शहाबुद्दीन को उसके परिजनों से मिलवाए। इसी प्रक्रिया के तहत उसे बाहर लाया गया। सोमवार, बुधवार और शनिवार को उसने अपने परिजनों से मुलाकात की, दिल्ली में अपने ही एक करीबी के फ्लैट पर। कहा जा रहा है कि तीन साल दो महीने के बाद उसने अपनी बीवी हेना शहाब, बेटा मोहम्मद ओसामा, अम्मी और दोनों बेटियों से मुलाकात की।

उसकी बीवी हेना शहाब भी RJD की ही नेता है और 2 बार चुनाव लड़ कर हार भी चुकी है। इस दौरान शहाबुद्दीन जेल में ही था। मीडिया के सूत्र कह रहे हैं कि उसकी एक बेटी डॉक्टर है और एक डॉक्टर बनने वाली है। एक बेटी का तो निकाह भी एक डॉक्टर से ही लगभग तय हो गया है। शहाबुद्दीन को कोर्ट ने छूट दी थी कि वो दिल्ली में कहीं भी अपने परिजनों से मुलाकात कर सकता है, अपनी चुनी हुई जगह पर।

शहाबुद्दीन मामूली अपराधी नहीं है। पाकिस्तान और ISI तक से उसके सम्बन्ध सामने आ चुके हैं, ऐसे में वो देश के लिए भी खतरा है। लोगों की नजर में वो किसी आतंकी से कम नहीं। ऐसे में उसे जेल में ही अपने परिजनों से मुलाकात करने को कहा जा सकता था। बिहार और दिल्ली की सरकारों को कम से कम हाईकोर्ट से अनुरोध करना चाहिए था कि जेल में ही परिजनों को ले जाकर उससे मुलाकात करवाई जाए।

एक तरफ एक व्यक्ति 16 वर्षों से अपने बेटे की हत्या के लिए न्याय माँगते हुए दर-दर भटकता रहा, दूसरी तरफ उसकी मौत के बाद ही हत्यारा गैंगस्टर अपने परिजनों से मजे में मिल रहा है। एक तरफ चंदा बाबू ने रोते हुए ज़िंदगी बिताई, शहाबुद्दीन के खौफ के कारण कोई उनके साथ दिखना तक नहीं चाहता था, वहीं दूसरी तरफ शहाबुद्दीन जब-जब पूर्व काल में जेल से बाहर आया, उसका भव्य स्वागत किया गया।

16 अगस्त 2004 को चंदा बाबू के दो बेटे तेजाब से नहला दिए गए थे। 16 जून 2014 को बड़े बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अब 16 दिसंबर 2020 को चंदा बाबू खुद दुनिया से विदा हो गए। चंदा बाबू ने उस वक्त शहाबुद्दीन के खिलाफ खड़ा होने का फैसला, किया जिस वक्त उसकी तूती बोलती थी। उसके डर से कोई भी खड़ा होने की हिम्मत नहीं कर पाता था। उस वक्त वे न केवल खड़े हुए, बल्कि अपना सब कुछ गवाँ भी दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

NDTV की निधि ने खरीद लिया था हार्वर्ड का टीशर्ट, लोगों को भेज रही थी बरनॉल… लेकिन ‘शिट हैपेन्स’ हो गया!

पोटेंशियल हार्वर्ड एसोसिएट प्रोफेसर निधि राजदान ने कहा कि प्रोफेसर के तौर पर ज्वाइन करने की बातें हार्वर्ड नहीं बल्कि 'व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी' से जारी की गईं थीं।

बिलाल ने ‘आश्रम’ वेब सीरीज देखकर जंगल में की युवती की हत्या, धड़ से सिर अलग कर 2 KM दूर गाड़ा

पुलिस का कहना है कि 'आश्रम' वेब सीरीज के पहले भाग की थीम की तरह ही ओरमाँझी में बिलाल ने इस हत्या को भी अंजाम दिया और लाश को ठिकाने लगाया।

जिसने सुशांत के लिए लिखा- नखरे दिखाने वाला, उसने करण जौहर की मेहरबानी के बाद छोड़ी ‘पत्रकारिता’

करण जौहर ने राजीव मसंद को अपने नए वेंचर का सीओओ बनाया है। मसंद ने लेखों के जरिए सुशांत की छवि धूमिल करने की कोशिश की थी।

BHU में शुरू होगा हिंदू अध्ययन: प्राचीन शास्त्रों से लेकर सैन्य विज्ञान तक में छात्रों को किया जाएगा पारंगत

भारत में यह पहला मौका है जब इस कोर्स के तहत देश में सनातन परंपरा, ज्ञान मीमांसा सहित तत्व विज्ञान लेकर सैन्य विज्ञान जैसे प्राचीन हिंदू शास्त्रों को एकेडमिक स्वरूप प्रदान किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

बुर्के ही बुर्के: किसान आंदोलन में बुर्के वाले भी आ गए हैं; सनद रहे रतनलाल को बुर्केवालियों ने ही घसीट कर मारा था

लोकतांत्रिक अधिकारों के नाम पर इनका कहीं भी एकत्रित होते जाना उस दृश्य को ताजा करता है जब शाहीन बाग के विकराल रूप के कारण कम से कम 50 परिवारों ने अपने सपूतों को गँवाया।

UP: मूत्र विसर्जन के बहाने पिस्टल छिनकर भाग रहे ₹1 लाख के इनामी बदमाश को लगी STF की गोली

STF की टीम यमुना एक्सप्रेस-वे के रास्ते अनूप को मथुरा ले जा रही थी, लेकिन इस बीच भागने की कोशिश करने पर वो पुलिस की गोली का शिकार हो गया।

फेमस डॉक्टर की 18 साल की बेटी को फैज ने फँसाया, रेप किया, वीडियो बनाया… फिर 4 दोस्तों से भी गैंगरेप करवाया

बरेली में 18 साल की एक लड़की के साथ बॉयफ्रेंड फैज़ शेरी ने ही अपने 5 दोस्तों के साथ मिल कर गैंगरेप किया। किशोरी का वीडियो भी वायरल कर दिया।

13 साल के नाबालिग का जबरन लिंग परिवर्तन करवाकर होता रहा बलात्कार, स्टेशन पर मँगवाई गई भीख: केस दर्ज

शुभम का लिंग परिवर्तन करवाने के बाद आरोपितों ने मिलकर उसका सामूहिक बलात्कार किया और पैसे के बदले दूसरे लोगों से भी उसका बलात्कार करवाया।
00:06:17

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

कॉन्ग्रेस नेता ने दिया ममता बनर्जी को विलय का सुझाव, कहा- BJP को हराने का नहीं है कोई दूसरा विकल्प

कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने टीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आगामी चुनावों में अकेली बीजेपी के खिलाफ नहीं लड़ सकती हैं।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

मलेशिया ने कर्ज न चुका पाने पर जब्त किया पाकिस्तान का विमान: यात्री और चालक दल दोनों को बेइज्‍जत करके उतारा

मलेशिया ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाते हुए PIA (पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइन्‍स) के एक बोईंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

गंगा किनारे खोजी गई 50 से अधिक पुरातात्विक साइट: प्रयागराज में ASI ने किया बड़े पैमाने पर सर्वेक्षण

इसमें कई प्रकार की मिट्टी की मूर्तियाँ, माइक्रोलिथ, मनके एवं प्रस्तर, लोहे, हड्डी और हाथी दांत से बने उपकरण, मृदभांड और बहुमूल्य पत्थर बरामद किए गए हैं।

NDTV की निधि ने खरीद लिया था हार्वर्ड का टीशर्ट, लोगों को भेज रही थी बरनॉल… लेकिन ‘शिट हैपेन्स’ हो गया!

पोटेंशियल हार्वर्ड एसोसिएट प्रोफेसर निधि राजदान ने कहा कि प्रोफेसर के तौर पर ज्वाइन करने की बातें हार्वर्ड नहीं बल्कि 'व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी' से जारी की गईं थीं।

चोटी गुहल कनिया रहिए गेल: NDTV में रहीं निधि राजदान को हार्वर्ड ने कभी नहीं बुलाया, बताई ठगे जाने की व्यथा

वह महामारी के कारण सब चीजों को नजर अंदाज करती रहीं लेकिन हाल ही में उन्हें इन चीजों को लेकर शक गहराया और उन्होंने यूनिवर्सिटी के शीर्ष प्रशासन से संपर्क किया तो...

बिलाल ने ‘आश्रम’ वेब सीरीज देखकर जंगल में की युवती की हत्या, धड़ से सिर अलग कर 2 KM दूर गाड़ा

पुलिस का कहना है कि 'आश्रम' वेब सीरीज के पहले भाग की थीम की तरह ही ओरमाँझी में बिलाल ने इस हत्या को भी अंजाम दिया और लाश को ठिकाने लगाया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
380,000SubscribersSubscribe